मुख्यमंत्री हरीश रावतआई एन वी सी न्यूज़ ,
देहरादून,
राज्य सरकार मलिन बस्तियों को निर्मल बस्तियों के रूप में विकसित करने के लिए तत्पर है। रिस्पना व बिंदाल नदियों के किनारे रिवर फ्रन्ट विकसित कर यहां निर्धन वर्ग के लोगों को दुकानें आवंटित की जाएगी। नगर निगम हाॅल में राष्ट्रीय एकता सप्ताह के अंतर्गत निर्बल वर्ग दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में बोलते हुए मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि मलिन बस्तियों की समस्याओं का समाधान करने के लिए योजनाबद्ध तरीके से काम किया जा रहा है।
सीएम ने कहा कि एमडीडीए को अल्प आय वर्ग के लिए मल्टीस्टोरी आवास बनाने के लिए निर्देशित किया गया है। पूर्व प्रधानमंत्री स्व. इंदिरा गांधी को स्मरण करते हुए सीएम ने कहा कि वे दुनिया की सबसे लोकप्रिय प्रधानमंत्री थी, आधुनिक व आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में इंदिरा जी का योगदान कभी भुलाया नहीं जा सकता है।
सीएम ने कहा कि राज्य सरकार वंचित वर्गाें के साथ है। समाज कल्याण की विभिन्न पंेशनराशियों को 400 रू. से बढ़ाकर 800 रू. कर दिया गया है। साथ ही इसके लिए एक हजार रूपये की आय सीमा को बढ़ाकर चार हजार रूपये किया गया है। इससे आवेदकों की संख्या तीन गुना से ज्यादा हो गई है। पति के मानसिक रूप से विक्षिप्त होने पर भी पेंशन की व्यवस्था की गई है। हमारी कन्या हमारा अभियान योजना प्रारम्भ की गई है। हम रेहड़ी, पटरी वालों के हक में कानून बनाये जा रहे हैं।
सीएम ने कहा कि मलिन बस्तियों को विकसित किया जाएगा, परंतु नए अवैध अतिक्रमण को स्वीकार नहीं किया जाएगा। स्वच्छता कर्मियों की राशि में एक हजार रूपये की बढ़ोतरी का प्रयास किया जा रहा है। देहरादून के पुराने बस अड्डे में वंेडरों को स्थान दिया जायेगा।
शहरी विकास का ढ़ांचा विकसित किया जा रहा है। घरों के ऊपर से जाने वाली बिजली लाईनों को हटानें की योजना को स्वीकृति दी गई है। इस पर आने वाले खर्च का 30 प्रतिशत सम्बंधित विधायक द्वारा अपनी विधायक निधि से, 30 प्रतिशत राज्य सरकार द्वारा व 40 प्रतिशत पाॅवर काॅरपेशन द्वारा वहन किया जायेगा।
मुख्यमंत्री श्री रावत ने इससे पूर्व 1621.23 लाख रूपये की विभिन्न विकास योजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास किया। इस अवसर पर प्रदेश कांग्रेंस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय, संसदीय सचिव व विधायक राज कुमार, नगर निगम देहरादून में नेता प्रतिपक्ष नीनू सहगल सहित अन्य महानुभाव व मलिन बस्तियों से आये लोग बढ़ी संख्या में उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here