Close X
Thursday, January 20th, 2022

शहीदों की प्रतिमाएं नौजवानों के लिए प्रेरणास्पद : गहलोत

ashok gehlot chief ministerआई एन वी सी,, जयपुर,, मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने कहा कि राजस्थान के नौजवानों ने देश की रक्षा एकता और अखण्डता के लिए अपनी शहादते दी है। मुझे ऐसे प्रदेश का मुख्यमंत्री होने का गौरव है। मुख्यमंत्री नागौर जिले की डीडवाना तहसील की धनकोली गांव में रविवार को शहीद जीवन राम कस्वां की मूर्ति के अनावरण समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि यहां के लोगों में कुर्बानी का जज्बा मौजूद है। उन्हें कारगिल युद्घ के दौरान सीकर, झुंझनूं, अलवर, नागौर, जोधपुर व भरतपुर आदि प्रदेश के अनेक स्थानों पर जाने का मौका मिला और इस दौरान लोगों में देश के लिए कुर्बानी का जज्बा देखा। धनकोली के शहीद जीवन राम ने नक्सलियों से मुकाबला करते हुए अपनी जान की परवाह नहीं की और देश के लिए कुर्बान हो गए। उन्होंने कहा कि गांव में उमड़ा जन सैलाब इस बात का संकेत है कि सरकार व समाज सहित 36 कौंम शहीद परिवारों के साथ है। मुख्यमंत्री ने महात्मा गांधी,इंदिरा गांधी और राजीव गांधी की शहादतों का जिक्र करते हुए कहा कि महापुरूषों और शहीदों की मूर्तियां लगने से नौजवानों और आने वाली पीढिय़ों को देश सेवा की प्रेरणा मिलती है। उन्होंने कहा कि देश में विभिन्न भाषाओं,जाति और धर्म के बावजूद भी विविधता में एकता है। उन्होंने कहा कि आज भी शहीदों के परिजनों में सेना में भर्ती होकर देश के खातिर मर मिटने के तमन्ना आज भी बनी हुई है। मुख्यमंत्री गहलोत ने प्रदेश में हुए अभूतपूर्व विकास की चर्चा करते हुए कहा कि विकास एक सतत् प्रक्रिया है, गांव, गरीब व आम लोगों की भलाई तथा जीवन को खुशहाल बनाने के लिए सरकार चहुंमुखी विकास के लिए प्रयत्नशील है। उन्होंने राज्य में पानी, बिजली व सडक़ें और सामाजिक सुरक्षा की योजनाओं का जिक्र करते हुए कहा कि प्रदेश को विकास की अग्रणी श्रेणी में ले जाने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ी जाएगी। मुख्यमंत्री ने बताया कि सूचना और शिक्षा का अधिकार एवं काम की गारन्टी के साथ साथ राज्य में कल्याणकारी योजनाएं प्रारंभ की गई है। गरीब के घर की छत पक्की बनाने के लिए इंदिरा आवास की तर्ज पर मुख्यमंत्री ग्रामीणा बी.पी.एल. आवास योजना शुरू की है। नि:शुल्क दवा वितरण योजना के साथ ही अप्रेल से राज्य के सभी सरकारी अस्पतालों में नि:शुल्क जांच का प्रावधान किया जा रहा है।  मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने किसानों से वादा किया था कि वे काश्तकारों को दी जाने वाली विद्युत दर नहीं बढ़ाएगी। इसके तहत राज्य सरकार ने किसानों को दी जाने वाली विद्युत के बदले 5 हजार करोड़ रुपए का पुनर्भरण विद्युत कंपनियों को किया है। सरकार ने किसानों के हितों को ध्यान में रखते हुए छह माह के लिए बिना ब्याज का फसली ऋण उपलब्ध करवाया है। उन्होंने कहा कि नलकूपों में भू-जल स्तर के गिरने पर चिन्ता जताते हुए रिचार्ज पर बल दिया। बूंद-बूंद और फव्वारा सिंचाई पद्घति पर किसानों को प्रोत्साहन के लिए अनुदान दिया जा रहा