Close X
Monday, October 26th, 2020

राजनीति की दिशा तय करेगी गोहाना रैली : दीपेंद्र सिंह हुड्डा

DEEPENDRA SINGH HOODAआदेश त्यागी,
आई एन वी सी,
हरियाणा,
  • १० नवंबर की कांग्रेस की रैली को लेकर गोहाना में मंथन
  • रैली की तैयारियों के लिए वर्कर मीटिंग में जुटे हजारों
कांग्रेस सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि १० नवंबर को गोहाना में होने वाली कांग्रेस की राज्य स्तरीय रैली के खास मायने हैं। कांग्रेस की यह रैली इस बात को तय करेगी कि आने वाले समय में देश की राजनीति की दिशा  क्या होगी। कांग्रेस सांसद ने रविवार को गोहाना में आगामी १० नवंबर को होने वाली कांग्रेस की रैली के लिए जोरदार आगाज किया। गोहाना में प्रदेश कांग्रेस की राज्यस्तरीय रैली दस नवंबर को होने जा रही है। इस रैली की तैयारियों को लेकर शुरुआत भी आज गोहाना से हुई। यहां रेस्ट हाउस में कार्यकर्ता बैठक में हजारों की संख्या में लोग जुड़े। सांसद के आह्वान पर सभी ने जोशीले अंदाज से रैली की सफलता के लिए सांसद को आश्वस्त किया। दशहरे की शुभकामनाएं देते हुए दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि १० नवंबर को होने जा रही कांग्रेस की रैली का संदेश दो दिशाओं में जाएगा। रैली हरियाणा के राजनीतिक भविष्य के फैसले को भी तय करेगी। कार्यकर्ता सम्मेलन में जुटी हजारों की भीड़ पर उत्साहित दीपेंद्र ने पत्रकारों द्वारा पूछे गए प्रश्र का जिक्र करते हुए कहा कि भाजपा की रैली में जितने लोग आते हैं उससे कही अधिक संख्या में गोहाना में कार्यकर्ता बैठक में आज लोग भागीदारी बनेे हैं। १० नवंबर की रैली महाकुंभ मेले की तरह विशाल होगी। सांसद ने कहा कि आज पूरे प्रदेश में जिस तरह से विकास का पहिया घूमा है उससे हरियाणा का जिक्र पूरे देश में है। विकास के बावजूद कुछ लोगों को तकलीफ है। सांसद ने ठेठ हरियाणवी में कहा कि वास्तव में रोला काम का नहीं बल्कि नाम का है। हजकां प्रमुख कुलदीप बिश्रोई पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि वे पांच साल में एक बार किसान के घर का चूरमा खाते हैं लेकिन वे हर दिन ही नहीं रात को भी किसान के घर का चूरमा खाकर सोते हैं। दीपेंद्र ने कहा  पिछले आठ वर्ष पहले मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के नेतृत्व में कांग्रेस आई उस समय प्रदेश का किसान संकट में था। पूर्व की सरकार में प्रदेश विकास के मामले में निरंतर पीछे जा रहा था। किसान, मजदूर और गांवों को आर्थिक तौर पर मजबूत करते हुए हरियाणा ने विकास में एक नई पहचान कायम की है। वर्तमान सरकार ने फसल के दामों में जितनी वृद्धि की है उतनी पहले कभी नहीं हुई। सांसद ने कहा कश्मीर से कन्याकुमारी तक विकास के मामले में हरियाणा का मुकाबला नहीं है। उन्होंने कहा वे विकास के मामले में भी गुजरात की खुली छुट्टी बोलते हैं। गुजरात को मुकाबला करना है तो  किसान को गन्ने की फसल का देश में सर्वाधिक भाव, पड़ोसी प्रदेश पंजाब और गुजरात की तुलना में अधिक बुढ़ापा पेंशन, मनरेगा में दी जाने वाली दिहाड़ी और डीजल के मूल्यों सहित किसी भी मोर्चे पर मुकाबला करे, हरियाणा हर कहीं आगे मिलेगा। सांसद हुड्डा ने कहा एक नजर दिल्ली और चंडीगढ़ पर रखने की जरूरत है। हरियाणा छोटा प्रदेश है। यह सोचने की बात है कि ३३ सालों तक प्रदेश में एक भी रेल की लाइन नहीं आई जबकि वर्तमान सरकार के कार्यकाल में मेवात, यमुनानगर, अग्रोहा, झज्जर, हांसी-महम सहित अनेक रेल परियोजनाओं स्वीकृत हुई हैं। पिछले चार-पांच वर्षों से रेल मंत्री रेल बजट पढ़ते हैं तो हरियाणा की चर्चा किए बिना रेल बजट खत्म नहीं करते। हरियाणा में पहली बार हिसार और करनाल में एयरपोर्ट मंजूर हुए हैं। इस अवसर पर सोनीपत के सांसद जितेंद्र मलिक ने बैठक में कहा कि गोहाना की रैली ऐतिहासिक होगी। उन्होंने कहा सोनीपत लोकसभा क्षेत्र से बड़ी संख्या में लोगों की उपस्थिति इस रैली में रहेगी। मुख्यमंत्री के राजनैतिक सलाहकार प्रो. वीरेंद्र सिंह ने कहा कि गोहाना में रैली नहीं बल्कि रैली के रूप में महाकुंभ होगा जहां लाखों की संख्या में लोग पहुंचेंगे। गोहाना के विधायक जगबीर मलिक व बरौदा के विधायक श्रीकृष्ण हुड्डा ने  भी गोहाना रैली में हलकों की ओर से भारी भागीदारी का आह्वान कार्यकर्ताओं से किया। गोहाना को तीन सड़कों की मिली सौगात गोहाना का जिक्र करते हुए सांसद दीपेंद्र ने  कहा कि पानीपत-गोहाना-बावल तक राष्ट्रीय राजमार्ग का निर्माण हो चुका है। गोहाना से सोनीपत  मार्ग पर भी काम शुरू हो चुका है। दीपेंद्र ने बताया कि गोहाना से महम व गोहाना से जींद रोड को भी एन.सी.आर. प्लानिंग बोर्ड से मंजूरी मिल चुकी है। उन्होंने कहा योजना यह भी है कि गोहाना में एक साइड का बाईपास बन चुका है दूसरी ओर से भी बाईपास निकाला जाएगा। चूंकि विकास जोडऩे का काम करता है तोडऩे का नहीं। इस मौके पर पूर्व मंत्री वेदसिंह मलिक, प्रदीप गौतम, जीता हुड्डा, मनोज रिढाऊ, भल्लेराम, जोंगेंद्र दहिया, सतीश कुमार, डा.संतोष बजाज, जगशेर, परमेंद्र जोली, जयपाल बुटाना, चांद पहलवान, राजीव कटारिया, अशोक सरोहा, विनोद धनखड़, कुलदीन गगाना, अनूप मलिक, संजीव दहिया, अशोक, आनंद नैन, सुनीता लोहचब, बिजेंद्र पहलवान, बंसी बाल्मीकि, खजान सिंह भंडेरी, मोनिका मलिक, भूपेंद्र मलिक सहित अनेक कांग्रेसी कार्यकर्ता मौजूद थे।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment