Thursday, November 14th, 2019
Close X

विश्व करता है डॉ. अम्बेडकर का सम्मान

आई एन वी सी न्यूज़ 
भोपाल ,

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने कहा है कि आज देश में अगर सभी वर्गों को समान रूप से न्याय मिल रहा है तो उसका श्रेय बाबा साहेब अम्बेडकर को जाता है। बाबा साहेब ने भारतीय संविधान बनाया, जिसकी बुनियाद न्याय पर टिकी है। श्री नाथ आज रवीन्द्र भवन में अनुसूचित जाति-जनजाति अधिकारी-कर्मचारी संघ के प्रांतीय अधिवेशन को संबोधित कर रहे थे।

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने कहा कि भारतीय संविधान की मूल भावना के अनुसार ही मध्यप्रदेश में शासन-प्रशासन चलेगा। न्याय में कमी नहीं होगी। उन्होंने कहा कि आज देश विभिन्नताओं के बावजूद एक झंडे के नीचे खड़ा है, यह न्याय की ही ताकत है। यहाँ सबके लिये समान दृष्टि है। समाज के गरीब, कमजोर वर्ग की आवाज हमारा संविधान है। उन्होंने कहा कि भारत की संस्कृति, सभ्यता और इतिहास में न्याय को विशेष स्थान मिला है।

मुख्यमंत्री श्री नाथ ने भारतीय संविधान के निर्माता डॉ. अम्बेडकर के योगदान का उल्लेख करते हुए कहा कि सिर्फ भारत ही नहीं, पूरा विश्व उनके व्यक्तित्व और कृतित्व का सम्मान करता है। उन्होंने दक्षिण अफ्रीका सहित कई देशों के संविधान बनाने में मदद की। मुख्यमंत्री ने अजाक्स द्वारा प्रस्तुत मांग-पत्र पर कहा कि दिसंबर महिने के बाद प्रदेश की सरकार को काम करने के लिए मात्र पाँच माह का समय मिला है। मैं आश्वस्त करना चाहता हूँ कि मध्यप्रदेश में न्याय की सरकार है। इस नाते अजाक्स के लोगों के साथ भी न्याय होगा।

मुख्यमंत्री ने अजाक्स से अपेक्षा की कि वह आज की युवा पीढ़ी को भटकने से रोके। उन्हें सामाजिक मूल्यों से जोड़े, जो किसी भी समाज की सबसे बड़ी ताकत होती है। उन्होंने कहा कि इसके लिए संगठन द्वारा विशेष प्रयास किया जाएं, जिससे हमारा युवा वर्ग भ्रमित न हो, किसी के बहकावे में न आए।

अजाक्स के प्रांतीय अध्यक्ष श्री जे.एन. कंसोटिया ने अंतर्राष्ट्रीय आदिवासी दिवस पर शासकीय छुट्टी घोषित करने पर मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ का आभार व्यक्त किया। उन्होंने शासन-प्रशासन एवं संस्थाओं में अजाक्स के लोगों को पर्याप्त प्रतिनिधित्व देने का आग्रह किया। श्री विजय शंकर श्रवण, श्री एच.एस. सूर्यवंशी एवं श्री सी.एम. धुर्वे ने भी संबोधित किया।

कार्यक्रम  में  जनसम्पर्क मंत्री श्री पी.सी. शर्मा, गृह  मंत्री  श्री बाला बच्चन, स्कूल  शिक्षा  मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी, आदिम जाति कल्याण मंत्री श्री ओंकार सिंह मरकाम, उच्च शिक्षा मंत्री श्री जीतू पटवारी, महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती इमरती देवी, अनुसूचित जाति कल्याण मंत्री श्री लखन घनघोरिया एवं बड़ी संख्या  में अधिकारी और कर्मचारी  उपस्थित थे।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment