Close X
Monday, October 26th, 2020

शिक्षक बच्चों को संस्कारवान शिक्षा दें - अशोक बैरवा

आई.एन.वी.सी,,

जयपुर,, सूचना एवं जन संपर्क  राज्यमंत्री एवं टोंक के जिला प्रभारी मंत्री श्री अशोक बैरवा ने कहा कि शिक्षक विद्यालयों में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं को नैतिक एवं सामाजिक जिम्मेदारी  से संस्कारवान शिक्षा दें ताकि उनकी दी हुई शिक्षा राष्ट्र निर्माण में काम आ सके तथा छात्र-छात्राऐं अपना, परिवार का तथा राज्य और देश का नाम रोशन कर सकें। श्री बैरवा शुक्रवार को टोंक जिले के उनियारा उपखण्ड़ मुख्यालय  पर राजस्थान प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षक संघ टोंक तहसील शाखा उनियारा में दो दिवसीय जिला शेैक्षिक अधिवेशन को मुख्या  अतिथि के रूप में संबोधित  कर रहे थे। उन्होंने कहा कि शिक्षक सम्पूर्ण  समाज एवं देश को नई दिशा देते हैं। शिक्षक अपने दायित्वों के साथ यह भी सुनिश्चित  करें कि बच्चों को बेहतर एवं गुणवत्ता युक्त तालीम मिले। उन्होंने कहा कि शिक्षक वर्ग शिक्षा के क्षेत्र में नई क्रांति चलाएं ताकि नए युग का निर्माण हो सके। उन्होंने कहा कि शिक्षक निधाüरित समय पर school पहुंच कर शिक्षण कार्य को भलीभांति अंजाम देंगे तो उन शिक्षकों का सम्मान  होगा। शिक्षक क्वगुरू पदं की महिमा को समझे तथा अपना नैतिक दायित्व एवं कर्तव्य समझ कर शिक्षण कार्य सम्पादित  करें ताकि राष्ट्र निर्माण में योगदान हो सके। उन्होंने कहा कि जो शिक्षक समय पर शालाओं में नहीं पहु¡चते हैं उनका सामान  कम होता है इसलिए जरूरी हैं कि अपने पद का सम्मान  समाज व गांव में बनाए रखना हैं तो निधाüरित समय पर school पहुंच कर बच्चों को अच्छी शिक्षा दें। श्री बैरवा ने कहा कि अध्यापक शिक्षण कार्य में औपचारिकता नहीं निभाएं वे यह सुनिçश्चत करें कि हमारे द्वारा दिया गया ज्ञान बच्चों के लिए जीवन भर काम आए और वे हमेशा आपको याद रखें। उन्होंने दूर-दराज के गांवों में पद स्थापित शिक्षकों से कहा कि वे मन लगाकर बच्चों को पढ़ाकर अपने शिक्षक धर्म को निभाएं। उन्होंने कहा कि अध्ययनरत बच्चों को अपने बच्चों की भांति प्यार करें, उनमें अपना पराया जैसा भेद नहीं समझें। शिक्षक राष्ट्रीय कार्यक्रमों में भी बराबर भागीदार बनकर कार्य करें ताकि  राष्ट्रीय कार्यक्रम प्रभावित नहीं हो। साथ ही यह भी ध्यान रखें कि शिक्षण कार्य में कोई बाधा नहीं आ पाए। सूचना एवं जन संपर्क  राज्यमंत्री ने शिक्षकों से कहा कि राज्य सरकार कर्मचारियों के हितों के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है। सरकार का जो घोषणा पत्र है उसी के अनुरूप कार्य किया जा रहा हैं। कर्मचारियों की लçबत मांगों पर राज्य सरकार सहानुभूति रख़ती है तथा कार्य कर रही है। कर्मचारी भी अपनी पूरी जिम्मेदारी   से कार्य करें। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए क्षेत्रीय विधायक श्री रामनारायण मीणा ने कहा कि शिक्षक पूरी  जिम्मेदारी से विद्यार्थियों को शिक्षा दें। उन्होंने कहा कि बच्चों को आगे बढ़ने के लिए बेहतर तालीम दिलावाएं ताकि देश आगे बढ़े। उन्होंने कहा कि अधिकारी गरीब व्यçक्तयों की सुनें तथा गांव की तकलीफों को संवेदनशील होकर दूर करें। उन्होेंने संस्कृत शिक्षा पर ध्यान देने पर बल दिया। श्री मीणा ने विद्यार्थियों का विद्यालयों में नामांकन बढ़ाने की आवश्यकता बताई ताकि कोई बच्चा शिक्षा से वंचित नहीं रहे। कार्यक्रम की विशिष्ठ अतिथि जिला प्रमुख  श्रीमती कल्ली देवी मीणा ने शिक्षकों से कहा कि वे बच्चों को बढ़िया गुणवत्ता युक्त शिक्षा दें ताकि आगे चलकर उन्हें प्राप्त शिक्षा का फायदा मिल सके। प्रारंभ  में सूचना एवं जनसंपर्क  राज्यमंत्री और जिला प्रमुख ने मां सरस्वती की तस्वीर पर माल्यार्पण कर एवं दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारम्भ  किया। सूचना एवं जन संपर्क  राज्यमंत्री श्री अशोक बैरवा, विधायक श्री रामनारायण मीणा, जिला प्रमुख श्रीमती कल्ली देवी मीणा एवं जिला परिषद सदस्या श्रीमती चमेली देवी, श्री सलीमुद्दीन खां, श्री श्योजीराम मीणा, श्री रामसिंह मीणा, श्री परशुराम मीणा सहित सभी आगंतुक अतिथियों का माल्यार्पण कर स्वागत किया तथा माल्यार्पण एवं पुष्पगुच्छ देकर सम्मान  किया।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment