कुरुक्षेत्र । हरियाणवी लोक कलाकार (डांसर) सपना चौधरी ने भाजपा का दामन थाम लिया है और वे अब नेता वाले अंदाज में आ गई है। वहीं हरियाणा विधानसभा चुनावों में बड़ी जीत के लिए सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी ने आगामी विस चुनाव में पुन: राज्य में सत्ता हासिल करने के लिए सपना चोधरी जरिए 75 प्लस का संपना संजोया है। यहां कांग्रेस ने भी अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। चुनावों से पहले ही दोनों ही पार्टियां रणनीति बनाने में जुटी हुई हैं। एक तरफ कोशिश दोबारा सत्ता हासिल करने की है तो दूसरी तरफ भाजपा को बेदखल कर खुद सत्ता में आने की है। कांग्रेस अपनी नई रणनीति के तहत राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी को यहां चुनाव प्रचार की कमान देने की तैयारी में है। इसके साथ ही यह भी खबर है कि अगर हरियाणा में सपना का जादू चल गया तो फिर पार्टी उन्हें दिल्ली से विधानसभा भेजने की भी तैयारी में है।


बता दें कि गुरुग्राम में 2016 में एक विवादों से अचानक चर्चा में आईं सपना चौधरी पहले कांग्रेस में ही शामिल होना चाहती थी। उन्होंने प्रियंका गांधी से मुलाकातें भी कीं। पर, ऐन मौके पर भोजपुरी फिल्मों के गायक, अभिनेता और दिल्ली में भाजपा के प्रमुख नेता मनोज तिवारी पार्टी में सपना चौधरी को लाने में कामयाब हो गए। हालांकि सपना चौधरी ने भाजपा दिल्ली में ही जॉइन किया, पर जेजेपी नेता दिग्विजय सिंह ने एक विवादास्पद बयान देकर सपना का रास्ता हरियाणा में भी खोल दिया है।
असल में लोकसभा चुनावों में चेहरा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी थे और मुद्दा देश की सुरक्षा का था। हरियाणा विधानसभा चुनावों में चेहरा मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर हैं और मुद्दे घर-घर की कहानी की तरह स्थानीय हैं। लोकसभा चुनावों में भी जब प्रियंका गांधी ने रोहतक और अंबाला में दौरा किया तो भीड़ देखने के बाद दोनों जगह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दौरा करना पड़ा था। हालांकि दो दिन रोहतक में भाजपा के कार्यकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और प्रदेश के सभी बीजेपी नेताओं ने तैयारियों में खूब पसीना बहाया है। इस बार टारगेट 75 प्लस है। सूबे के इतिहास में चौधरी देवीलाल ने 1987 में अधिकतम 90 में से 85 सीटें जीती थी। भाजपा के सूत्रों का कहना है कि यह रेकॉर्ड तोड़ना है। अभी केंद्रीय अमित शाह का भी यहां दौरा होना है और उसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दौरा करेंगे।


राजनीति के जानकारों का कहना है कि मजबूत स्थिति के बावजूद भाजपा यहां किसी तरह का रिस्क नहीं लेना चाहती। वह अपने टारगेट को ध्यान में रखते हुए, उसी के अनुरूप आगे बढ़ रही है। इसी रणनीति के तहत सपना चौधरी को हरियाणा में चुनाव प्रचार के लिए लाया जाएगा। सूत्रों का कहना है कि सपना संभव है चुनाव प्रचार के दौरान किसी प्रकार का भाषण नहीं दें। हां, पर मंच मौजूद जरूर रहेंगी। उधर, चुनावों में प्रचार कार्यक्रम को तय कर रहे नेताओं का मानना है कि सपना चौधरी को प्रदेश में जगह-जगह होने वाले रोड शो में लाया जाए ताकि प्रियंका के लिए होने वाली भीड़ का जवाब सपना चौधरी का दीदार करने आने वालों की भीड़ से दिया जा सके। अगर ऐसा होता है तो रोड शो के दौरान वाहन पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल और प्रत्याशियों के साथ-साथ सपना चौधरी भी दिखाई देंगी। PLC.