है। गहलोत ने कहा कि नागौर जिले में इंदिरा गांधी नहर का मीठा पानी शीध्र ही उपलब्ध करवाया जाएगा। नागौर जिले में सडक़,बिजली व पानी की योजनाओं पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। उन्होंने लोगों का आह्वान किया कि वे अच्छी शिक्षा ग्रहण करेंगे तभी अपने परिवार व समाज को आगे बढ़ा सकेंगे। उन्होंने बताया 165 करोड़ रुपए का कर्ज लेकर सरकार ने बच्चों के भविष्य के मद्देनजर लेपटॉप देने का निर्णय किया है। राज्य में एक लाख 36 हजार नौेजवानों की भर्तियां की गई है और 1 लाख 4 हजार की भर्ती प्रक्रिया चल रही है। उन्होंने कहा कि सरकार सभी को नौकरी नहीं दे सकती। अत: 3 लाख नौजवानों को कौशल प्रशिक्षण देकर रोजगार के लिए तैयार किया जाएगा। समारोह की अध्यक्षता करते हुए ऊर्जा एवं सूचना एवं जन संपर्क मंत्री डॉ.जितेन्द्र सिंह ने कहा कि शहादत की कोई कीमत नहीं होती । शहीद का मायना बहुत बड़ा होता है। एक बच्चे को उसकी मां देश प्रेम और अच्छे संस्कार देती है तथा देश की सुरक्षा का पाठ सिखाती है। शहीद जीवन राम ने पूरे देश में गांव व राज्य का नाम रोशन किया है। डॉ.सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा विद्युत के क्षेत्र में किए गए विकास से ही प्रदेश के किसानों को विद्युत आपूर्ति की जा रही है। उन्होंने मुख्यमंत्री नि:शुल्क दवा योजना सहित विभिन्न फ्लैगशिप योजनाओं की प्रगति के बारे में भी बताया। क्षेत्रीय सांसद ज्योतिमिर्धा ने कहा कि मूर्ति ऐसे लोगों की लगाई जाती है जिनसे लोग देश सेवा की प्रेरणा ले सकें। उन्होंने नहर के मीठे पानी की आवश्यकता जताई। डीडवाना विधायक श्री रूपाराम ने स्वागत् भाषण में कहा कि मुख्यमंत्री सहित सभी लोगों ने यहां आकर देश की रक्षा के लिए अपने प्राण देने वाले शहीद हुए जीवनराम के परिवार को सम्बल दिया है। इससे यहां के युवाओं को भी प्रेरणा मिलेगी। उन्होंने मुख्यमंत्री का आभार जताते हुए कहा डीडवाना विद्युत के क्षेत्र में हुए कार्य व कृषि विज्ञान केन्द्र की स्थापना से डीडवाना भी विकास के पथ पर अग्रसर हो रहा है। मुख्यमंत्री ने क्षेत्र के शहीदों की वीरांगनाओं को शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया। इस अवसर पर महिला एवं बाल विकास राज्यमंत्री श्रीमती मंजू मेघवाल, विधायक श्री महेन्द्र चौधरी, श्री जाकिर हुसैन,बीकानेर जिला प्रमख श्री रामेश्वर डूडी सहित बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे। शहीद की मूर्ति का अनावरण-मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने रविवार को डीडवाना तहसील के गांव धनकोली में शहीद कमाण्डेंट जीवन राम कस्वां की आदमकद प्रतिमा का अनावरण किया। इस अवसर पर सूचना एवं जन सम्पर्क मंत्री डॉ.जितेन्द्र सिंह, क्षेत्रीय सांसद ज्योति मिर्धा भी उपस्थित थी। इस अवसर पर डी.आई.जी. बी.एस.एफ डी.पी.सिंह ने शहीद की धर्म पत्नी को ग्रेसिया कंपन्शेसन के 5 लाख की राशि का चैक भेंट किया तथा आई.जी. पुलिस मीणा द्वारा शौर्य चक्र एवं शॉल प्रदान किया। .शहीद कमाण्डेंट जीवन राम 107 वीं बटालियन में कार्यरत थे। जीवन राम कस्वां का जीवन परिचय- 15 अक्टूबर 1966 को तहसील डीडवाना के गांव धनकोली में पिता रामूराम के परिवार में जन्में बी.