Monday, July 6th, 2020

ये गरीबी पर आखिरी वार

आई एन वी सी न्यूज़

नई दिल्ली  , रणदीप सिंह सुरजेवाला ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि आज कांग्रेस की कार्यसमिति की बैठक अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के प्रांगण में हुई, जिसकी अध्यक्षता कांग्रेस अध्यक्ष श्री राहुल गांधी द्वारा की गई, जिसमें डॉ. मनमोहन सिंह जी और अन्य वरिष्ठ नेताओं ने हिस्सा लिया। आज कांग्रेस अध्यक्ष आपके बीच में इस देश में गरीबी पर वार करने को लेकर एक सबसे महत्वपूर्ण बात की चर्चा करने आए हैं, मैं बगैर विलंब के उनसे अनुरोध करुंगा कि वो आपसे बात करें। श्री गांधी ने कहा कि पिछले 5 सालों में हिंदुस्तान की जनता को बहुत मुश्किलें सहनी पड़ी, खासतौर से जो हमारे गरीब लोग हैं, उनको काफी मुश्किलें सहनी पड़ रही हैं। तो अब कांग्रेस पार्टी ने निर्णय लिया है कि हम हिंदुस्तान के गरीब लोगों को ‘न्याय’ (NYAY) देने जा रहे हैं। जो हमारा मिनिमम इंकम गारंटी स्कीम है, ‘न्यूनतम आय योजना’ जिसका नाम है, उसकी थोड़ी सी डिटेल मैं आपको बताता हूं, खुशी से और गर्व से बताना चाहता हूं, क्योंकि ये शायद ऐसी ऐतिहासिक स्कीम, जो हिंदुस्तान को छोड़िए, दुनिया में कहीं ऐसी योजना लागू नहीं की गई है। तो आपने काफी सवाल मुझसे पूछे हैं, जहाँ भी मैं जाता हूं, युवा, जनता, किसान, मजदूर मुझसे पूछते हैं कि ये मिनिमम आमदनी की लाइन क्या होगी? इस योजना की स्ट्रैंथ क्या होगी, ये स्कीम कितने लोगों की मदद करेगी। ये मैं आपको, हिंदुस्तान की जनता को, हिंदुस्तान के गरीबों से कहना चाहता हूं कि यह लाइन न्यूनतम 12,000 रुपए मासिक आमदनी की होगी। हाँ, Surprise हुए ना आप, Shock हुए ना आप, मतलब भाईयो और बहनों इतना पैसा हिंदुस्तान में है। Surprise मत होईए अभी, धमाका बढ़ने जा रहा है। तो कांग्रेस पार्टी गारंटी देती है कि हिंदुस्तान के 20 प्रतिशत सबसे गरीब परिवारों को हर साल 72,000 रुपए देने जा रही है। मैं फिर से कहता हूं- एक साल में 20 प्रतिशत सबसे गरीब परिवारों को हर जाति, हर धर्म, हर भाषा के गरीब परिवारों को 72,000 रुपए प्रति वर्ष उनके बैंक अकाउंट में सीधा डाल दिया जाएगा। अगर नरेन्द्र मोदी जी हिंदुस्तान के सबसे अमीर लोगों को पैसा दे सकते हैं, तो कांग्रेस पार्टी देश के सबसे गरीब लोगों को पैसा दे सकती है। अब आप याद रखिए, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान में मैंने वायदा किया था - 10 दिन में कर्जा माफ होगा। मैं आपको यहाँ वायदा कर रहा हूं, ‘न्याय’ होगा, 20 प्रतिशत परिवारों को साल का 72,000 रुपए मिलेगा, स्कीम चरणबद्ध तरीके से चलेगी, चरणबद्ध तरीके से यह कार्य होगा, पहले पायलट प्रोजेक्ट चलेगा, उसके बाद स्कीम चलेगी। मगर कांग्रेस पार्टी का वायदा है न्याय देने का। फिर से दोहराता हूं, भाईयो और बहनों, देश के युवाओं, 72,000 रुपया साल का 20 प्रतिशत सबसे गरीब परिवारों को मिलेगा। The Entire calculations have been done. The fiscal repercussions of this have been analyzed. This money is perfectly available. This scheme is perfectly doable. We are going to deliver this