Tuesday, August 11th, 2020

सिरदर्द साबित हुआ जुलाई, मिले 11 लाख पॉजिटिव केस

कोरोना वायरस का कहर वैसे तो भारत में मार्च से ही जारी है, मगर जुलाई महीने में इसने अपना अब तक का भयावह रूप दिखाया है। सिर्फ जुलाई महीने में देशभर में कोरोना वायरस से 11 लाख से अधिक लोग संक्रमित हुए हैं। वहीं अब तके कुल कोरोना वायरस के मामलों की बात करें तो यह आंकड़ा 16 लाख पार कर गया है। शुक्रवार को भारत में कोरोना ने अब तक के सारे रिकॉर्ड तोड़े और एक दिन में 55 हजार से अधिक मामले दर्ज किए गए। इस तरह से 31 जुलाई तक के आंकड़ों को मिला लें तो जुलाई महीने में कोरोना वायारस के 11.1 लाख पॉजिटिव केस सामने आए, वहीं 19122 लोगों की मौतें हुईं।

अगर पिछले महीने के आंकड़े से तुलना करें तो जुलाई में करीब 2.8 गुना ज्यादा मामले दर्ज किए गए और 1.6 दुना मौतें दर्ज की गईं। बता दें कि पिछले महीने जून में करीब 4 लाख कोरोना केस दर्ज किए और 11988 मौतें दर्ज हुईं। आज यानी शनिवार को भी 57 हजार से अधिक कोरोना संक्रमित मिले हैं, इससे यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि कोरोना अभी और तबाही मचाएगा।
दरअसल, कोरोना वायरस महामारी के जैसे-जैसे दिन बीतते जा रहे हैं, प्रकोप और भी ज्यादा भयावह होते जा रहा है। जुलाई के पहले दो सप्ताह में करीब 7.3 लाख कोरोना केस दर्ज किए गए थे। यानी महीने के पहले दो सप्ताह में संक्रमण की रफ्तार अंतिम के दो सप्ताह की तुलना में थोड़ा कम था। यहां ध्यान देने वाली बात है कि भारत में अभी भी कोरोना का पीक नहीं आया है, ऐसा एक्सपर्ट दावा कर रहे हैं।

देश में एक दिन में कोविड-19 के सर्वाधिक 55,078 मामले सामने आने के बाद इस बीमारी के कुल मरीजों की संख्या शुक्रवार को 16 लाख के पार पहुंच गई। इससे महज दो दिन पहले देश में संक्रमण के 15 लाख मामले थे। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के डेटा के मुताबिक स्वस्थ होने वालों की संख्या भी बढ़कर 10,57,805 हो गई थी।

फिलहाल, कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या देश में 36,511 हो गई है। कोरोना वायरस से मौत के मामले में दुनियाभर में भारत पांचवें नंबर पर पहुंच गया है। भारत से आगे अब बस चार देश ही बचे हैं, जिनमें अमेरिका, ब्राजील, ब्रिटेन और मैक्सिको है। अमेरिका में कोरोना वायरस से जहां 156,747 मौतें हुई हैं, वहीं ब्रिटेन में 46,119, ब्राजील में 92,568 और मैक्सिको में 46,688  लोगों की मौत हुई है। PLC.

Comments

CAPTCHA code

Users Comment