एस.एफ. में कमाण्डेंट जीवन राम कस्वां उड़ीसा में तैनात सीमा सुरक्षा बल में मलकान गिरि क्षेत्र में नक्सवादियों से मुकाबला करते हुए 10 फरवरी 2012 को वीरगति को प्राप्त हुए। कस्वां ने सडक़ पर बिछाई गई बारुदी सुरंग के विस्फोट से घायल होने बाद भी बहादुरी से अपने तीन अन्य साथियों के साथ पहाडिय़ों एवं जंगल में छिपे 35-40 माओवादियों से मुकाबला कर बहादुरी का परिचय दिया। शहीद जीवन राम के परिवार में पिता रामूराम, माता केसर देवी, पत्नी भंवरी तथा दो पुत्रियां भानु तथा लक्ष्मी तथा पुत्र पवन है। इससे पहले मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत के नागौर हवाई पट्टी पर उतरने पर महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री श्रीमती मंजू मेघवाल, संभागीय आयुक्त श्रीमती किरण सोनी गुप्ता, आई.जी. पुलिस श्री अनिल पालीवाल, जिला कलक्टर श्री अशोक भण्डारी, क्षेत्रीय सांसद ज्योति मिर्धा, जिला पुलिस अधीक्षक श्री ओ.पी.शर्मा ने अगवानी की व स्वागत किया। मुख्यमंत्री इसके बाद नागौर के विभिन्न मार्गों से होते हुए धनकोली पहुंचें। नागौर में उनका मानासर चौराहा, बासनी चौराहा, चैनार में विभिन्न वर्गों के लोगों ने फूल मालाएं पहनाकर स्वागत किया। नागौर से 125 किलोमीटर दूर धनकोली सडक़ मार्ग पर जगह-जगह तोरण द्वार बनाए गए । ग्रामीणों ने पुष्पहार पहनाकर मुख्यमंत्री का स्वागत व अभिनंदन किया। मुख्यमंत्री के साथ राजकीय विमान में सूचना एवं जन सम्पर्क मंत्री डॉ.जितेन्द्र सिंह भी नागौर आए। इसके बाद मुख्यमंत्री ने नागौर में सूफी संत हमीदुद्दीन की दरगाह पर जाकर अकीदत के फूल पेशकर राज्य में अमनचैन व तरक्की की दुआएं मांगी जायल के तहसील कार्यालय के सामने आयोजित समारोह में महिला एवं बाल विकास राज्यमंत्री श्रीमती मंजू मेघवाल ने मुख्यमंत्री का स्वागत किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने जन सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि राज्य सरकार द्वारा एक के बाद एक ऐतिहासिक निर्णय लेते हुए जन समुदाय के हितों के लिए योजनाएं लागू की है। उन्होंने मुख्यमंत्री नि:शुल्क दवा योजना की चर्चा करते हुए कहा कि वर्तमान में राज्य सरकार द्वारा 400 दवाएं उपलब्ध करवाई जा रही है। शीघ्र ही इनकी संख्या 600 की जाएगी। राज्यमंत्री श्रीमती मेघवाल ने क्षेत्र की जन समस्याओं की ओर मुख्यमंत्री का ध्यान आकृष्ट कराया। डीडवाना पब्लिक शिक्षण संस्थान की ओर से रविवार को मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत का स्वागत किया गया। मुख्यमंत्री ने अल्प संख्यक शिक्षण संस्थान को दिए जाने वाले अनुदान को अल्प संख्यकों के शिक्षा के क्षेत्र में विकास का मील का पत्थर बताया। शिक्षण संस्थान के रणजीत खां ने मुख्यमंत्री का अभिनंदन करते हुए कहा कि अल्प संख्यक मामलात विभाग द्वारा निजी क्षेत्र में आधारभूत सुविधाओं के लिए प्रदत आर्थिक अनुदान अनुकरणीय है। इससे अल्प संख्यक वर्ग में शिक्षा का वातावरण बनेगा। उन्होंने आर्थिक अनुदान के लिए मुख्यमंत्री का आभार जताया।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment