Close X
Thursday, October 1st, 2020

सवर्णों की नज़र में-हाथी के दांत खाने के और, दिखाने के और

  •  ब्राह्मण, क्षत्रिय, वै'यों का पहले उपयोग फिर तिरस्कार बसपा को महंगा पड़ेगा
  •  ब्राह्मण वर्ग रा"ट्रवाद और धर्म पर आघात करने वाली भ्र"ट ताकतों को बर्दा'त नहीं करता।
  •   भारतीय संस्कृति में ब्राह्मणों को समाज का मुख कहा गया है परन्तु उन्हें समझ में आ गया है कि बसपा के लिए ये मुख नहीं केवल मुखौटे हैं।
  •  बसपा एवं उसके सहयोगी साहित्य में सवणोzं के लिए ही नहीं बल्कि देवी-देवताओं के लिए भी अपमानजनक टिप्पणियां आज भी पढ़ाई जाती हैं।
उत्तर प्रदे'ा के चुनावी समर पर पूरे दे'ा की निगाहें लगी हैं। 2014 के भावी लोकसभा चुनाव की बानगी साबित होगा यह चुनाव। प्रदे'ा का चुनावी परिदृ'य काफी दिलचस्प है। जातीय समीकरणों की चर्चा जरूरत से ज्यादा है। ब्राह्मण, क्षत्रिय, वै'य, पंजाबी, ख़त्री, कायस्थ आदि सवर्ण जाति के मतदाताओं को भी जाति आधारित खांचों में देखा जा रहा है।
उ.प्र. की सत्ता पर सवार होते ही बसपा की मुख्यमंत्री मायावती ने भा"ाा बदली, भाव नहीं। उन्होंने  पहले ब्राह्मणों का साथ लेकर सत्ता हथियाई और फिर ब्राह्मणों को अपमानित करना 'ाुरू कर दिया।  मायावती ने पहले ब्राह्मणों को लालबत्ती देकर अपने को ब्राह्मणों का हितै"ाी साबित किया। फिर धीरे-धीरे ब्राह्मणों का विरोध ही नहीं अपमानित करने में भी उन्होंने कोई कोर कसर नहीं छोड़ी। ब्राह्मणों को कम मंत्री पद दिए, जिन्हें दिए उन्हें हटा दिया, चाहे वह रंगनाथ मिश्र हों या राके'ाधर त्रिपाठी या अनन्त कुमार मिश्र।
ब्राह्मणों को पहले पदारूढ़ करना और फिर पद्दलित करना बसपा की सियासत है। आइएएस अधिकारियों में भी बसपा ने पहले उनका उपयोग किया फिर चुन-चुनकर  ब्राह्मण अधिकारियों को अपमानित किया, जिसमें वी.एस. पाण्डेय जैसे कई उदाहरण हैं। और बाद में बसपा के सबसे बड़े ब्राह्मण मुखौटे सती'ा चन्द्र मिश्र भी मुख्यमंत्री के चहेते अधिकारियों के आगे बेबस नज़र आए। ब्राह्मण विरोधी बसपा की राजनीति देखकर ब्राह्मण मतों का झुकाव भाजपा की ओर हो गया है।
पूरा हिन्दुस्तान जानता है कि `स्टेट गेस्ट house काण्ड´ जिसमें अगर भाजपा नेता स्व. ब्रह्मदत्त द्विवेदी न पहुंचते तो मुलायम समर्थक सपा के गुण्डों द्वारा मायावती को जान बचाना मुि'कल हो जाता। मायावती और उनकी सरकार स्व. द्विवेदी को सत्तामद में भूल गई।  मायावती ने द्विवेदी के पुत्र के साथ भी सम्मानजनक व्यवहार नहीं किया।
ब्राह्मणवाद का दावा करने वाली बसपा ने 2007 की अपेक्षा इस बार के विधानसभा चुनाव में ब्राह्मणों को टिकट भी कम दिए हैं। कांग्रेस ने भी ब्राह्मणों को मात्र 35 टिकट दिए जबकि भाजपा ने 78 टिकट ब्राह्मणों को और 74 टिकट क्षत्रिय नेताओं को दिए। क्षत्रिय नेताओं के प्रति भी बसपा का रवैया हमे'ाा से ही घनघोर विरोधी रहा है।
भाजपा सांस्कृतिक मुद्दों को उठाने वाली लोकतांत्रिक party होने के कारण ब्राह्मण और अन्य सवर्ण वर्ग की पहली पसंद है। भाजपा के दिग्गज नेता पूर्व प्रधानमंत्री अटल विहारी वाजपेयी, मुरली मनोहर जो'ाी, colourाज मिश्र, केसरीनाथ त्रिपाठी, रमापतिराम त्रिपाठी जैसे आदि ब्राह्मण नेताओं ने कभी भी जातीय राजनीति को तरजीह नहीं दिया। इन नेताओं ने ब्राह्मणों सहित सभी वर्गों को सम्मान देते हुए हमे'ाा रा"ट्र की मुख्यधारा में जोड़ने की सियासी पहल की। हरिजनवाद, मुस्लिमवाद, यादववाद आदि वादों का विरोध किया है।
ब्राह्मण, क्षत्रिय और वै'यों सहित सभी वगोंz को सपा, बसपा की जाति उन्मादी अल्पसंख्यकवाद की राजनीति बुरी लगी। पिछड़ों का हक मारा गया। राजनाथ सिंह सरकार ने अतिदलित, अतिपिछड़ों को वास्तविक आरक्षण का क़ानून दिया। बसपा ने खारिज किया। यह बात ब्राह्मणों, क्षत्रियों व वै'यों को भी बुरी लगी है। सरकार की ओर से किसी भी वर्ग और अन्य सवणोzं को किसी भी प्रकार का लाभ नहीं मिला। कांग्रेस ने कई व"ाोzं तक सत्ता का लाभ उठाया। जाति उन्माद की गाड़ी पर सवार सपा ने भी सत्ता का लाभ उठाया।
बसपा का कोई सिद्धांत नहीं। उसने कमजोर वर्गों को अपने पाले में करने के लिए तिलक, तराजू और तलवार-इन्हें मारो जूते चार´ की नारेबाजी की। तिलक को ब्राह्मणों का, तराजू को वै'यों का व तलवार को क्षत्रियों का प्रतीक जाना गया। बसपा ने तीनों के विरुद्ध अभियान चलाया। उसने निर्दो"ा दलितों को गोलबंद करने की जाति उन्मादी राजनीति चलाई। चुनावी राजनीति के लिए एक अधिवक्ता को ब्राह्मण चेहरा बनाया। उन्हीं के अनेक रि'तेदारों को सत्ता के पद दिए गए। लेकिन भ्र"टाचार के कारण बसपा की साख गिरती रही तो उसने अल्पसंख्यकों की हितै"ाी बनने का ि'ागूफा छोड़ा। 2012 के विधानसभा चुनाव में बसपा अपने नए चेहरे के साथ चुनाव मैदान में है। सामान्य वर्ग का मतदाता पूरी तौर पर बसपा से छिटक गया है।
ब्राह्मणों की हितै"ाी होने का दावा करने के बाद भी आज तक मायावती ने ई'वर के नाम की न 'ापथ नहीं ली और न ही मंदिर में जाकर मत्था टेका। जासूसी के लिए विख्यात `विकीलics´ ने इस बात का दावा किया था कि किसी विदे'ाी राजनयिक से श्री सती'ा चन्द्र मिश्र ने स्वयं कहा था कि `मुख्यमंत्री भ्र"ट और निरंकु'ा हैं। ऐसी बातें लाख दाबी जायं, दबती नहीं हैं। बसपा सरकार का चरित्र सबके सामने आया। दलित एक्ट के फ़र्जी मुक़दमों की बाढ़ आई। अगड़े पिछड़े फ़र्जी मुक़दमों का ि'ाकार हुए। दलित एक्ट के सही मुक़दमें दर्ज़ नहीं हुए। बसपा ने दौलत के अलावा किसी भी वर्ग पर गौर ही नहीं किया।
श्रीराम जन्मभूमि मंदिर व रा"ट्रवाद सवणोzं को प्रिय है। इस बार कांग्रेस के मजहबी आरक्षणवाद का गुस्सा है। बसपा-सपा द्वारा केन्द्र में कांग्रेस नेतृत्व वाली केन्द्र सरकार को खुला समर्थन दिया जा रहा है। लेकिन उ.प्र. में नूराकु'ती है। मतदाताओं को केन्द्र में तीनों का साथ साफ़ दिखाई पड़ रहा है।
भ्र"टाचार में आकण्ठ डूबी केन्द्र की कांग्रेसी एवं राज्य की बसपा सरकार से प्रदे'ा का युवा वर्ग भी चिढ़ा बैठा है। युवा वर्ग को
मताधिकार तो प्राप्त हो गया है लेकिन रोजी-रोजगार का अधिकार बसपा और कांग्रेस ने नहीं दिया। इस बार युवाओं का बढ़ा मत बसपा के लिए मारक साबित होगा। युवाओं की बात करने वाले कांग्रेस के युवराज राहुल गांधी हैरान हैं। सपा के अखिले'ा यादव की बात कोई सुनने को तैयार नहीं। यह वर्ग भाजपा से ही उम्मीद कर जुड़ता जा रहा है।
पढ़ा-लिखा युवा 'ाहरी मध्य वर्ग अैर सवर्ण जातियां भ्र"टाचार को लेकर आज आक्रोि'ात हैं। सपा एवं बसपा के मुख्यमंत्री भ्र"टाचार के मामलों में चार्ज'ाीटेड हैं एवं कांग्रेस के अनेक मंत्रियों पर मुक़दमें चल रहे हैं। 2जी मामले पर जांच करने वाली संसदीय कमेटी की report रुकवाने के लिए जिस बे'ार्मी से सपा-बसपा ने कांग्रेस का समर्थन किया था उस कारण से युवा एवं सवर्ण वर्ग इन तीनों से काफी नाराज है। अत: भ्र"टाचार से मुक्ति के लिए युवा वर्ग, ि'ाक्षित वर्ग, सवर्ण एवं वि'ो"ाकर ब्राह्मणों में भाजपा की तरफ़ एक गहरा रुझान दिख रहा है।
कांग्रेस ने भी इस बार ब्राह्मणों के टिकट आधे और मुसलमानों के टिकट डेढ़ गुने कर दिए हैं यानी ब्राह्मणों का हिस्सा मुसलमानों को दिया है। ब्राह्मण, क्षत्रिय, वै'य वर्ग बदलाव के पक्ष में है ताकि सूबे से जातिवादी, मजहबी राजनीति और भ्र"टाचार समाप्त हो।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment