के. वी. रमण
 
चेन्नई (तमिलनाडु) .
   श्रीलंका सरकार ने दावा किया है कि तमिल विद्रोही गुट लिबरेशन टाइगर्स ऑफ तमिल ईलम (लिट्टे) के  प्रमुख वी. प्रभाकरण के पुत्र चार्ल्स एंथनी सहित तीन बड़े कमांडर भी मारे गए हैं.

यह खबर श्रीलंकाई सेना के हवाले से आई है. सेना के प्रवक्ता के मुताबिक़ प्रभाकरण के बेटे चार्ल्स एंथनी की लाश मिली है. उन्होंने बताया कि सेना और लिट्टे के बीच जारी संघर्ष के दौरान लिट्टे कमांडर नदेशन, पुलिवेशन और रमेश मारे गए हैं. 

कल श्रीलंकाई सेना ने 70 विद्रोहियों को मारने का दावा किया था. लिट्टे के छह जहाज़ो को भी तबाह कर दिया गया है. लेकिन इस बात की पुष्टि नहीं हो पाई है कि प्रभाकरन कहां हैं?  

सेना का दावा है कि युद्ध वाले इलाक़ों से अब तक लगभग 72 हज़ार नागरिकों को सुरक्षित निकाला जा चुका है, लेकिन राहत शिविरों की हालत अच्छी नहीं है. लिट्टे इसके लिए अंतरराष्ट्रीय संगठन रेड क्रॉस को जिम्मेदार ठहरा रहा है.    

गौरतलब है कि 1983 से जारी इस संघर्ष में 80 हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. इसका असर श्रीलंका की अर्थव्यवस्था पर भी पड़ा है.  इस युद्ध को लेकर अंतरराष्ट्रीय समुदाय भी चिंचित है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here