Tuesday, February 25th, 2020

संविधान की प्रस्तावना पढ़ना हुआ अनिवार्य

पुणे,महाराष्ट्र के सभी कॉलेजों में 19 फरवरी से राष्ट्रगान अनिवार्य होगा। राज्य सरकार में मंत्री उदय सामंत ने बुधवार को यह जानकारी दी। तकनीकी और उच्च शिक्षा मंत्री उदय सामंत ने कहा कि राज्य सरकार एक अधिसूचना जारी करके सभी कॉलेजों को 19 फरवरी (छत्रपति शिवाजी महाराज की जयंती) से अपना काम राष्ट्रगान के साथ शुरू करने के लिए कहेगी।

शिवसेना नेता सामंत ने पुणे में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा, 'हमने राष्ट्रगान को लेकर कुछ दिन पहले यह फैसला लिया था। निर्णय के अनुसार, राज्य के कॉलेजों में कामकाज राष्ट्रगान के साथ शुरू होगा। कॉलेजों में राष्ट्रगान अनिवार्य करने का यह फैसला सर्वसम्मति से लिया गया है। इसे प्रभावी बनाने को लेकर एक अधिसूचना जारी की जाएगी।'

संविधान की प्रस्तावना पढ़ना भी हुआ अनिवार्य
आपको बता दें कि पिछले महीने 26 जनवरी को शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी गठबंधन वाली सरकार ने स्कूली छात्रों के लिए सुबह की सभा के दौरान संविधान की प्रस्तावना पढ़ना अनिवार्य किया था। इसके अलावा महाराष्ट्र सरकार राज्य से सभी स्कूलों में 10वीं कक्षा तक मराठी भाषा की पढ़ाई भी अनिवार्य करने की तैयारी कर रही है।

राठी भाषा के मंत्री सुभाष देसाई ने बुधवार को बताया कि विधेयक का मसौदा तैयार किया जा रहा है और 24 फरवरी से शुरू हो रहे विधानसभा के बजट सत्र में इसे पेश किया जाएगा।उन्होंने पत्रकारों को बताया कि राज्य में 25,000 स्कूल हैं, जिनमें मराठी की पढ़ाई नहीं होती है। लेकिन एक बार विधेयक पारित हो जाने के बाद यहां चल रहे सभी स्कूलों के लिए अपने पाठ्यक्रम में मराठी भाषा की पढ़ाई को शामिल करना अनिवार्य हो जाएगा। PLC.
 

Comments

CAPTCHA code

Users Comment