पटना: यूं तो बिहार (Bihar) में अगले साल विधानसभा चुनाव (Bihar assembly election 2020) होने हैं लेकिन, सत्ताधारी एनडीए गठबंधन को लेकर कई सवाल खड़े हो रहे हैं. गठबंधन के घटक दल बीजेपी (BJP) ने जेडीयू पर सवाल खड़ा किया है. साथ ही 2020 के बिहार (Bihar) विधानसभा चुनाव (Bihar assembly election 2020) में बीजेपी (BJP) के नेतृत्व में चुनाव लड़ने और बीजेपी (BJP) के कोटे से मुख्यमंत्री रखे जाने की बात कहकर राजनीतिक सरगर्मी तेज कर दी है. हालांकि ये बयान पार्टी की ओर से नहीं आकर बीजेपी (BJP) के एमएलसी और पूर्व केंद्रीय मंत्री संजय पासवान (Sanjay paswan) ने दिया है. संजय पासवान (Sanjay paswan) के इस बयान के बाद विपक्ष ने बिहार (Bihar) में एनडीए गठबंधन के भविष्य को लेकर निशाना साधना शुरू कर दिया है. 

पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी (BJP) के एमएलसी ने जेडीयू पर मोर्चा खोलते हुए कहा कि बीजेपी (BJP) का मुद्दा आमजन का मुद्दा है और पार्टी के हर बड़े मुद्दे का जेडीयू विरोध कर रही है जबकि ऐसे मुद्दे जनहित में हैं और इससे बीजेपी (BJP) को जनता का बड़ा समर्थन मिल रहा है. बावजूद इन मुद्दों का विरोध कर रही है और जेडीयू को सद्बुद्धि आनी चाहिए. कई ऐसे मुद्दे हैं जिसको लेकर बिहार (Bihar) में सरकार में शामिल बीजेपी (BJP) और जेडीयू आमने-सामने है, लेकिन अब तक वैसे सवालों के जबाब देने में बीजेपी (BJP) और जेडीयू दोनों दल के नेता सतर्कता बरतते आ रहे हैं. सोमवार को बीजेपी (BJP) के एमएलसी संजय पासवान (Sanjay paswan) का बयान गठबंधन के लिहाज़ से जो संकेत दे रहे हैं वह संकेत ठीक नहीं हैं. 

संजय पासवान (Sanjay paswan) यहीं पर नहीं रुके उन्होंने साफ कहा कि 2020 का बिहार (Bihar) विधानसभा का चुनाव बीजेपी (BJP) नेतृत्व में लड़ी जाए और मुख्यमंत्री बीजेपी (BJP) का होगा. अभी तक बिहार (Bihar) में जेडीयू-बीजेपी (BJP) जब मिलकर चुनाव लड़ी है तो जेडीयू बड़े भाई की भूमिका में और बीजेपी (BJP) छोटे भाई की भूमिका में रही है. हालांकि पिछले चुनाव में जेडीयू और बीजेपी (BJP) अलग अलग खेमे में आमने सामने चुनाव लड़ी थी. जेडीयू भी पहले से ही पार्टी कार्यालय में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) का पोस्टर लगा कर उनके नाम पर चुनाव लड़ने की बात स्पष्ट कर दी है. जेडीयू की ओर से इसमें कोई शक सुबह की गुंजाइस भी नहीं है. 

बीजेपी (BJP) भी कई मौको पर स्पष्ट कर चुकी है कि बिहार (Bihar) में गठबंधन के नेता मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) हैं और उनके नेतृत्व में चुनाव लड़ा जायेगा. लेकिन जैसे-जैसे समय आगे बढ़ता जा रहा है कई तरह के बयान आने शुरू हो गए हैं, संजय पासवान (Sanjay paswan) के बयान के बाद जेडीयू के तेवर चढ़ गए हैं. 

