नई दिल्ली । दरअसल, मौसम विभाग के 147वें स्थापना दिवस पर आयोजित वर्चुअल समारोह में शुक्रवार को मुंबई, लेह, चेन्नई और नई दिल्ली में चार नए राडार भी लांच किए गए। दिल्ली का राडार आयानगर में स्थापित किया गया है। इस नए राडार की टेस्टिंग कई माह पहले से ही चल रही थी। अब इसने अपनी पूर्ण क्षमता से काम करना शुरू कर दिया है। इससे बारिश, सर्दी, गर्मी, शीतलहर और लू सभी का पूर्वानुमान अधिक प्रामाणिक ढंग से तैयार हो सकेगा। फिलहाल दिल्ली एनसीआर का मौसम पूर्वानुमान जारी करने के लिए लोधी रोड और पालम में मौसम विभाग के दो राडार लगे हुए हैं। दोनों राडार काफी पहले से हैं और 300-300 किमी तक की रेंज तक मौसमी गतिविधियों को रिकार्ड करते हैं।

नया राडार एक्स बैंड-वेब लिंक फ्रीक्वेंसी सुविधा वाला है। इस राडार की रेंज हालांकि एक सौ किमी तक ही है लेकिन मौसमी गतिविधियों की रिकार्डिंग क्षमता अत्याधुनिक है। ऐसे में तीन तीन राडारों की मदद से दिल्ली एनसीआर के सभी क्षेत्रों के लिए अधिक माइक्रो लेवल तक पूर्वानुमान जारी किया जा सकेगा।

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आइएमडी) के महानिदेशक डा. एम महापात्रा बताते हैं कि मौसम पूर्वानुमान पहले की तुलना में अब 80 फीसद तक सटीक होने लगे हैं। हालांकि थोड़े बहुत बदलाव की गुंजाइश हमेशा बनी रहती है। फिर भी दिल्ली एनसीआर के लिए पूर्वानुमान को अधिक बेहतर बनाने के लिए दिल्ली में लांच नया राडार और मददगार साबित होगा। उन्होंने यह भी बताया कि इस राडार की स्थापना पर लगभग सात करोड़ रुपये का खर्च आया है। PLC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here