Monday, July 13th, 2020

शिक्षा के स्तर को बढ़ाने और प्राप्त सुझावों पर गंभीरता से विचार किया जाएगा : बेसिक शिक्षा मंत्री

ramgovindchaudhary,educationministerramgovindchaudharyआई एन वी सी न्यूज़ लखनऊ , प्रदेश के बेसिक शिक्षा मंत्री राम गोविंद चैधरी की अध्यक्षता में बेसिक शिक्षा विभाग के मण्डलीय अधिकारी/जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों की समीक्षा बैठक आयोजित हुई। बेसिक शिक्षा मंत्री ने समीक्षा बैठक के दौरान सभी जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों को मुख्य रूप से कड़ाई से निर्देशित करते हुए कहा कि जनपद के अन्तर्गत अध्यापकों के स्थानान्तरण की कार्यवाही स्वच्छ एवं पारदर्शी ढंग से 15 अक्टूबर, 2015 तक पूर्ण कर ली जाय। यदि इस संबंध में अनियमितता एवं भ्रष्टाचार की शिकायत आती है तो जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही की जायेगी । छात्र-छात्राओं को गुणवत्तायुक्त यूनीफार्म का वितरण कार्य प्राथमिकता के आधार पर एक माह के अन्दर पूर्ण करा लिया जाय, यदि किसी भी स्तर पर यूनीफार्म क्रय का केन्द्रीयकरण पाये जाने पर अधिकारियों के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही की जायेगी।

श्री चैधरी ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों द्वारा शिक्षा की गुणवत्ता के सुधार पर विशेष ध्यान दिये जाने, अधिक से अधिक विद्यालयों का निरीक्षण किया जाने तथा अध्यापकों एवं छात्र- छात्राओं की उपस्थिति बढ़ाने की प्रभावी कार्यवाही सुनिश्चित कराये जाने पर बल दिया।

श्री चैधरी ने अपने निर्देश में कहा कि जनपद एवं विकासखण्ड के अधिकारियों द्वारा जिन विद्यालयों को गोद लिया गया है, उन विद्यालयों के स्तर में सुधार हेतु ऐसे विद्यालयों का नियमित रूप से पर्यवेक्षण किया जाय और स्थलीय निरीक्षण के दौरान अध्यापकों को मार्ग-दर्शन एवं दिशा निर्देश दिये जायें ।  उन्होने कहा कि बेसिक शिक्षा के अन्तर्गत विभिन्न स्तर पर अध्यापकों एवं अधिकारियों की गोष्ठी आयोजित की जाय, जिनमें शिक्षा के स्तर को बढ़ाने हेतु चर्चा एवं तदुपरांत प्राप्त सुझावों पर गंभीरता से विचार किया जाय। बेसिक शिक्षा मंत्री श्री चैधरी ने अपने संबोधन में कहा कि साक्षर भारत मिशन के अन्तर्गत प्रेरकों के मानदेय का भुगतान काफी समय से लम्बित रहा है, जबकि इस संबंध में कई बार जनपदीय अधिकारियों को निर्देश दिये गये हैं । यह स्थिति अत्यन्त आपत्तिजनक है। सभी बेसिक शिक्षा अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि दिनांक 25-9-2015 तक प्रत्येक दशा में प्रेरकों के लम्बित मानदेय का भुगतान हो जाय । इस तिथि के बाद निदेशक,साक्षरता एवं वैकल्पिक शिक्षा द्वारा समीक्षा की जाय और जिन जनपदों में प्रेरकों के मानदेय का भुगतान लम्बित पाया जाय उन जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों के विरूद्ध कार्यवाही करने हेतु प्रस्ताव 30-9-2015 तक शासन को उपलब्ध कराया जाय ।
श्री चैधरी ने जनपद स्तर पर जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी द्वारा सर्व शिक्षा अभियान के अन्तर्गत खोले गये बैंक खातों के संबंध में सभी जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों को निर्देशित किया कि 15 दिन के अन्तर्गत निदेशालय को वह यह सूचना उपलब्ध करायें कि उनके जनपद में किस-किस बैंक में कौन-कौन सा खाता संचालित हो रहा है । इन खातों को कौन अधिकारी संचालित कर रहा है और इन खातों में 31-8-20.15 की स्थिति के अनुसार कितना बैलेंश है ।
अंत में बेसिक शिक्षा मंत्री श्री राम गोविंद चैधरी ने द्वारा सभी जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों को यह निर्देश दिये गये कि वे जनपद स्तर पर एक संवेदनशील अधिकारी के रूप में कार्य करें । जनप्रतिनिधियों एवं जनसामान्य से संवेदनशीलता के साथ आचरण करें और स्थानीय समस्याओं का निराकरण तत्परता से सुनिश्चित करें ।
इस बैठक में राज्य मंत्री, बेसिक शिक्षा श्री वसीम अहमद एवं राज्य मंत्री, बेसिक शिक्षा श्री योगेश प्रताप सिंह ने भी अधिकारियों को सम्बोधित किया। शासन की ओर से प्रमुख सचिव, बेसिक शिक्षा, विशेष सचिव, बेसिक शिक्षा एवं संयुक्त सचिव, बेसिक शिक्षा द्वारा प्रतिभाग किया गया । इसके अतिरिक्त निदेशक साक्षरता एवं वैकल्पिक शिक्षा ,राज्य परियोजना निदेशक, सर्व शिक्षा अभियान ,निदेशक,बेसिक शिक्षा एवं वरिष्ठ अधिकारी बैठक में उपस्थित थे।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment