Close X
Tuesday, November 24th, 2020

सार्वजनिक धन का इस्तेमाल घटिया सामग्री खरीदने में हो रहा है

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि पीएम केयर्स कोष में अपारदर्शिता से भारतीयों का जीवन खतरे में पड़ रहा है। इसबीच कांग्रेस पार्टी ने कोरोना रोगियों के लिए घटिया वेंटिलेटर खरीदने का आरोप लगाया। राहुल गांधी ने ट्वीट किया, पीएम केयर्स में सार्वजनिक धन का इस्तेमाल घटिया सामग्री खरीदने में हो रहा है। उन्होंने एक खबर को भी टैग किया, जिसके अनुसार एक निजी कंपनी घटिया गुणवत्ता वाले वेंटिलेटर मुहैया करा रही है। ये वेंटिलेटर पीएम केयर्स कोष से खरीदे गए हैं। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने भी ट्वीट किया, वेंटिलेटर घोटाला। 50 हजार वेंटिलेटर के लिए आवंटित दो हजार करोड़ रुपये में से 23 जून तक केवल 1340 वेंटिलेटर की आपूर्ति हुई। खुली निविदा नहीं हुई।

 

प्रति वेंटिलेटर बताई गई डेढ़ लाख रुपये की राशि के बजाए चार लाख रुपये में इन्हें खरीदा गया। डिजिटल संवाददाता सम्मेलन में कांग्रेस के प्रवक्ता गौरव वल्लभ ने सवाल किया कि सरकार 22 जून तक सिर्फ 1340 वेंटिलेटर क्यों खरीद सकी, जबकि 31 मार्च को 50 हजार वेंटिलेटरों का ऑर्डर दिया गया था। उन्होंने कहा कि असल खरीद भाजपा प्रमुख जे पी नड्डा के दावे के विपरीत है, जिसमें उन्होंने कहा था कि देश में जून के अंत तक 60,000 वेंटिलेटर होंगे। वल्लभ ने यह भी आरोप लगाया कि वेंटिलेटरों के लिए ऑर्डर देने में भ्रम की स्थिति रही तथा देरी की गई। कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा, ‘‘देश में जिस तरह से कोरोना वायरस के मामले बढ़ रहे है, वह चिंताजनक है। मैं प्रार्थना करता हूं कि (बीमारी का) चरम जल्दी आए और देश को वायरस से छुटकारा मिले। PLC.

Comments

CAPTCHA code

Users Comment