Close X
Saturday, December 5th, 2020

संगठन के नेताओं सहित तमाम लोगों से सीधे तौर पर मिलने का सिलसिला शुरू

खबर में कहा गया कि आम कांग्रेसी प्रियंका गांधी को प्रियंका दीदी के रूप में बुलाते हैं और पिछले साल चुनाव में हार के बाद वह बेहद सक्रिय हो गई हैं।2019 के लोकसभा चुनाव में पार्टी की हार और उत्तर प्रदेश में पार्टी के बेहद खराब प्रदर्शन के बाद प्रियंका राज्यभर के लगभग पांच हजार पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं से पहले ही मुलाकात कर चुकी हैं।इतना ही नहीं उम्मीदवारों और वरिष्ठ नेताओं से मिलने के अलावा प्रियंका गांधी जिला समिति के प्रत्येक सदस्य से कम से कम 10 सदस्यों से मिली थीं।जो संगठन की ऑनग्राउंड वास्तविकता और पार्टी के भीतर के संकट का आकलन करने के लिए पहला कदम था।
प्रियंका गांधी एक मजबूत नींव रखने के लिए अथक प्रयास कर रही हैं जो एक बार फिर उनकी पार्टी को यूपी की राजनीति के मुख्य केंद्र तक पहुंचा सकती है। राज्य में डेढ़ साल बाद 2022 में विधानसभा चुनाव होने हैं। दूसरी ओर कहा जा रहा है कि कोरोना और लॉकडाउन के बादल छंटते ही कांग्रेस समेत कई अन्य दलों में उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव की राजनीतिक समीकरण बनाए जाने लगे हैं।इसके बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी भी सक्रिय हो गई हैं और अब संगठन के नेताओं सहित तमाम लोगों से सीधे तौर पर मिलने का सिलसिला शुरू कर दिया है।
पिछले दिनों इसी कड़ी में प्रियंका जेल से छूटे डॉ कफील खान के परिवार से मिलीं तो दूसरी तरफ यूपी कांग्रेस अध्यक्ष के साथ मुलाकात कर सूबे के सियासी हालात का जायजा लिया।प्रियंका कोरोना काल में संगठन और पार्टी नेताओं के साथ वर्चुअल बैठकें कर रही थीं, पर अब वन-टू-वन यानी सीधे तौर पर मुलाकात करने लगी हैं।उन्होंने इस हफ्ते सोमवार से पार्टी नेताओं से सीधे मुलाकात का सिलसिला शुरू किया है।इसके तहत वह कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू और अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष शाहनवाज आलम के साथ मुलाकात की।इस दौरान सूबे में पार्टी संगठन की रिपोर्ट ली।

 देश की आजादी के बाद कांग्रेस अपने सबसे बुरे दौर से गुजर रही है।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी के कई नेता अपने भाषणों में कांग्रेस मुक्त देश की बात अक्सर करते ही रहते हैं।लेकिन पार्टी का आलाकमान अपने स्तर पर कांग्रेस की चमक फिर से लौटाने की कोशिशों में जुटा हुआ है।इस बीच कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने दावा किया है कि प्रियंका गांधी चुपचाप तरीके से काम करते हुए एक बदलाव ला रही हैं।
सिंघवी ने ट्वीट कर कहा कि जबकि कांग्रेस की हार भारत में चर्चा का विषय रही है।वर्तमान स्थिति से बदलाव की आवश्यकता है, इस प्रियंका गांधी चुपचाप ला रही हैं।गलतियों और सुधार को स्वीकार करने के लिए बदलाव का यह पहला कदम है।
सिंघवी ने एक अंग्रेजी वेबसाइट में छपी खबर का लिंक शेयर किया जिसमें कहा गया कि पिछले साल लोकसभा चुनाव में हार के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा यूपी में चुपचाप तरीके से अपने मिशन में लगी हुई हैं, और वहां पर बदलाव की कोशिश में जुटी हैं। PLC.

 

Comments

CAPTCHA code

Users Comment