Tuesday, July 7th, 2020

''लंबी जुदाई'' का गहरा ग़म दे इस दुनिया से विदा हुईँ रेशमा

images (2)आई एन वी सी,

दिल्ली,

अपने ज़माने की मशहूर पाकिस्तानी गायिका रेशमा 'लम्बी जुदाई' का गाना सुनाकर हमेशा के लिए जुदा हो गई। रेशमा के निधन की ख़बर उनके जन्म स्थान राजस्थान में बहुत दुःख और अवसाद के साथ सुनी गई|संगीत के कद्रदानों के लिए पिछले कुछ समय में ये दूसरा दुःख भरा समाचार है. पहले शहंशाह--ग़ज़ल मेहंदी हसन विदा हुए और अब रेशमा ने भी दुनिया को अलविदा कह दिया।रेशमा राजस्थान में रेगिस्तानी क्षेत्र के चुरू जिले के लोहा में पैदा हुई और फिर पास के मालसी गाव में जा बसी. भारत बंटा तो रेशमा अपने परिवार के साथ पाकिस्तान चली गई. लेकिन इससे ना तो उनका अपने गांव से रिश्ता टूटा न ही लोगों से।रेशमा को जब भी मौका मिला वो राजस्थान आती रहीं और सुरों को अपनी सर-ज़मी पर न्योछावर करती रहीं। लोगों को याद है जब रेशमा को वर्ष 2000 में सरकार ने दावत दी और वो खिंची चली आईं तब उन्होंने ने जयपुर में खुले मंच से अपनी प्रस्तुति दी और फ़िज़ा में अपने गायन का जादू बिखेरा। राजस्थानी गीत संगीत को अपनी रिकॉर्डिंग के काम से ऊंचाई देने वाले केसी मालू का गांव रेशमा के पुश्तैनी गांव से दूर नहीं है। केसी मालू को मलाल है रेशमा की चाहत के बावजूद भी वो उनके गीत गायन को रिकॉर्ड नहीं कर सके ।खुद रेशमा ने उनसे 'पधारो म्हारे देश' गीत रिकॉर्ड करने को कहा था। रेशमा अब नहीं रहीं ।दमादम मस्त कलंदर सुनाकर वो चली गईं,आखिरी बार जब रेशमा ने जयपुर में 'लम्बी जुदाई' सुनाया तो कौन जानता था कि ये जुदाई बहुत लम्बी होने वाली है, इतनी लंबी कि फिर न मिले।रेशमा न सही मगर फिज़ा में बिखरे उनके बोल उनकी मौजूदगी की गवाही देते रहेंगे।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment