ओम प्रकाश धनखड़  आई एन वी सी न्यूज़ओम प्रकाश धनखड़  आई एन वी सी न्यूज़आई एन वी सी न्यूज़
हरियाणा
हरियाणा के कृषि एवं सिंचाई मंत्री ओम प्रकाश धनखड़ ने कहा है कि सरस्वती नदी न केवल भारतीय संस्कृति का प्रतीक है बल्कि इसका सम्बन्ध ज्ञान से भी है। नासा के वैज्ञानिकों ने इस नदी के प्रवाह की पुष्टि कर इसके प्रति लोगों की काल्पनिक सोच को दूर किया है और यमुनानगर जिले के मुगलवाली में इसका उदगम स्थल मिला है और इसका प्रवाह मार्ग राजस्थान के रास्ते कच्छ तक माना गया है और इस कड़ी में वैज्ञानिकों के साथ-साथ इतिहासकार व साहित्कार अपने शोध कार्यों को अंजाम दे रहे हैं और वह दिन दूर नहीं जब हरियाणा सरकार का सरस्वती नदी को धरातल पर लाने का सपना पूरा होगा।
श्री धनखड़ आज पिहोवा में राष्ट्रीय समाज विज्ञान परिषद तथा सरस्वती धरोहर विकास बोर्ड के संयुक्त तत्वाधान में अयोजित राष्ट्रीय अधिवेशन में मुख्य अतिथि के रूप में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकार सरस्वती नदी के विकास के प्रति गम्भीर है तथा सरस्वती हैरिटेज बोर्ड के लिए 50 करोड़ रुपये के बजट का प्रावधान किया गया है। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में सरस्वती नदी के उदगम स्थल को एक संस्कृति पर्यटन केन्द्र के रूप में विकसित करने की योजना है। इस अवसर पर अपने स्वैच्छिक कोटे से 5 लाख रुपये अनुदान देने की भी घोषणा की।
इस अवसर पर मुख्य संसदीय सचिव श्री श्याम सिंह राणा, सरस्वती विकास बोर्ड के उपाध्यक्ष व हरियाणा लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष श्री भारत भूषण भारती, इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय की प्रति कुलपति सुषमा यादव, प्रो. नागेश्वर राव, महाराजा अग्रसेन विश्वविद्यालय, हिमाचल प्रदेश के बद्दी के कुलपति प्रो. विजय सिंह ठाकुर, यशंवत सिंह परमार कृषि एंव बागवानी विश्वविद्यालय, नौणी के कुलपति आर्चाय अरूण दिवाकार नाथ वाजपेयी, हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय, शिमला के कुलपति प्रो. एपी पांडेय, कुरूक्षेत्र विश्वविद्यालय के भूगर्भ विभाग के डॉ. रमेश हुडडा, मुख्य वैज्ञानिक, हरियाणा राज्य अंतरिक्ष अनुप्रयोग केन्द्र के वैज्ञानिक डॉ. अश्विनी महापात्रा के अलावा अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here