Close X
Thursday, October 22nd, 2020

मौसम विभाग का ऑरेंज अलर्ट जारी - उत्तर प्रदेश में बाढ़ के संकट से 19 जिले जूझ रहे हैं

     
लखनऊ. मौसम विभाग ने उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) को लेकर ताजा अनुमान जारी कर दिया है. अनुमान के मुताबिक, बुंदेलखंड और पश्चिमी यूपी के कई जिलों में शनिवार को बारिश के ज्यादा आसार हैं. मध्य प्रदेश की सीमा से लगे यूपी के जिलों में आज बारिश देखने को मिलेगी. साथी एनसीआर के इलाके में भी बादलों की आवाजाही और बारिश (Rain) की संभावना दिखाई दे रही है.  मौसम विभाग ने पश्चिमी यूपी में कई जगहों पर भारी बारिश को देखते हुए ऑरेंज अलर्ट (Orange Alert) भी जारी किया है. पूर्वी यूपी के जिलों के लिए कोई अलर्ट जारी नहीं किया गया है. वैसे तो बुंदेलखंड (Bundelkhand) के कुछ जिलों को छोड़कर बाकी प्रदेश के सभी जिलों में मौसम के खुला रहने का अनुमान है, लेकिन कई जिलों में दोपहर के बाद मौसम में बदलाव के संकेत मिले हैं. धूप की जगह बादलों की आवाजाही तेज हो जाएगी और बारिश भी संभव है.

31 अगस्त और 1 सितंबर को प्रदेश में कई जगहों पर भारी बारिश की संभावना है. इन 2 दिनों के लिए मौसम विभाग ने ऑरेंज अलर्ट जारी कर लोगों को सावधान भी किया है. हालांकि, इस अनुमान में समय के साथ बदलाव भी संभव है. मौसम विभाग के अनुमान के मुताबिक ही शुक्रवार का दिन बीता. पश्चिमी यूपी और बुंदेलखंड के कई जिलों में अच्छी बारिश हुई. सबसे ज्यादा बारिश अलीगढ़ में 21 मिलीमीटर दर्ज की गई. इसके अलावा 19 मिलीमीटर बारिश झांसी में दर्ज की गई. मेरठ में 7 मिलीमीटर, जबकि बरेली में 16.6 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई. 1.6 मिली मीटर बारिश आगरा में जबकि 3 मिली मीटर बारिश नजीबाबाद में दर्ज की गई.

उत्तर प्रदेश में बाढ़ के संकट से 19 जिले जूझ रहे हैं

बता दें कि उत्तर प्रदेश में बाढ़ के संकट से 19 जिले जूझ रहे हैं. इन 19 जिलों के 922 गांव बाढ़ की मार झेल रहे हैं. 922 में से 571 गांव ऐसे हैं जो पूरी तरह जलमग्न हो गए हैं. जिनका संपर्क देश और दुनिया से कट गया है. यहां पहुंचने के लिए नाव ही एक सहारा है. बाढ़ प्रभावित जिले - अंबेडकर नगर, अयोध्या, आजमगढ़, बहराइच, बलिया, बाराबंकी, बस्ती, देवरिया, फर्रुखाबाद, गोंडा, गोरखपुर, कासगंज, लखीमपुर खीरी, कुशीनगर, मऊ, संतकबीर नगर, शाहजहांपुर, श्रावस्ती और सीतापुर है. ऐसे में यदि उत्तर प्रदेश में मूसलाधार बारिश होती है तो इन इलाकों में मुश्किलें और बढ़ सकती हैं. PLC.

Comments

CAPTCHA code

Users Comment