शिव कुमार झा टिल्लू की कविताएँ 

1 काव्या कैसी विवश प्रीति यह

कूकर में शक़्करविहीन
दलिया को सब्जी संग चढ़ाया
सीटी पर सीटी सुनता था
लेकिन उसे समझ ना पाया
एक छंद में उलझा बैठा
भाव-शिल्प ने रीति ना मानी
हे प्रेयसि ! क्यों भूल गयी तुम
ह्रदय विकल, पर प्रीति ना जानी
इतने में जलने का अनुभव
नाक संग आँखों से पाया
शक्ति के सृजन गृह को मैंने
अपनी भक्ति का केंद्र बनाया
कैसा यह दिक्दर्शन चिंतन ?
अगणित सीटी को समझ ना पाया
क्या तुमने इस नेह को देखा
आशुत्व ने कलुष जले को खाया !
फिर भी मन में ना आयी भावें
डूबी काव्य थार में नावें
किसी ने ना देखा सजल रीति यह
काव्या ! कैसी विवश प्रीति यह
कूकर क्या किचन जल जाए
पर ना कविमन तुम्हें भुलाए

*********************************

2 कहाँ- किसके संग खेलूँ होली ( बाल कविता )

एक नन्हा ने बोला माँ से
दरवाजे पर दादा की टोली
ठंढई संग आनंद रंग का
बड़े बड़े भांगों की गोली
आँगन में तो राज्य बुआ का
सखियों के संग रंग उड़ाती
क्षण हँसती और क्षण चिल्लाती
नहीं किसी से है शर्माती
पिछुआरे में चाचा और काकू
कुर्सी टेबुल पटक रहे हैं
लाल पानी में पानी मिलाकर
पता नहीं क्या गटक रहे हैं
द्वार सटे यही जगह बचा था
जहाँ मेरी होनी थी- होली
वहाँ आपने ने कपड़े फैलाकर
बिखेरे दही- बड़ी की गोली
नन्हे मुन्ने संगी साथी
कोई नहीं मेरे घर आते
काश ! मेरे भी डैडी होते
उनके संग तो गुलाल उड़ाते !
जगह नहीं कोई खाली सा
ना कोई है दोस्तों की टोली
ऐ माँ अब तू ही बतलाओ
कहाँ- किसके संग खेलूँ होली ?
मत उदास हो मेरे कान्हा
रसोई से जब मिलेगी फुर्सत
उसके बाद तो अपने लल्ला की
खूब करूँगी होली -खिदमत
हम दोनों यहाँ से हटकर
कान्हा के दरवार चलेंगें
सब देवों को गुलाल चढ़ाकर
तेरे पापा को नमन करेंगें
माँ बेटे के सिनेह दुलार से
नहीं बड़ी दूजे की होली
रंग बिरंगे अबीर रंगों से
रंग दूँगी भरकर मैं झोली

________________

shiv-kumar-jha-ki-kavitaenSHIV-KUMAR-JHAपरिचय -:
शिव कुमार झा टिल्लू
कवि ,आलोचक ,लेखक

शिक्षा : स्नातक प्रतिष्ठा,: स्नातकोत्तर , सूचना- प्राद्यौगिकी साहित्यिक परिचय : पूर्व सहायक संपादक विदेह मैथिली पत्रिका (अवैतनिक )
सम्प्रति – : कार्यकारी संपादक , अप्पन मिथिला ( मुंबई से प्रकाशित मैथिली मासिक पत्रिका ) में अवैतनिक कार्यकारी संपादक साहित्यिक
उपलब्धियाँ : प्रकाशित कृति १ अंशु : मैथिली समालोचना ( 2013 AD श्रुति प्रकाशन नई दिल्ली २ क्षणप्रभा : मैथिली काव्य संकलन (2013 AD श्रुति प्रकाशन नई दिल्ली )इसके अतिरिक्त कवितायें , क्षणिकाएँ , कथा , लघु-कथा आदि विविध पत्र -पत्रिका में प्रकाशित

सम्प्रति :जमशेदपुर में टाटा मोटर्स की अधिशासी संस्था जे एम . ए. स्टोर्स लिमिटेड में महाप्रबंधक के पद पर कार्यरत
संपर्क -: जे. एम . ए. स्टोर्स लिमिटेड ,मैन रोड बिस्टुपुर  ,जमशेदपुर : ८३१००१ संपर्क – : ०९२०४०५८४०३, मेल : shiva.kariyan@gmail.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here