scheme. Now,  भाईयो और बहनों प्रधानमंत्री आपसे कहते हैं कि उन्होंने किसानों को पैसा दिया, साढ़े तीन रुपए उन्होंने किसानों को दिए, वहाँ संसद में ताली बजी, ठीक है? सिंपल सी बात है। आपको गुमराह किया जा रहा है, आपको साढ़े तीन रुपए दिए जाते हैं और प्राइवेट हवाई जहाज वालों को लाखों-करोड़ रुपए दिए जाते हैं, हम अब आपको न्याय देने जा रहे हैं। नंबर याद रखिए, 20 प्रतिशत सबसे गरीब परिवारों को 72,000 रुपए साल का दिया जाएगा। 5 करोड़ परिवारों को, 25 करोड़ लोगों को सीधा स्कीम का फायदा मिलेगा। एक प्रश्न पर कि कितने लोगों को इस योजना का लाभ मिलेगा, इसके उत्तर में श्री गांधी ने कहा कि पांच करोड़ परिवारों, 25 करोड़ लोगों को इस स्कीम का सीधा फायदा मिलेगा। इस योजना के कार्यान्वयन से संबंधित एक अन्य प्रश्न के उत्तर में श्री गांधी ने कहा कि न्यूनतम आय की सीमा 12 हजार रुपए की है, अर्थात् जिस परिवार का न्यूनतम आय इस 12,000 रुपए से कम होगी, उस रकम को कांग्रेस की सरकार उस परिवार के अकाउंट में डीबीटी द्वारा सीधा देगी, उनकी जो वास्तविक मासिक इंकम है और 12,000 रुपए का जो फर्क होगा, वो सरकार देगी। तो मान लो अगर आपकी इंकम 6,000 रुपए की हो, तो जो 12,000 से आपका कम है इंकम, उसका टॉप-अप करेगी। आप लोग आज हैरान लग रहे हो, शॉक्ड लग रहे हो, है न? भला ये क्या हुआ, ये कैसे हुआ। भाईयो और बहनों मैं आपको बता रहा हूँ, याद रखिए हर रोज आपके साथ चोरी की जा रही है, आपका पैसा लिया जा रहा है, हर रोज आपका पैसा लिया जा रहा है। हम अब आपको दिखाएंगे कि इस देश में आपका कितना हक है? एक अन्य प्रश्न पर कि फॉर्मूला क्या होगा इस इंकम को देने का, इसके उत्तर में श्री गांधी ने कहा कि हम इसको 4-5 महीने से स्टडी कर रहे हैं। दुनिया के बेहतर इकॉनमिस्ट से हमने डीटेल में एनालिसिस की है, ये फिस्कली प्रूडेंट स्कीम होगी, इसको हम फेजेज में करेंगे, डीटेल्स आप समझना चाहते हैं तो चिदम्बरम जी और जो हमारी टीम इस पर काम कर रही है वो आपको खुशी से डीटेल्स दे देंगे। एक अन्य प्रश्न पर कि सरकार पर इसका कितना बोझ आएगा, श्री गांधी ने कहा कि - That will be calculated; we will let you know the map. We have checked it again and again. It is fiscally perfectly possible. हमने आपको मनरेगा कमिट करके दिया था, हमने करके दिखा दिया, हम आपको नया कमिट कर रहे हैं। हम गरीबी को हिंदुस्तान से मिटा देंगे। एक अन्य प्रश्न के उत्तर में श्री गांधी ने कहा कि हिंदुस्तान में सब लोग काम कर रहे हैं। हमारा सिर्फ यह कहना है कि जब आप काम कर रहे हो, अगर आपकी आमदनी 12,000 रुपए से कम है, तो हम आपकी आमदनी को 12,000 रुपए तक पहुँचा देंगे, कोई काम बंद नहीं करेगा। जब वो व्यक्ति कम्फर्टेबली गरीबी के चंगुल से निकल जाएगा, 12,000 रुपए से, फिर वो स्कीम, It will stop on its own. लेकिन हमारी फिलोसोफी है कि अगर आप, हिंदुस्तान में आज एक मिनिमम इंकम से कम आपकी आमदनी है, तो फिर आप गरीबी से निकल ही नहीं सकते हो। तो हम आइडेंटिफाई करना चाहते हैं, इस देश में सबसे गरीब लोग कौन हैं और एक बार हम उनको गरीबी से निकालना चाहते हैं, गरीबी खत्म करना चाहते हैं। तो एक