Saturday, October 19th, 2019
Close X

सपा, बसपा और कांग्रेस भ्रष्टाचार और अपराध की कॉकटेल

shrikant-sharmaआई एन वी सी न्यूज़ नई दिल्ली, सपा, बसपा और कांग्रेस भ्रष्टाचार और अपराध की कॉकटेल है। बुआ (बहन जी), बबुआ (अखिलेश यादव) और युवराज (राहुल गांधी) ने 15 सालों में मिलकर यूपी को लूटने का काम किया है। इन तीनों ने मिलकर यूपी को विकास के दौर में पीछे रहने को मजबूर कर दिया। सपा-बसपा की सरकारों ने हमेशा भ्रष्टाचारियों और अपराधियों को संरक्षित व पोषित करने का ही काम किया। इतना ही नहीं, केंद्र में सोनिया-मनमोहन की यूपीए सरकार के 12 लाख करोड़ के घपले-घोटाले में भी सपा, बसपा और कांग्रेस बराबर की भागीदार थी।  सपा, बसपा एवं कांग्रेस भ्रष्टाचार का पर्याय बन चुकी है और जनता इनके कारनामों से अपने आपको ठगा हुआ महसूस कर रही है।

मायावती और अखिलेश-मुलायम के फ्रस्ट्रेशन से साफ़ है कि यूपी में भाजपा की पूर्ण बहुमत की सरकार बनने वाली है, इसमें किसी को कोई संदेह नहीं है। इसलिए अपनी विफलताओं को छुपाने के लिए और यूपी की जनता का ध्यान प्रदेश की समस्याओं से भटकाने के लिए सपा-बसपा अनर्गल बयानबाज़ी कर रही है और बौखलाहट में झूठे, असत्य व निराधार आरोपों की राजनीति कर रहे हैं। एक तरफ जहां प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी देश से भ्रष्टाचार और कालेधन को ख़त्म करने में लगे हैं वहीं सपा, बसपा और कांग्रेस प्रधानमंत्री को हटाने एवं भ्रष्टाचारियों-अपराधियों को बचाने में लगी है। बुआ, बबुआ और युवराज में यह बौखलाहट व बेचैनी इसलिए है क्योंकि कालेधन और घोटालों से अर्जित उनका मोटा माल रद्दी में तब्दील हो गया है।

प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्त्व में पिछले ढाई सालों में केंद्र में भारतीय जनता पार्टी की जो ‘सबका साथ, सबका विकास' करने वाली भ्रष्टाचार विहीन, निर्णायक और पारदर्शी सरकार चली है, उससे उत्तर प्रदेश के लोगों में आशा व उम्मीद की नई किरण जगी है। भारतीय जनता पार्टी हमेशा से ‘पॉलिटिक्स ऑफ़ परफॉरमेंस' की राजनीति में यकीन रखती है इसलिए हमें बार-बार जनता का आशीर्वाद मिलता है। यूपी में भारतीय जनता पार्टी के पक्ष में परिवर्तन की लहर नहीं, परिवर्तन की सुनामी चल रही है जिससे सपा, बसपा और कांग्रेस के होश उड़ गए हैं। वैसे भी मायावती, अखिलेश और राहुल अपने अस्तित्त्व को बचाए रखने की अंतिम लड़ाई लड़ रहे हैं।

प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी ने पद संभालने के बाद उत्तर प्रदेश के विकास के लिए कई विशेष परियोजनाओं की शुरुआत की ताकि उत्तर प्रदेश को विकास के पथ पर तेज गति से अग्रसर किया जा सके। राज्य की जनता में मोदी सरकार की गाँव, गरीब और किसानों की भलाई के लिए चलाये जा रहे जन-कल्याणकारी योजनाओं को लेकर ज़बर्दस्त उत्साह है। सपा, बसपा और कांग्रेस को मोदी सरकार की ये जन-कल्याण की योजनाएं पच ही नहीं रही है, इन तीनों के पैरों के नीचे से उत्तर प्रदेश में जमीन पूरी तरह से खिसक चुकी है और इसलिए वे बौखलाहट में मोदी सरकार पर बेसिरपैर के बेबुनियाद आरोप लगाकर बदनाम करने की नाकाम साज़िश रच रहे हैं। सपा, बसपा और कांग्रेस की राजनीति गरीबों को गरीब बनाये रखने की है, ये उत्तर प्रदेश को विकास के मुख्य धारा में लाना ही नहीं चाहते।

2014 के लोक सभा चुनाव में ही उत्तर प्रदेश की जनता ने अपना मत स्पष्ट कर दिया था कि अब देश में गरीब एवं विकास विरोधी राजनीति नहीं चलने वाली। सपा, बसपा और कांग्रेस कभी दलित, कभी गरीब और कभी एक विशेष समुदाय की भावना को भड़काकर उसकी आड़ में अपने काले कारनामों को छुपाने की वोट बैंक पॉलिटिक्स करती आई है। इन लोगों को न तो देश के विकास से कोई लेना-देना है, न गरीब व किसानों की भलाई से और न ही बहन-बेटियों की सुरक्षा से।

अब यूपी के विकास का वक्त आ गया है, सपा, बसपा और कांग्रेस मिलकर भी यूपी को विकास के दौर से पीछे नहीं रख सकती। भारतीय जनता पार्टी उत्तर प्रदेश की जनता को पूर्ण रूप से भ्रष्टाचार, अपराध और कुशासन से मुक्ति दिलाने के लिए प्रतिबद्ध हैं - न भ्रष्टाचार न अपराध, अबकी बार भाजपा सरकार।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment