Sunday, May 31st, 2020

शिवसेना और BJP ने तोड़ा एक और गठबंधन

विधानसभा में गठबंधन तोड़ने के बाद शिवसेना और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने औरंगाबाद महानगर पालिका में भी एक-दूसरे का साथ छोड़ दिया है.
महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और शिवसेना गठबंधन सहयोगी के रूप में सत्ता बरकरार रखने के लिए चुनाव मैदान में उतरे थे. चुनाव परिणाम आने के बाद शिवसेना ने बीजेपी से गठबंधन तोड़कर कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के सहयोग से सरकार बना ली.

केंद्र की मोदी सरकार में शिवसेना कोटे के मंत्री ने भी पद से इस्तीफा दे दिया था. राज्य और केंद्र के बाद अब निकायों में भी दोनों दलों का गठबंधन टूटने लगा है. बीजेपी ने औरंगाबाद महानगर पालिका में भी एक- दूसरे का साथ छोड़ दिया है. औरंगाबाद महानगर पालिका के डिप्टी मेयर बीजेपी के नेता विजय औताड़े ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है.

गौरतलब है कि 113 सीट वाली महानगर पालिका में शिवसेना के पास 29, एमआईएम के 25, बीजेपी के 22, कांग्रेस के 8 और एनसीपी के 4 काउंसिलर हैं. इसके अलावा 24 काउंसिलर निर्दलीय हैं. महानगरपालिका के चुनाव साल 2015 में हुए थे. दो महीने बाद ही चुनाव होने हैं.

बता दें कि विधानसभा चुनाव के परिणाम आने और बीजेपी- शिवसेना गठबंधन को पूर्ण बहुमत मिलने के बाद मुख्यमंत्री पद को लेकर खींचतान शुरू हो गई थी. कुर्सी की खींचतान और नाटकीय ढंग से एनसीपी के अजित पवार के समर्थन से देवेंद्र फडणवीस के सरकार बना लेने के बाद मामला अदालत तक पहुंचा और शिवसेना ने कांग्रेस और एनसीपी के समर्थन से सरकार बनाई. PLC.

Comments

CAPTCHA code

Users Comment