आई.एन.वी.सी,,
पटना,,
मुख्यमंत्री  नीतीश कुमार ने आज राजगीर में रत्नागिरी के पर्वत पर विश्व शांति स्तूप के 42वें वािर्षक माहोत्सव का उद्घाटन करते हुए कहा कि विश्व शांति स्तूप पर पहुंचने के लिए नया रोपवे का निर्माण होगा। उन्होंने कहा कि रेलवे  की राइस कंपनी को इसका दायित्व दिया गया है। साधन का इंतजाम कर दिया गया है। उन्होने कहा कि विश्व शांति स्तूप पर पहंुचने के लिए दो मार्ग हैं, एक मार्ग सीढ़ियों पर चढ़कर विश्व शांति स्तूप तक पहंुचने का है, दूसरा मार्ग रोपवे है। उन्होंने कहा कि भारत-जापान मैत्री का रोपवे जीता-जागता उदाहरण है। रोपवे का रखरखाव पर्यटन विभाग द्वारा किया जाता है।
मुख्यंमंत्री ने कहा कि रत्नागिरी पर्वत पर विश्व शांति के लिए स्थापित विश्व शांति स्तूप शांति स्थल है, जहॉ से पूरे विश्व को शांति का संदेश जाता है। उन्होंने कहा कि यहॉ आने पर मन एवं चित को शंाति मिलती है। उन्होंने कहा कि पॉचवी बार विश्व शांति स्तूप के वािर्षक महोत्सव में शामिल होते हुए काफी खुशी हो रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि 2009 में प्रवास यात्रा के दौरान रत्नागिरी पर्वत पर मंत्रिमंडल की बैठक हुई थी। बैठक के बाद बिहार का ग्रोथ रेट 11.03 प्रतिशत हो गया है। 2010-11 में बिहार का ग्रोथ रेट बढकर 14.15 प्रतिशत हो गया है। यह एक ख़ास जगह है जो भगवान बुद्ध और भगवान की महावीर की जन्म एवं कर्म भूमि है। रत्नागिरी पर्वत पर भगवान महावीर वषोz तक उपदेश दिए थे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि जापान के लोगों में अद्भूत देशभक्ति की भावना है, जो पूरे विश्व के लिए अनुकरणीय है। जापान में आई भयानक त्रासदी से मुकाबला कर जापान अपने आप को पटरी पर लाया। उन्होंने कहा कि मैं ईश्वर से प्रार्थना की कि जापान पूरे तौर पर भीषण त्रासदी से उबरकर प्रगति के पथ पर अग्रसर हो।
मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार में आने वाले पर्यटकों की संख्या में वृद्धि हो रही है। बृद्धिस्ट टूरिस्ट की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है। उन्होंने कहा कि मैं जापान, चीन, तिब्बत, भूटान, श्रीलंका एवं अन्य देशों के बौद्ध भिक्षुअों को आमंत्रित करता हंू कि लोग यहॉ आए और शांति का संदेश लेकर जाए। उन्होंने कहा कि नांलदा में अन्र्तराष्ट्रीय विश्वविद्यालय की फिर से शुरूआत हुई है। ग्लोबल warming के युग में नालंदा विश्वविद्यालय का पहला अध्याय पर्यावरण पर बनने जा रहा है। उन्होने कहा कि बिहार में सत्तारूढ़ दल जदयू का हरित बिहार अभियान शुरू हो चुका है। इस अभियान के द्वारा बिहार में पचास लाख पौधों का रोपण हो रहा है। वृक्षारोपण के द्वारा बिहार को हरित जोन में लाना जदयू हरित बिहार अभियान का उद्देश्य है। हैलीपैड से बौद्ध भिक्षुओं के साथ मंत्रोचार करते तथा होताइको बजाते हुए मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार पूजास्थल तक पहंुचे। बौद्ध परंपरा के अनुसार जापान, अमेरिका, श्रीलंका, नेपाल एवं विश्व के कई देशो से आए हुए बौद्ध भिक्षुओं के साथ मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने पूजा अर्चना की तथा राज्य, देश एवं विश्व की शांति, सुख एवं समृद्धि की कामना की। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार के अलावे सी0जी0सी0 कंपनी के वाइस चेयरमेन ए0 होरीचू तथा संतोकु कंपनी के चेयरman वाई सेतो, पर्यटन मंत्री श्री सुनील कुमार पिंटू तथा खान एवं भूतत्व मंत्री श्री सत्यदेव नारायण आर्य ने भी सभा को संबोधित किया। इस अवसर पर नालंदा के सांसद श्री कौशलेंद्र कुमार, सत्ता पक्ष के मुख्य सचेतक श्री श्रवण कुमार, पूर्व मंत्री श्री सुरेंद्र प्रसाद तरूण एवं गणमान्य व्यक्ति सहित विश्व के विभिन्न देशों से आए हुए बौद्ध भिक्षु शामिल थे। मंच का संचालन श्रीमती श्वेता महारथी ने किया तथा धन्यवाद ज्ञापन भिक्षु मोरिका ने किया।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here