Monday, June 1st, 2020

शरद पवार ने सामने ला दी परदे के पीछे की कहानी 

 

शिवसेना ने सामना में कहा कि महाराष्ट्र की राजनीति उत्तर से दक्षिणी ध्रुव तक पहुंच चुकी है लेकिन इस यात्रा में भारतीय जनता पार्टी का जो मजाक बना, उसकी मजेदार कहानियां अब बाहर आने लगी हैं. शरद पवार ने कई खुलासे किए हैं.
शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) प्रमुख शरद पवार और सहयोगी दल कांग्रेस की तारीफ करते हुए भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) पर तंज कसा है. शिवसेना ने कहा कि महाराष्ट्र की राजनीति उत्तर से दक्षिणी ध्रुव तक पहुंच चुकी है लेकिन इस यात्रा में भारतीय जनता पार्टी का जो मजाक बना, उसकी मजेदार कहानियां अब बाहर आने लगी हैं.

सामना में लिखा गया है, शिवसेना का मुख्यमंत्री न बनने पाए या शिवसेना के नेतृत्व में महाराष्ट्र की सरकार न बनने पाए, इसके लिए परदे के पीछे से जो निर्देशन जारी था. उस नाटक की असलियत शरद पवार ही सामने लाए हैं. शिवसेना ने सामना में लिखा, 'शरद पवार झुके नहीं, कांग्रेस ने भी परिपक्वता दिखाई. वहीं दूसरी ओर शिवसेना दबाव तंत्र की परवाह न करते हुए अपनी बात पर अटल रही.

सामना ने लिखा, शरद पवार ने कई खुलासे किए हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पवार को ऑफर दी थी कि महाराष्ट्र में बीजेपी के साथ सरकार बनाओ. पीएम का कहना था कि हमें खुशी होगी. हम दोनों साथ होंगे तो कुछ भी कर सकते हैं. आपके अनुभव की देश को जरूरत है. इस अनुभव का फायदा लेने के लिए महाराष्ट्र में मिलकर सरकार बनाने और केंद्र में मंत्री पद की बड़ी ऑफर दी गई थी लेकिन शरद पवार ने उसे अस्वीकार कर दिया.

सामना में लिखा गया है कि चुनावी प्रचार में अमित शाह कहते थे, पवार ने महाराष्ट्र के लिए क्या किया? इसका उत्तर पवार ने बाद में सही तरीके से दिया. अगर अमित शाह आदि को ये शंका थी कि पवार ने क्या किया है तो उनके किस अनुभव का फायदा श्री मोदी चाहते थे? नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी मतलब ‘नेचुरल करप्ट पार्टी’ का दूषित प्रचार दिल्ली के भाजपा नेताओं ने किया तो ऐसी पार्टी से उन्हें किस अनुभव की ‘पार्टी’ चाहिए थी, ये रहस्य है. चुनाव के पहले पवार को ‘ईडी’ की नोटिस भेजकर दबाव बनाया गया. प्रफुल्ल पटेल को भी जांच के लिए बुलाकर उन पर तलवार टांगी गई.

 

Comments

CAPTCHA code

Users Comment