Close X
Tuesday, October 20th, 2020

योगी सरकार हवाई सेवा से भी ज्यादा से ज्यादा जिलों को जोड़ने के लिए प्रयासरत

लखनऊ,  उत्तर प्रदेश में एक्सप्रेसवे का मजबूत संजाल बुन रही योगी सरकार हवाई सेवा से भी ज्यादा से ज्यादा जिलों को जोड़ने के लिए प्रयासरत है। गुरुवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या, चित्रकूट और सोनभद्र में निर्माणाधीन हवाई अड्डों को लेकर केंद्रीय नागर विमानन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) हरदीप सिंह पुरी से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से चर्चा की। दोनों ओर से आश्वस्त किया गया कि कोई काम लंबित नहीं होगा। जल्द ही यह शहर हवाई से जुड़ेंगे।

लोकभवन में आयोजित वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पिछले साढ़े तीन वर्षों में उत्तरप्रदेश में 17 हवाई अड्डों के लिए विकास कार्य हो रहे हैं। पहले यहां पर मात्र दो एयरपोर्ट थे, जबकि वर्तमान में सात पर हवाई सेवा शुरू है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मंशा के अनुरूप उड़ान योजना और हवाई अड्डा निर्माण में केंद्र सरकार का पूरा सहयोग मिल रहा है। उन्होंने कहा कि सभी 17 एयरपोर्ट शुरू हो जाने पर नागरिक उड्डयन की सुविधा बढ़ेगी। बेहतर हवाई कनेक्टिविटी से पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा, व्यापक स्तर पर रोजगार के अवसर तैयार होंगे और प्रदेश का तेजी से विकास होगा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अयोध्या, चित्रकूट और सोनभद्र (म्योरपुर) एयरपोर्ट की स्थापना के लिए राज्य सरकार, केंद्र सरकार की अपेक्षाओं के अनुरूप तेजी से काम कर रही है। कोई भी मुद्दा लंबित नहीं रहेगा। उन्होंने केंद्रीय मंत्री से बरेली, हिंडन, सहारनपुर, मेरठ, लखनऊ और वाराणसी में हवाई अड्डा संबंधी विकास कार्य करने का अनुरोध किया। कहा कि बरेली, हिंडन, सहारनपुर व मेरठ से भी उड़ान की सुविधा मिलने पर कनेक्टिविटी बढ़ेगी।

केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि अयोध्या व चित्रकूट धार्मिक, आध्यात्मिक व पर्यटन की दृष्टि से महत्वपूर्ण हैं। इसी प्रकार, सोनभद्र में भी पर्यटन की अनेक संभावनाएं हैं। अयोध्या एयरपोर्ट चरणबद्ध ढंग से विकसित किया जाएगा। केंद्र व राज्य सरकार अयोध्या, चित्रकूट और सोनभद्र (म्योरपुर) एयरपोर्ट के लिए अवस्थापना सुविधाएं विकसित करने के लिए निरंतर काम कर रही हैं।

नागर विमानन मंत्रालय, भारत सरकार के अधिकारियों ने बताया कि बरेली, सहारनपुर में हवाई उड़ान के संबंध में काम चल रहा है। मेरठ और हिंडन से उड़ान के संबंध में स्वीकृति मिलने के बाद कार्यवाही की जाएगी। इस मौके पर नागरिक उड्डयन मंत्री नंदगोपाल गुप्ता नंदी, अपर मुख्य सचिव सूचना एवं गृह अवनीश कुमार अवस्थी, अपर मुख्य सचिव नागरिक उड्डयन एसपी गोयल सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

बता दें कि योगी आदित्यनाथ सरकार के कार्यकाल में 2017 के बाद प्रदेश मे अब 51 घरेलू और 12 अंतरराष्ट्रीय उड़ानों की सुविधा है। उत्तर प्रदेश ने सिविल एविएशन के क्षेत्र में मिसाल कायम की है। जिसके कारण पर्यटन और रोजगार के अवसर बढ़े हैं। प्रदेश के जेवर में अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट बन रहा है। यह विश्व के सबसे बड़े एयरपोर्ट में शामिल हो गया है। योगी आदित्यनाथ सरकार ने प्रदेश के गोरखपुर, आगरा, कानपुर, प्रयागराज तथा गाजियाबाद के हिंडन एयरपोर्ट से नियमित उड़ान की व्यवस्था शुरू कराने में सफलता प्राप्त की है।

इनके साथ ही अब कई वर्ष से प्रस्तावित नोएडा इंटरनेशनल ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट भी तैयार हो रहा है। यह 1334 हेक्टेयर क्षेत्रफल में तैयार हो रहा है। प्रदेश में अब बरेली एयरपोर्ट से भी घरेलू उड़ान की तैयार हो गई है जबकि आजमगढ, अलीगढ, मुरादाबाद, श्रावस्ती, चित्रकूट, म्योरपुर (सोनभद्र) व झांसी के एयरपोर्ट तेजी से विकसित हो रहे हैं। अयोध्या में भी एयरपोर्ट का काम तेजी से शुरू हो गया है, इनके साथ गाजीपुर, सहारनपुर और मेरठ एयरपोर्ट का काम गति पकड़ चुका है।  PLC.

 

Comments

CAPTCHA code

Users Comment