Wednesday, July 8th, 2020

लौह अयस्क की मूल्य निर्धारण नीति पर पुनर्विचार की ज़रूरत

मुर्तज़ा किदवई    नई दिल्ली.   एनएमडीसी लिमिटेड ने वर्ष की पहली तिमाही के दौरान 298 कर्मचारी शामिल किये, जबकि लौह अयस्क उद्योग मंदी के प्रभाव से लड़खड़ा रहा है । श्रमशक्ति के साथ-साथ उपकरण और मशीनों की क्षमता को सुधारना कंपनी की रणनीति का हिस्सा है । श्रम शक्ति के उपयेगा में 259 तकनीकी कर्मचारी 39 गैर-तकनीकी कर्मचारी शामिल है । कंपनी ने कुल 354 करोड़ रुपये मूल्य के विशिष्ट उपकरणों के लिए आदेश भी दे दिया है । उपकरणों में हाइड्रोलिक एक्सकैवेटर्स, इलैक्ट्रिक रोप शॉवेल्स, ह्वील डोजर्स और डम्पर्स शामिल है । एनएमडीसी के अध्यक्ष राणा सोम ने कल इस्पात मंत्री वीरभद्र सिंह की अध्यक्षता मे कंपनी की तिमाही समीक्षा बैठक में यह बात कही । उन्होंने कहा कि प्रशिक्षण और कौशल विकास पर जोर देते हुए कंपनी ने वर्ष के दौरान 3583 कर्मचारियों को प्रशिक्षित किया है । 557 कार्यकारी भी कार्यकारी विकास कार्यक्रम के तहत प्रशिक्षित किये गये । श्री सोम ने कहा कंपनी भारत में पहली बार डम्पर्स और शॅवेल्स के संचालन के प्रशिक्षण के लिए अनुरूपकों को प्राप्त करने वाली है ।  श्री सोम ने कहा सामान्यत: उद्योग और विशेष कर एनएमडीसी नवम्बर, 2008 मे बिक्री के सर्वाधिक निम्न स्तर से गुजरने के बाद मंदी से बाहर आ रहा है । उन्होंने कहा कि बाजार चढ रहा है और एनएमडीसी तीन तिमाहियों में बिक्री के उच्च स्तर पहुंचने पर पिछले वर्ष के बिक्री स्तर पर आ जायेगी ।  उन्होंने बताया कि मौजूदा बाजार में दोनों दीर्घावधि ठेकों को लौह अयस्क की मूल्य निर्धारण नीति पर पुनर्विचार करने की आवश्यकता है । वीरभद्र सिंह ने कहा कि एमएमडीसी इस्पात निर्माण कब से कर रही हैं और जानना चाहा कि क्या कंपनी उपयुक्त तकनीकी श्रम शक्ति से सुसज्जित है । उन्होंने कहा इस्पात की प्रति 10 लाख टन संयंत्र लागत बातचीत के जरिये कम की जानी चाहिए ।  श्री सोम ने कहा कि मार्च, 2010 मे मौजूदा मूल्य निर्धारण नीति के समाप्त होने के बाद मूल्य निर्धारण पर पुनर्विचार के लिए परामर्शदाता की सेवाएं ली जायेंगी । इस्पात राज्य मंत्री साई प्रताप, इस्पात सचिव पी के रस्तोगी और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने कल हुई बैठक में भाग लिया ।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment