राष्ट्रपति के अभिभाषण में महिलाओं और अल्पसंख्यकों के उत्थान पर विशेष ज़ोर

15
53

ज़ाकिर हुसैन

नई दिल्ली.  राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल ने आज पंद्रहवीं लोकसभा के गठन के बाद पहली बार दोनों सदनों के संयुक्त अधिवेशन को संबोधित किया.  अपने संबोधन के दौरान राष्ट्रपति ने यूपीए सरकार के एजेंडे को प्रस्तुत करते हुए महिलाओं और अल्पसंख्यकों के उत्थान पर विशेष ज़ोर दिया.      

नई लोकसभा के गठन के बाद संसद के संयुक्त अधिवेशन को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल ने कहा कि
यूपीए सरकार महिलाओं को विधानसभाओं व लोकसभा में एक तिहाई तथा पंचायतों और शहरी स्थानीय निकायों में 50 फीसदी आरक्षण देने के लिए प्रतिबद्ध है. उन्होंने कहा कि सरकार अगले 100 दिन के भीतर इस दिशा में काम करेगी. इसके तहत राज्य विधानसभाओं और लोकसभा में महिलाओं को एक तिहाई आरक्षण देने के लिए संसद में महिला आरक्षण विधेयक शीघ्र पारित कराने का प्रयास शामिल है।

उन्होंने कहा कि सरकार अगले पांच वर्षों में हर महिला को साक्षर बनाने के लिए राष्ट्रीय साक्षरता मिशन को राष्ट्रीय महिला साक्षरता मिशन के रूप में पुनर्गठित करेगी। इससे महिलाओं को लाभ होगा. उन्होंने कहा कि वर्ष 2001 में महिला साक्षरता मात्र 54 प्रतिशत थी. आशा की जा सकती है कि राष्ट्र महिला साक्षरता मिशन गठित होने से उनकी साक्षरता दर में बढ़ोतरी होगी. उन्होंने यह भी कहा कि सरकार ने महिलाओं के लिए समान अवसर सृजित करने वाले कुछ महत्वपूर्ण उपाय प्रस्तावित किए हैं। उन्होंने कहा कि सरकार की नौकरियों में महिलाओं का प्रतिनिधित्व बढ़ाने के लिए संगठित प्रयास किए जाएंगे। साथ ही बेहतर समन्वय के लिए महिला केंद्रित कार्यक्रमों को मिशन के रूप में लागू करने को लेकर महिला सशक्तीकरण पर एक राष्ट्रीय मिशन की स्थापना की जाएगी।

राष्ट्रपति ने कहा कि यूपीए सरकार अल्पसंख्यकों के कल्याण को उच्चतम प्राथमिकता देना जारी रखेगी और इसके लिए समान अवसर आयोग स्थापित करेगी। संसद के संयुक्त अधिवेशन में प्रतिभा ने कहा कि सरकार अल्पसंख्यकों के कल्याण को उच्चतम प्राथमिकता देना जारी रखेगी।

उन्होंने कहा कि वैश्विक आर्थिक मंदी से भारत भी बुरी तरह प्रभावित हुआ है. इसलिए प्रभावित बुनियादी ढांचा क्षेत्र, निर्यात, छोटे एवं मध्यम उपक्रम और आवास क्षेत्र पर प्रमुख रूप से ध्यान दिया जाएगा.  उन्होंने कहा कि सरकार नया कानून बनाएगी, ताकि गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले (बीपीएल) परिवारों को तीन रुपए प्रतिकिलो की दर पर प्रत्येक माह 25 किलो चावल या गेहूं उपलब्ध कराया जा सके।
 
इस अवसर पर उप राष्ट्रपति मोहम्मद हामिद अंसारी, लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार, प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और उनके मंत्रिमंडल के सभी प्रमुख मंत्री, यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी, लोकसभा में विपक्ष के नेता लालकृष्ण आडवाणी और राज्य सभा में विपक्ष के नेता अरुण जेटली और पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवगौड़ा भी मौजूद थे।

15 COMMENTS

  1. Awesome piece of writing I must, you placed all his time and energy engrossed I will tell! The entire website is absolutely very good on top of that. What term would the application just take anyone to generate this fabulous site approximately exactly where it is really now?

  2. Very timely post for me. All I’ve been hearing lately is affiliate marketing and list building. And I’m finally taking action by writing an ebook to accomplish both! I am actually reorganizing my whole business based on affiliate marketing and referrals! Selling other people’s products is a solid gig.

  3. So not really on the same topic as your post, but I found this today and I just can’t resist sharing. Mrs. Agathe’s dishwasher quit working so she called a repairman. Since she had to go to work the next day, she told him, “I’ll leave the key under the mat. Fix the dishwasher, leave the bill on the counter, and I’ll mail you the check. Oh, and by the way…don’t worry about my Doberman. He won’t bother you. But, whatever you do, do NOT under ANY circumstances talk to my parrot!” When the repairman arrived at Mrs. Agathe’s apartment the next day, he discovered the biggest and meanest looking Doberman he had ever seen. But just as she had said, the dog simply laid there on the carpet, watching the repairman go about his business. However, the whole time the parrot drove him nuts with his incessant cursing, yelling and name-calling. Finally the repairman couldn’t contain himself any longer and yelled, “Shut up, you stupid ugly bird!” To which the parrot replied, “Get him, Spike!”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here