Close X
Thursday, November 26th, 2020

मोहाली में बनेगा स्टेट डाटा सेंटर

computer dataआई एन वी सी, पंजाब, पंजाब सरकार द्वारा सेवा के अधिकार द्वारा प्रशासकीय सुधारों के दूसरे पड़ाव तहत सरकारी कामकाज में पारदर्शिता में ओर तेज़ी लाने के उद्धेश्य के साथ ‘पवन’ प्राजैक्ट तहत पंजाब के सभी कार्यालायों को आपस में जोडऩे का काम शुरू कर दिया गया है। आज यहां इस संबंधी जानकारी देते राज्य के एक प्रवक्ता ने बताया कि इस प्राजैक्ट तहत समूह सरकारी विभागों के मुख्यालय, जिलों, ब्लॉक और पंचायतों को इंटरनेट से आपस में जोड़ा जाएगा, वहीं इनके कामकाज आदि संबंधी जानकारी एकत्रित करने के लिए यह मोहाली में स्थापित किए जा रहे स्टेट डाटा सैंटर के साथ भी जुड़ेगें। उन्होंने कहा कि इसके साथ ना केवल निम्र स्तर पर हो रहे कामकाज के बारे मुख्यालय को लगातार जानकारी रहेगी वहीं सभी दफतरों पर  मुख्यालयों से  आसानी के साथ तीखी नज़र भी रखी जा सकेगी।  पवन संबंधी जानकारी देते हुए प्रवक्ता ने कहा कि पंजाब सरकार द्वारा गत् 12 अप्रैल को केन्द्रीय सूचना और संचार तकनीक मंत्रालय ने भारत ब्रॉड बैंड नैटवर्क लिमिटड के साथ यह समझौता सहीबद्ध किया गया है, जिस तहत वह समूह गांवों के पंचायतों को 18 से 24 महीने के समय दौरान इंटरनेट के साथ जुड़ेगी। प्रवक्ता ने कहा कि इस प्राजैक्ट के पहले पड़ाव तहत मोहाली  और चंडीगढ़ के बीच पंजाब सरकार के 139 दफतरों, बोर्डों, कार्पोरेशनों को 31 अगस्त,2013 तक जोडऩे का लक्ष्य रखा गया है, जबकि फील्ड में 2000 से अधिक दफतरों को दिसम्बर, 2013 तक स्टेट डाटा सैंटर के साथ जोड़ दिया जाएगा। प्रवक्ता ने साथ ही यह भी कहा कि नए बने जिलों पठानकोट और फाजिल्का के सभी सरकारी विभागों को जिला नेटवर्क सैंटर के साथ 30 जुलाई, 2013 तक जोड़ा जाएगा  उन्होंने कहा कि इस वर्ष के अंत तक 50 करोड़ की लागत के साथ डाट सेैंटर मेैगसिपा  सैक्टर 26 में काम करना शुरू कर देगा। उन्होंने कहा कि इस डाटा सैंटर का बैकअप एन आई सी पुणे में है,  और किसी भी सूरत में डाटा लॉस होने पर इसको वहां रिकवर किया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि सभी दफतरों के स्टेट डाटा सैंटर के साथ जुडऩे के कारण हर तरह की जानकारी सरकार को सरलता से मिल सकेगी, जोकि प्रशासकीय सुधारों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।

 

Comments

CAPTCHA code

Users Comment