Tuesday, June 2nd, 2020

राजेश पाण्डेय ने अपनी कार्यप्रणाली से व्यापक जनाधार का किया निर्माण

rajesh-pandeyआई.एन.वी.सी न्यूज़,

लखनऊ ,
उत्तर प्रदेश में शुरू हो चुकी राजनैतिक सरगर्मियों के बीच विभिन्न दल अपने अपने प्रत्यशियों के चयन में बहुत फूंक फूंक कर कदम रख रहे है | इस बार यह देखने में आ रहा है की मतदाता केवल पार्टी को न देख ,आने वाले प्रत्याशियों की कार्यप्रणाली , व्यव्हार और राजनैतिक समझ की भी परीक्षा ले रहे है | बात करे गोरखपुर ग्रामीण विधानसभा के बसपा प्रत्याशी राजेश पाण्डेय की ,तो उनकी लोकप्रियता का ग्राफ दिनों दिन नई उचाईयों को छूता जा रहा है | उन्होंने एक अलग तरीके से अपनी दिनचर्या बना रखी है | सुबह तडके की अपने समर्थकों के साथ क्षेत्र के दौरे पर निकल जाना और देर रात वापस आना उनकी दिनचर्या का एक अंग हो चुका है |क्षेत्र के दौरे पर वह गोरखपुर ग्रामीण विधानसभा के प्रत्येक गाँव / वार्ड में जा कर एक-एक लोगो से व्यक्तिगत मिल कर उनकी समस्याओं को सुनते है और अगर उसका निराकरण तत्काल संभव होता है तो उसे अपने स्तर से हल कर देते है | बाकी समस्याओं को डायरी में नोट कर उसके निराकरण हेतु आगे की कार्यवाही सुनिश्चित करवाते है| उनकी एक व्यक्तिगत टीम विधानसभा से लोगो का डेटा एकत्रित कर उन्हें फोन कर उनकी समस्याएं पूछ कर उनकी एक लिस्ट बना कर सम्बंधित विभाग को सूचित करती है | राजेश पाण्डेय की यह कार्ययोजना क्षेत्र के लोगो को बहुत पसंद आ रही है , लोगों का यह कहना है की "जनप्रतिनिधि की वास्तविक अवधारणा की लोगो की मूलभूत जरुरतो को अपनी निगरानी में पूर्ण कराना होता है ,लेकिन दुर्भाग्य से अभी तक किसी जनप्रतिनिधि ने इस तरह की पहल नहीं किया है |
हजारों लोग उन्हें अपनी समस्याओं से व्यक्तिगत रूप से अवगत करा कर उसका निराकरण करा चुके है | बिजली के खम्भे या ट्रांसफार्मर बदलाना हो ,पानी ,सड़क ,खडंजा ,सरकारी नल की मरम्मत हो या धार्मिक स्थलों की मरम्मत हो , राजेश पाण्डेय ने अपने व्यक्तिगत प्रयासों से  अनेकों समस्याओं का सकारात्मक हल निकाला है | राजेश पाण्डेय की लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से हो रहा है की जहाँ एक तरफ नित्य अनेकों लोग उनके पास अपनी व्यक्तिगत समस्याएँ ले कर पहुच रहे है वहीँ दूसरी ओर गोरखपुर ग्रामीण विधानसभा में उनके सैकड़ों समर्थक अपने अपने समूह के साथ गाँव गाँव / मोहल्ला मोहल्ला जा कर उनके प्रचार –प्रसार में स्वेक्षा से दिन रात एक किये हुए है | क्षेत्रवासियों का यह जूनून राजेश पाण्डेय की कार्यप्रणाली की लोकप्रियता को दर्शाता है | गाँव गाँव / मोहल्ला मोहल्ला उनके समर्थको की तादात बहुत लंबी है और इस बात की चर्चा आम है की जनप्रतिनिधि का चुनाव लड़ने वाले लोग रटे रटाये मुद्दों पर सीधे जनता से वोट मांगने आते है लेकिन राजेश पाण्डेय की कार्ययोजना व् चुनाव लड़ने का तरीका सबसे अलग और अनोखा है | विभिन्न समसामयिक मुद्दों पर उनकी जानकारी और राजनितिक समझ उन्हें अन्य राजनीतिज्ञों की कतार में अलग दिखाती है |
वो जनता को यह बताना भी नहीं भूलते है की “लोकतंत्र में जनता का क्या अधिकार और कर्तव्य होता है “ ,वो यह बताते है की सभी योजनाये जनता के लिए बनती है और जनता को यह पूरा अधिकार होता है की ,उन योजनाओं की प्रगति की जानकारी प्राप्त कर उसका स्वयं निरिक्षण करे | जनप्रतिनिधि जनता का सेवक होता है और उसका रिपोर्ट कार्ड जनता बनाती है | जनता की यही जागरूकता एक स्वस्थ् लोकतंत्र की स्थापना में महत्वपूर्ण होती है | यही कारण है की अभी तक जातिवाद के दम पर होने वाला गोरखपुर ग्रामीण विधानसभा का चुनाव व्यक्तिगत हो गया है , सभी धर्मों –सम्प्रदायों के लोगो का पूर्ण समर्थन राजेश पाण्डेय को मिल रहा है | गोरखपूर ग्रामीण विधानसभा के उर्दू बाजार मोहल्ले के खालिद नियाज़ हो या बेलिपार क्षेत्र के जितई पासवान ,सभी का एक ही कहना है की राजेश पाण्डेय राजनीती में मील का पत्थर साबित होंगे ,वो अपने लिए नहीं ,जनता के हितों के लिए चुनावी मैदान में है और निश्चित ही सफलता उनके कदम चूमने जा रही है ,छात्र राजनीती से ही उनकी सर्वसुलभता और लोगों के लिए सदैव खड़ा रहना उनकी फितरत रही है | अन्य नेताओं की तरफ वो किसी को टालते नहीं है ,सबकी सुनते है और सच्चाई के साथ खड़े रहते है |

Comments

CAPTCHA code

Users Comment