Close X
Sunday, June 13th, 2021

सत्र की शुरुआत से ही हो रहा हंगामा

राज्यसभा में आज राष्ट्रपति के धन्यवाद प्रस्ताव और किसानों के मुद्दे पर चर्चा चल रही है। इस दौरान भाजपा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के बाद जब कांग्रेस सांसद दिग्विजय सिंह का नाम आया तो ठहाके लगे। तब सभापति ने कहा, ‘इसमें मैंने कोई बदलाव नहीं किया है। जो लिस्ट में था मैंने उसी के हिसाब से नाम लिया।’ इस पर दिग्विजय सिंह भी मुस्कुरा दिए।

दिग्विजय ने सिंधिया को अपना पक्ष बेहतर ढंग से रखने के लिए बधाई दी। उन्होंने कहा, ‘सिंधिया जिस तरह यूपीए सरकार का पक्ष रखते थे, उसी तरह आज इस सरकार का रख रहे हैं। वाह जी महाराज वाह। हमारा आशीर्वाद आपके साथ है और रहेगा।’ इस पर सिंधिया ने कहा, ‘आपका ही आशीर्वाद है।’ सिंधिया ने कोरोना के दौर में मोदी सरकार के फैसलों की जमकर तारीफ की।

सिंधिया बोले- भारत ने कोरोना के बाउंसर को बाउंड्री के पार भेजा

भाजपा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया कोरोना एक अदृश्य शत्रु था। दुनिया में करोड़ों लोग संक्रमित हुए, 20 लाख जानें गईं, लेकिन भारत ने कोरोना के बाउंसर को शॉट लगाकर बाउंड्री पार करा दिया है। अभी एवरेज ग्लोबल रिकवरी रेट 70% है। भारत में यह सबसे ज्यादा 97% है। कोरोना की दूसरी लहर भारत को छू भी नहीं पाई, क्योंकि नेतृत्व ने सही समय पर सही फैसले लिए।

राजद के सांसद मनोज कुमार ने किसानों का मुद्दा उठाया

राज्यसभा में गुरुवार को सुनवाई शुरू होते ही किसानों का मुद्दा उठा। राष्ट्रीय जनता दल के सांसद मनोज कुमार झा ने कहा कि बिहार देश भर में लेबर सप्लाई करने वाला राज्य बन गया है। यहां मिनिमम सपोर्ट प्राइज खत्म होने के बाद किसान खेतिहर मजदूर बन गए। आप चाहते हैं कि पंजाब और हरियाणा के किसान भी उनकी तरह हो जाएं। उन्होंने कहा कि देश का लोकतंत्र बहुत मजबूत है।
झा ने एक कविता भी पढ़ी...

‘यदि देश की सुरक्षा यही होती है कि बिना जमीर होना जिंदगी के लिए शर्त बन जाए, आंख की पुतली में हां के सिवाय कोई भी शब्द अश्लील हो और मन बदकार पलों के सामने दंडवत झुका रहे तो हमें देश की सुरक्षा से खतरा है।’

सत्र की शुरुआत से ही हो रहा हंगामा
इससे पहले कृषि कानूनों के मुद्दे पर अलग से चर्चा की मांग कर रहे विपक्ष के विरोध के कारण दोनों सदनों की कार्यवाही बार-बार

स्थगित करनी पड़ी थी। कांग्रेस, DMK, आम आदमी पार्टी और शिरोमणि अकाली दल के सांसदों ने बुधवार को वेल में पहुंचकर कृषि कानूनों के खिलाफ नारेबाजी की। वहीं, लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला ने सदन में हंगामा कर रहे सांसदों को नसीहत दी कि लोगों ने आपको उनके मुद्दे उठाने के लिए वोट दिया है, नारे लगाने के लिए नहीं। इस तरह के बर्ताव से सदन की गरिमा कम होती है।

चौधरी बोले- देश की छवि खराब हो रही

कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि यह मामला देश की छवि को नुकसान पहुंचा रहा है। इससे हम चिंतित हैं। चौधरी ने राष्ट्रपति के अभिभाषण और किसानों के मुद्दे पर अलग से चर्चा की मांग की। संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा कि उनकी विपक्षी दलों के नेताओं के साथ बात हुई है। वे राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा के लिए सहमत हैं। PLC.

Comments

CAPTCHA code

Users Comment