बिहार (Bihar) के पड़ोसी राज्य झारखण्ड में बिहार (Bihar) से पहले चुनाव है और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) पिछले दिनों वहां जाकर पार्टी के लिए सम्भावनाएं तलाशी और जेडीयू झारखण्ड में विधानसभा का चुनाव बीजेपी (BJP) के खिलाफ लड़ेगी जबकि वहां बीजेपी (BJP) की सरकार है. झारखंड में विकास से लेकर शराबबंदी जैसे मुद्दे पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के बयान के बाद बीजेपी (BJP) की ओर से बयां आना शुरू हुआ और यहीं से बात आगे बढ़ते हुए अब बिहार (Bihar) में बीजेपी (BJP) के नेतृत्व में चुनाव और मुख्यमंत्री बीजेपी (BJP) का होने की बात आने लगी है. 


बीजेपी (BJP) के एमएलसी संजय पासवान (Sanjay paswan) ने तर्क दिया कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) पहले भी जीतनराम मांझी के लिए कुर्सी छिड़ चुके हैं तो इस बार बीजेपी (BJP) के लिए मुख्यमंत्री का पद छोड़े और वह केंद्र की सरकार में मंत्री बनकर अभिभावक की भूमिका में रहें, लेकिन अब बिहार (Bihar) में बीजेपी (BJP) का ही मुख्यमंत्री हो इसके लिए एनडीए की बैठक में भी मामला उठाया जायेगा. संजय पासवान (Sanjay paswan) के अनुसार धारा 370 को कश्मीर से हटाना, एनआरसी का मुद्दा और ऐसे ही तमाम मुद्दे जिससे जनता बीजेपी (BJP) की ओर आकर्षित हो रही है. उन तमाम मुद्दों का जेडीयू विरोध कर रही है जबकि इन्ही मुद्दों को सामने रखकर बीजेपी (BJP) केंद्र में प्रचंड बहुमत से सत्ता में आयी है और बिहार (Bihar) में भी सफलता हासिल करेगी, लेकिन जेडीयू का इन मुद्दों पर विरोध है और उन्हें सद्बुद्धि आनी चाहिए.

जदयू नेता श्याम रजक बोले- 'संजय पासवान (Sanjay paswan) को कौन होते हैं'
बीजेपी (BJP) नेता ने आगे जोड़ा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व और उनके चेहरे पर एनडीए को बिहार (Bihar) में भारी सफलता मिली है. बीजेपी (BJP) नेता के इस बयान से जेडीयू तमतमा गयी है जेडीयू के नेता और बिहार (Bihar) सरकार में उद्योग मंत्री श्याम रजक ने सवाल खड़ा करने के लहजे से पूछा कि संजय पासवान (Sanjay paswan) होते कौन हैं इस तरह का बयान देने वाले. श्याम रजक ने संजय पासवान (Sanjay paswan) पर निशाना साधते हुए कहा कि ये लोग चरणदासी लोग हैं और इनका कोई वजूद नहीं है. 

कांग्रेस डाल रही है जदयू को दाना
श्याम रजक ने कहा कि संजय पासवान (Sanjay paswan) अपने आका से पूछे फिर कोई बयान दें, नीतीश कुमार (Nitish Kumar) कोई घास मूली नहीं है कि जैसे चाहे वैसे मरोड़ देंगे. बीजेपी (BJP)-जेडीयू के इस बयानबाजी को लेकर विपक्ष खुश दिख रहा है. कांग्रेस नेता सदानंद सिंह ने कहा कि जेडीयू-बीजेपी (BJP) का गठबंधन बेमेल का गठबंधन है और बेमेल गठबंधन टिकता नहीं है. जबकि आरजेडी के मृत्युंजय तिवारी ने निशाना साधते हुए कहा कि बीजेपी (BJP)-जेडीयू में मतभेद और अलगाव होना ही है. बीजेपी (BJP) का मतलब निकल गया तो वे जेडीयू को किनारा लगाने का दाव चल रहे हैं और बीजेपी (BJP) ,जेडीयू को बाहर का रास्ता दिखा देगी.बहरहाल संजय पासवान (Sanjay paswan) के इस नए बयान से बिहार (Bihar) की राजनीति में बयानबाजी तेज हो गयी है. PLC.