नई दिल्लीः देश की सबसे हाई-प्रोफाइल सीट भोपाल से कांग्रेस उम्मीदवार दिग्विजय सिंह की जीत का दावा करने वाले और उनकी जीत के लिए 5 क्विंटल मिर्ची से यज्ञ करने वाले महामंडलेश्वर वैराग्यानंद गिरी महाराज (मिर्ची बाबा) इन दिनों गायब चल रहे हैं. लोकसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद से ही बाबा की तलाश की जा रही है, लेकिन अभी तक कोई भी उनसे संपर्क नहीं कर पाया है. जिसके चलते कया लगाए जा रहे हैं कि शायद मिर्ची बाबा अंडरग्राउंड हो गए हैं. 


दरअसल, चुनाव से पहले मिर्ची बाबा ने दिग्विजय सिंह को जिताने के लिए 5 क्विंटल मिर्ची का हवन किया था. बाबा ने साथ ही पूरी मीडिया के सामने दावा किया था कि भोपाल में कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय सिंह ही जीतेंगे. अगर भोपाल में कोई अन्य प्रत्याशी जीतता है तो वह जल समाधि ले लेंगे. ऐसे में अब पूरी मीडिया बाबा कि तलाश में लगी है, कि आखिर बाबा गए कहां, लेकिन कोई भी बाबा से संपर्क नहीं कर पा रहा है.
 

बता दें बाबा भोपाल में लोकसभा चुनाव संपन्न होने से पहले यहां आए थे और दिग्विजय सिंह की जीत के लिए 5 क्विंटल मिर्ची का यज्ञ किया था. स्वामी वैराग्यानंद ने इस हवन के माध्यम से दिग्विजय सिंह के जीत की कामना की थी. साथ ही यह संकल्प भी लिया था कि अगर दिग्विजय सिंह भोपाल में हारे तो वह जल समाधि ले लेंगे. अब जब लोकसभा चुनाव के रिजल्ट आ गए हैं तो बाबा कहीं गायब हो गए हैं.


बता दें दिग्विजय सिंह के लिए सिर्फ मिर्ची बाबा ने ही नहीं, बल्कि भाजपा से राज्यमंत्री रह चुके कम्पयूटर बाबा ने भी करीब 7 हजार साधू-संतों के साथ हवन-यज्ञ किया था. जिसके बाद बाबा और दिग्विजय सिंह पर चुनाव आयोग का कहर भी फूटा था, क्योंकि बाबा ने यज्ञ और प्रचार में खर्च हुई धनराशि का हिसाब नहीं दिया था. ऐसे में आयोग ने यज्ञ और साधु-संतों द्वारा दिग्विजय सिंह के पक्ष में किए प्रचार-प्रसार का पूरा खर्च भी दिग्विजय सिंह के ही खाते में जोड़ दिया था. PLC