प्रकार से मनरेगा एक फेज था ऑपरेशन का, मनरेगा में 14 करोड़ लोगों को हमने गरीबी से निकाला। अब ये दूसरा फाइनल ऑपरेशन है अब इस सेकेंड फेज में हम 25 करोड़ लोगों को गरीबी से निकाल देंगे, गरीबी खत्म कर देंगे। It is an extremely powerful, extremely dynamic and extremely well thought idea. We have done all the calculations, we have asked the best Economists, they have all backed our idea, and we are going to implement this idea. On another question Shri Gandhi said- I am not interested in answering any other questions today. This is a ground breaking idea. I am not going to say anything else; this is a ground breaking idea यह ऐतिहासिक दिन है, हिंदुस्तान में Final assault on poverty is beginning. एक अन्य प्रश्न पर कि 2009  में आपने किसानों का कर्जा माफ किया, आप चुनाव जीते, 2019 में सामाजिक न्याय के लिए एक बड़ी स्कीम लेकर आप आए हैं, क्या हम इसको दुनिया की सबसे बड़ी स्कीम कह सकते हैं और ये भी कह सकते हैं कि ये आपके लिए एक बड़ा मुद्दा होगा लोकसभा चुनाव जीतने के लिए, क्या कहेंगे, श्री गांधी ने कहा कि मैंने भाषणों में कहा कि इस देश का एक झंडा है, दो झंडे तो नहीं हैं, एक झंडा है और प्रधानमंत्री जी अपनी पॉलिटिक्स से दो हिंदुस्तान बना रहे हैं, एक अनिल अंबानी जैसा और दूसरा गरीबों का, किसानों का युवाओं का। हमारे मैनिफैस्टो में शिक्षा के लिए, स्वास्थ्य के लिए, रोजगार के लिए प्रावधान है। आप पढ़ेंगे तो आपको बहुत अच्छा लगेगा, बहुत सोच-समझकर, लाखों लोगों से बात करके हमने मैनिफेस्टो बनाया है। मगर हमने ये भी स्वीकार किया है कि 21वीं सदी में हिंदुस्तान से गरीबी को मिटाना है, खत्म करना है। कांग्रेस पार्टी के लिए ये स्वीकार्य नहीं है कि 21वीं सदी में इस देश में गरीब लोग हैं। तो ये स्कीम नहीं है, ये अब गरीबी पर फाइनल असॉल्ट है और हम दो हिंदुस्तान नहीं बनने देंगे। अमीरों का गरीबों का हिंदुस्तान अलग-अलग नहीं होगा। एक हिंदुस्तान होगा और उसमें गरीबों की भी इज्जत होगी और अमीरों की भी इज्जत होगी, सबकी इज्जत होगी। तो फिलॉसोफी ये है। एक अन्य प्रश्न के उत्तर में श्री गांधी ने कहा कि आज मैंने न्याय की बात की, आप मुझसे राफेल का सवाल पूछ रहे हो। मैं राफेल पर, इन चीजों पर आज बात नहीं करना चाहता हूँ। आज सिर्फ न्याय पर बात करना चाहता हूँ, मैं ये कहना चाहता हूँ कि दो हिंदुस्तान नहीं होंगे। वही बात, जो साढ़े तीन लाख करोड़ रुपए कर्जा माफ होता है 15 लोगों का, वो सब्सिडी नहीं होती, ये सब्सिडी है, कैसे? एक अन्य प्रश्न पर कि आपने जो ये महान स्कीम बताई है क्या आपको लगता है कि इतनी महान स्कीम से आप भी महात्मा बनने जा रहे हैं, श्री गांधी ने कहा कि नहीं! मैं महात्मा नहीं बनना चाहता हूँ। मैं दो हिंदुस्तान नहीं चाहता। मैं गरीबों को इज्जत दिलवाना चाहता हूँ, मैं गरीबों के दिल में भावना डालना चाहता हूँ कि हां, इस देश में हमें भी इज्जत मिलती है, इस देश में हमें भी भविष्य अपना दिखाई दे रहा है इसलिए हम पूरे हिंदुस्तान को न्याय देने जा रहे हैं



Comments

CAPTCHA code

Users Comment