मारिया गिब्राईल 

फरनांडो डि नोरोन्हा (ब्राजील).  अटलांटिक महासागर में एयर फ्रांस के विमान का मलबा मिला है। इससे विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने की पुष्टि हो गई है। विमान में 228 मुसाफिर सवार थे। समझा जाता है कि विमान में सवार सभी मुसाफिर मर चुके हैं।

ब्राजील के सैन्य विमानों ने कल सबुह समुद्र में उस जगह कुछ मलबा देखे जाने की जानकारी दी थी, जहां एयर फ़्रांस का विमान लापता हुआ था.

रक्षामंत्री नेल्सन जाबिम के मुताबिक़ मलबे के मिलने से इस बात की पुष्टि हो गई है कि विमान महासागर में गिरा.  इस मलबे में धात्विक और अधात्विक टुकड़े शामिल हैं। एयरबस ए 330 के मुसाफिरों में से किसी की भी लाश  अभी तक नहीं मिली है। यहां महासागर की गहराई 2000 या 3000 मीटर हो सकती है। इसलिए मलबे को तलाशने में बहुत मुश्किल का सामना करना पड़ रहा है. विमान के काकपिट वायस और डाटा रिकार्डर तथा अन्य हिस्सों को खोज पाना मुश्किल होगा, क्योंकि ज़्यादातर मलबा महासागर में डूब चुका है।

 
उधर, फ्रांस ने जांच के लिए एक विशेष जहाज घटनास्थल की ओर रवाना किया है, जो मानव रहित पनडुब्बियों से सुसज्जित है। पनडुब्बि्यां महासागर में लगभग 6000 मीटर की गहराई तक जा सकती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here