Tuesday, October 15th, 2019
Close X

लोकतंत्र में यदि केरल का कोई 'गड़रिया' राष्ट्रपति बन सकता है तो एक 'चाय वाला' भी प्रधानमंत्री बन सकता है:दिग्विजय सिंह

images (9)आई एन वी सी,

दिल्ली,

वैसे तो कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह अपने विचारोँ और टिप्पणीयोँ के लिये हमेशा ही चर्चा में बने रहते हैं लेकिन नरेन्द्र मोदी के प्रखर आलोचक माने जाने वाले दिग्विजय सिंह ने अप्रत्याशित टिप्पणी करते हुए कहा है कि गुजरात के मुख्यमंत्री अपनी "उन्मादी" विचारधारा से हट रहे हैं और एक "चायवाला" भी प्रधानमंत्री बन सकता है।एक टीवी समारोह में शिरकत करते वक़्त उन्होनेँ ये कहा। उधर भाजपा ने मोदी के लिए दिग्विजय की इस टिप्पणी का स्वागत किया। दिग्विजय सिंह ने कहा कि वह इस बात का स्वागत करते हैं कि मोदी धीरे धीरे अपनी उन्मादी विचारधारा से हट रहे हैं और अटल बिहारी वाजपेयी की विचारधारा की ओर बढ रहे हैं और हम सबको इसका स्वागत करना चाहिए कि  संघ और भाजपा कांग्रेस और नेहरू की विचारधारा के करीब आ रहे हैं।

उन्होंने हालांकि यह भी कहा कि मोदी भारत की जनता को स्वीकार्य नहीं होंगे और खुदा न करे यदि भाजपा सत्ता में आये तो वह सुषमा स्वराज को मोदी के मुकाबले तरजीह देंगे। सिंह ने इस बात को गलत बताया कि कांग्रेस एक परिवार और कुछ विशेष लोगों के हाथों में है और भाजपा की तरह कांग्रेस आम कार्यकर्ता को बढ़ते नहीं देखना चाहती। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में यदि केरल का कोई गडरिया राष्ट्रपति बन सकता है तो एक चाय वाला भी प्रधानमंत्री बन सकता है।

भाजपा नेता स्मृति ईरानी ने सिंह की टिप्पणी को लपकते हुए कहा कि हमने नहीं सोचा था कि दिग्विजय सिंह कहेंगे कि एक चाय वाला भी प्रधानमंत्री कैसे बन सकता है। "मुझे खुशी है कि मोदी जी की तारीफ दिग्विजय सिंह जी कर रहे हैं।" इस पर सिंह ने कहा कि लोकतंत्र में कोई भी अछूत नहीं है, भले ही वह किसी अमीर परिवार में जन्मा हो या गरीब परिवार में। सिंह ने कहा कि भारत की जनता को वाजपेयी और सुषमा स्वीकार्य हो सकते हैं लेकिन मोदी स्वीकार्य नहीं होंगे। उन्होंने पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों के "एक्जिट पोल" को भी गलत करार दिया और ये बात मानने से मना कर दिया कि ये चुनाव आगामी लोकसभा चुनावों के सेमीफाइनल की तरह हैं।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment