आई एन वी सी न्यूज़
लखनऊ,
शहरों के लिए जरूरी माने जाने वाली सुविधाओं से समझौता किये बिना समता और सामवेशन पर जोर देते हुए तथा ग्रामीण जन जीवन का मूल स्वरूप बरकरार रखते हुए गांवों के कलस्टर को रूर्बन गांव के रूप में विकसित करने के लिए प्रदेश में 16 जनपदों में डा0 श्यामा प्रसाद मुखर्जी रूर्बन मिशन संचालित की जा रही है।

प्रमुख सचिव ग्राम्य विकास श्री अनुराग श्रीवास्तव ने यह जानकारी देते हुए बताया कि रूर्बन मिशन जिन 16 जनपदों में चलायी जा रही है, उनमें चित्रकूट, गाजियाबाद, कुशीनगर, गौतमबुद्धनगर, फिरोजाबाद, मिर्जापुर, लखनऊ, प्रयागराज, बागपत, बरेली, सोनभद्र, श्रावस्ती, वाराणसी, आगरा, बहराइच एवं महोबा में 19 रूर्बन कलस्टर्स का सृजन किया गया है।

योजना के क्रियान्वयन में पंचायतीराज, लघु सिंचाई, ग्रामीण अभियंत्रण सेवा, लोक निर्माण, वन, भूमि विकास एवं जल संसाधन, कृषि, मत्स्य, सिंचाई, रेशम, उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण, बाल विकास एवं पुष्टाहार, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, माध्यमिक एवं बेसिक शिक्षा, ऊर्जा, आई0टी0, परिवहन, खेल-कूद, खाद्य एवं रसद, नेडा, राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन एवं कौशल विकास आदि द्वारा कन्वर्जेन्स किया जा रहा है।

योजनाओं को अभिसरण (कन्वर्जेन्स) द्वारा भारत सरकार द्वारा उपलब्ध कराया गया सी0जी0एफ0 को शामिल करते हुए तीन चरणों में 2080.80 करोड़ रुपये की परियोजना तैयार की गयी है।