ब्यूरो

नई दिल्ली. वायुसेना तथा थलसेना के इसी संयुक्तता की भावना को स्मरण करने के लिए एक मोटरसाईकल अभियान का आयोजन किया जा रहा है जिसका नाम मिशन क्षितिज या मिशन हैराइजॅन है। यह नाम धरती तथा आकाश के मिलनस्थल का प्रतीक है जो भारतीय वायुसेना तथा थलसेना के उद्देश्यों के एक होने के महत्तव को दर्शाता है। इस अभियान को कल ज़ीरो मार्ग, तुरतुक से झंडी दिखाकर रवाना किया गया और इसका समापन 10 सिंतम्बर, 2009 को नई दिल्ली में इंडिया गेट पर होगा। इंडिया गेट पहुंचने से पहले यह अभियान लद्दाख क्षेत्र, छह राज्यों तथा दो संघ शासित क्षेत्रों से गुजरेगा।

भारतीय वायुसेना तथा थलसेना 1984 से ही सियाचिन ग्लेशियर में अपने ऑपरेशन चला रही हैं जो विश्व का सबसे ऊंचा युध्दस्थल माना जाता है। वर्ष 2009 दोनों सेनाओं के संयुक्त ऑपरेशन का पच्चीसवां वर्ष है और इन पच्चीस वर्षों से दोनों सेनाएं शौर्य तथा वीरता से सीमाओं की रक्षा, शत्रु से युध्द तथा इस क्षेत्र की भीषण जलवायु से मुकाबला करती आ रहीं हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here