Close X
Friday, December 4th, 2020

मोदी पर भरोसा करने का पछतावा

अपने घर में की प्रेस कॉन्फ्रेंस में महबूबा ने कश्मीर के ध्वज की ओर इशारा करते हुए कहा कि तिरंगे से हमारा रिश्ता इस झंडे से अलग नहीं है। प्रधानमंत्री नरेंद्र ने शुक्रवार को बिहार में पहली चुनावी रैली की, लेकिन यहां पर भी बात कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने की कही। इसे मुद्दा भी बनाया और इसी पर वोट भी मांगा। कुछ ही देर बाद कश्मीर में 370 लागू करने के लिए विरोधियों के साथ गठबंधन बनाने वाली महबूबा मुफ्ती ने मोदी को चुनौती दे डाली। उन्होंने कहा कि कश्मीर में आर्टिकल 370 की वापसी होने तक वे तिरंगा नहीं उठाएंगी और न ही चुनाव लड़ेंगी।

महबूबा ने जम्मू-कश्मीर के झंडे की ओर इशारा करते हुए कहा कि तिरंगे से हमारा रिश्ता इस झंडे से अलग नहीं है। और, जब यह झंडा हमारे हाथ में आ जाएगा, तभी हम तिरंगे को उठाएंगे।

'मोदी पर भरोसा करने का पछतावा'

यह पूछे जाने पर कि क्या उन्हें भाजपा के साथ गठबंधन करने का कोई अफसोस नहीं है। महबूबा ने कहा कि उन्हें प्रधानमंत्री मोदी पर विश्वास करने का पछतावा है। वह ऐसी पार्टी से हैं, जिसका अटल बिहारी वाजपेयी भी हिस्सा थे। उन्हें बिहार में वोट हासिल करने के लिए अनुच्छेद-370 का सहारा लेना पड़ रहा है। वह जब भी नाकाम होने लगते हैं तो वे कश्मीर और 370 जैसे मुद्दे उठाते हैं। वास्तविक मुद्दों पर वह बात ही नहीं करना चाहते।

मैनिफेस्टो के हिसाब से संविधान बदलना चाहती थी भाजपा

14 महीने की नजरबंदी से रिहा होने के बाद अपने घर में की पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस में महबूबा ने कहा कि केंद्र में सत्तारूढ़ पार्टी देश के संविधान को अपनी पार्टी के घोषणापत्र के हिसाब से बदलने की कोशिश कर रही थी। हमारी लड़ाई अनुच्छेद-370 की बहाली तक सीमित नहीं है, बल्कि कश्मीर मुद्दे के समाधान के लिए भी है। कश्मीर मुद्दे से कोई भी अपनी आंखें नहीं मूंद सकता। जो ये सोचते हैं कि हम आर्टिकल-370 को भूल गए हैं वे गलतफहमी में जी रहे हैं। यहां के लोगों ने इसके लिए बहुत से बलिदान दिए हैं। हम उनके बलिदान को बेकार नहीं जाने देंगे।

'जरूरत पड़ी तो सबसे पहले खून दूंगी'

महबूबा ने कहा कि अगर जरूरत पड़ी तो नेताओं के बीच वह अपना खून देने वाली पहली व्यक्ति होंगी। हम (नेता) एकजुट हैं और लोगों को भी एकजुट होकर लड़ना चाहिए। यह डॉ. फारूख अब्दुल्ला, सज्जाद लोन या किसी और नेता की नहीं, सभी की लड़ाई है। धारा-370 को निरस्त कर दिया गया था, इसलिए सरकार ने सभी जनविरोधी फैसले लेकर लोगों की भावनाओं को आहत करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। वे जम्मू और कश्मीर के लोगों को नहीं चाहते हैं।

चुनाव से कोई लेना-देना नहीं

चुनाव लड़ने के बारे में उन्होंने कहा कि महबूबा का चुनावों से कोई लेना-देना नहीं है। हालांकि, उन्होंने अपनी बात में यह जोड़ा कि पार्टी के नेता और सहयोगी दलों के साथी एक साथ बैठेंगे और उसी के अनुसार कोई निर्णय लेंगे।

जितेंद्र सिंह बोले, कुछ नेता अलगाववादियों से ज्यादा खतरनाक

केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने महबूबा के बयान पर कहा कि महबूबा मुफ्ती सत्ता में आई थीं तो उन्होंने भारत माता की जय कहकर शपथ ली थी। अब वे सत्ता में नहीं हैं तो पाकिस्तान की शपथ ले रही हैं। जम्मू-कश्मीर के एकीकरण पर सवाल उठा रही हैं। हमने पिछले कई साल से देखा है कि कश्मीर के कथित राजनेता कभी-कभी अलगाववादियों की तुलना में ज्यादा खतरनाक होते हैं।PLC.

Comments

CAPTCHA code

Users Comment