Tuesday, June 2nd, 2020

शरद पवार ही है असली चाणक्‍य

मुंबई राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के अध्यक्ष शरद पवार। महाराष्ट्र की सियासत के इस माहिर खिलाड़ी का नाम इस समय हर किसी की जुबान पर है। बीजेपी के 'चाणक्य' माने जानेवाले गृह मंत्री अमित शाह को महाराष्ट्र के सियासी दांवपेच में 79 साल के इस कद्दावर नेता ने जोरदार पटखनी दी है। उन्होंने अपने भतीजे की 'घर वापसी' करा बीजेपी का बना-बनाया समीकरण ही बिगाड़ दिया और 3 दिन बाद ही महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को इस्तीफा देने के लिए मजबूर होना पड़ा। उद्धव ठाकरे को मंगलवार को जिस समय गठबंधन का नेता चुना जा रहा था, होटल के बाहर जमा लोग 'महाराष्ट्र में एक टाइगर, शरद पवार' के नारे लगा रहे थे।

बीजेपी को झटका, राज्य में ठाकरे सरकार
इस सियासी उलटफेर का असर यह हुआ कि महाराष्ट्र की सत्ता पर दोबारा काबिज होने के सपने देख रही बीजेपी को जोरदार झटका लगा और कई विपक्षी दल एक साथ अब सरकार बनाने जा रहे हैं। शिवसेना नेता उद्धव ठाकरे महाराष्ट्र के अगले मुख्यमंत्री होंगे। आपको बता दें कि विधानसभा चुनाव में अपनी मेहनत के बल पर पवार अस्तित्व की लड़ाई लड़ रही NCP को मजबूत स्थिति में ले आए। हालांकि उनकी कोशिशों को उस समय झटका लगा जब भतीजे ने परिवार से विद्रोह करते हुए 23 नवंबर की सुबह बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बना ली।

80 घंटे में चकनाचूर किए बीजेपी के सपने
यह पवार की रणनीति का ही नतीजा था कि बीजेपी की यह सरकार महज 80 घंटे ही अस्तित्व में रही। पवार ने पारिवारिक दबाव बनाकर न सिर्फ अपने भतीजे अजित की घर वापसी कराई बल्कि उनका इस्तीफा भी हो गया। हालांकि अजीत ने इस्तीफे की वजह निजी कारणों को बताया है। बीजेपी में हड़कंप मच गया। उधर, फ्लोर टेस्ट पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आते ही बीजेपी का केंद्रीय नेतृत्व भी ऐक्टिव हो गया। बहुमत न मिलता देख बीजेपी ने फडणवीस का इस्तीफा दिलाना ही बेहतर समझा। PLC

Comments

CAPTCHA code

Users Comment