Tuesday, August 11th, 2020

व्यापारियों को लखनऊ हाट में सभी आवश्यक सुविधाएं मुहैय्या कराई जायेंगी : डा0 शिव प्रताप यादव

शिव प्रताप यादवआई एन वी सी न्यूज़

लखनऊ,
प्रदेश चिकित्सा, स्वास्थ्य एवं जन्तु उद्यान तथा लखनऊ के प्रभारी मंत्री, डा0 शिव प्रताप यादव ने आज करीब डेढ़ बजे गोमती नगर स्थित ‘‘लखनऊ हाट’’ का औचक निरीक्षण किया। यहां की अव्यवस्था को देखकर उन्होंने सख्त नाराजगी जाहिर की है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा हथकरघा एवं शिल्पकारों तथा लघु उद्योगों को बढ़ावा देने के उद्देश्य से साढ़े नौ करोड रुपये की लागत से लखनऊ हाट की स्थापना की गयी है, परन्तु विभागीय अधिकारियों की लापरवाही एवं उदासीनता के कारण ऐसा लगता है कि यहां की व्यवस्थाआंे को अभी तक अधिकारियों द्वारा चुस्त-दुरूस्त नहीं किया गया हैै। उन्होंने इस स्थिति को निराशाजनक बताते हुए अधिकारियों को निर्देशित किया कि लखनऊ हाट को जल्द से जल्द बेहतर रूप में विकसित किया जाए और सभी आवश्यक सुविधाएं मुहैय्या कराने की व्यवस्था सुनिश्चित की जाय। डा0 यादव कहा कि प्रदेश के विभिन्न स्थानों से व्यापारी यहां आकर अपना व्यापार करते है, इस हाट में विभिन्न क्षेत्रों से आने वाले हस्तशिल्पी अपनी हस्तकला एवं शिल्पकारी के माध्यम से उत्पादों का प्रदर्शन/विक्रय करते हैं। यहां लोग देश एवं प्रदेश संस्कृति से भी अवगत होते है, परन्तु अव्यवस्थाओं के चलते दुकानदारों के निराश होने से उनके उत्पादोें की सही ढंग से बिक्री नहीं हो पा रही हैं। उन्होंने कहा कि काफी दिनों से इस हाट में अव्यवस्थाओं की शिकायतें उनके संज्ञान में आ रहीं थी, इसी वजह से आज इसका निरीक्षण उन्हें औचक रूप में करने के लिए विवश होना पड़ा। डा0 यादव ने लखनऊ हाट में अभी तक शिलान्यास पट्टिका न स्थापित करने पर भी कड़ी आपत्ति जताई। उन्होंने कहा कि 11 अपै्रल, 2015 को मुख्यमंत्री जी ने इस हाट का उद्घाटन किया था। तब से आज तक बिल्डिंग में शिलान्यास पट्टिका का स्थापित न किया जाना खेदजनक हैऔर यह अधिकारियों की लापरवाही को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि यदि जल्द पट्टिका नहीं लगाई तो, संबंधित के विरूद्ध सख्त कार्रवाई की जायेगी। उन्होंने हाट में विद्युत व्यवस्था तथा साफ-सफाई तत्काल ठीक करने के निर्देश भी दिए। हाट के मैनेजर श्री नीरज आहूजा को भी निर्देशित किया कि हाट की व्यवस्था को तत्काल बेहतर बनाएं। उन्होंने भूतल पार्किंग की बंद पड़ी लिफ्ट को तत्काल चालू करने के भी निर्देश दिए। निरीक्षण के दौरान दुकानदारों ने प्रभारी मंत्री को अवगत कराया कि कई-कई दिनों तक दुकानों में बिक्री नहीं होती है। अधिकतर दुकाने बंद हो चुकी है, जो बची हैं वह बंद होने के कगार पर हैं। व्यापरियों ने बताया कि एक दुकान का किराया करीब 15 हजार रुपये लिया जाता है, जो पिकप की तुलना में दोगुना है। बिक्री नहीं होने की वजह से व्यापारी कई महीनों से किराया तक अदा नहीं कर पाये, इस कारण उनके ऊपर दुकान खाली करने का दबाव बनाया जा रहा है। डा0 यादव ने व्यापारियों को भरोसा दिया कि शीघ्र ही उनकी समस्याओं के निराकरण हेतु मुख्यमंत्री से मिलेंगे। साथ ही यहां की वस्तु-स्थिति से उनको अवगत कराते हुए हाट को और अधिक बेहतर, आकर्षक और आवश्यक सुविधाओं से लैस करने का प्रयास करेंगे। उन्होंने कहा कि किसी भी दशा में यहां के दुकानदारों का शोषण नहीं होने दिया जायेगा। इस हाट का व्यापक प्रचार-प्रसार कराया जायेगा, ताकि लोग इसके बारे में जान सकें तथा यहां पर तरह-तरह के कार्यक्रम आयोजन करने हेतु पर्यटन विभाग को भी निर्देश दिए जायेंगेे।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment