Monday, July 13th, 2020

मॉल्स और शिक्षण संस्थाओं में खुल सकेंगे ऑफिस

जयपुर. लॉकडाउन-4.0 (Lockdown) में प्रदेश में अब हेल्थ प्रोटोकॉल और सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) की पालना के साथ मॉल्स तथा स्कूल-कॉलेजों में दफ्तर खुल सकेंगे. लॉकडाउन-4 की समीक्षा बैठक में मंगलवार को सीएम अशोक गहलोत ने यह फैसला किया. एसीएस (गृह) राजीव स्वरूप ने बताया कि सभी शैक्षणिक संस्थाओं में उनके कार्यालय अशैक्षणिक कार्यों के लिए खुल सकेंगे. लेकिन इनमें शैक्षणिक कार्य पूरी तरह प्रतिबंधित रहेगा और न ही इनमें विद्यार्थी आ सकेंगे. इसके साथ ही मॉल्स में स्थित ऑफिस भी खुल सकेंगे, लेकिन दुकानें नहीं खोली जा सकेंगी. सीएम ने अधिकारियों से कहा कि ट्रेनों के साथ ही श्रमिकों को श्रमिक स्पेशल बसों के माध्यम से जल्द से जल्द उनके गंतव्य तक पहुंचाया जाए.

अधिकारी श्रमिकों की तकलीफों को कम करें
बैठक में बताया गया कि श्रमिक स्पेशल बसों के संचालन के लिए मुख्य सचिव और अन्य अधिकारियों के स्तर पर मध्यप्रदेश, गुजरात और महाराष्ट्र से बात हुई है. गहलोत ने निर्देश दिए कि अन्य राज्यों से भी जल्द समन्वय कर इस व्यवस्था को प्रभावी ढंग से अंजाम दिया जाए ताकि श्रमिकों की तकलीफ को कम किया जा सके.

अगले 5 दिन में 23 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें और चलेंगी
सीएम ने कहा कि प्रदेश के कई लोग खाड़ी देशों में आजीविका के लिए जाते हैं. लेकिन इनमें से कई आर्थिक रूप से सक्षम नहीं हैं. विदेशों से आने वाले राजस्थान के ऐसे लोग जो आर्थिक रूप से कमजोर हैं, उनके क्वॉरेंटाइन के लिए सेवाभावी संस्थाओं और भामाशाहों की मदद ली जाए. बैठक में बताया गया कि अगले पांच दिन में अलग अलग राज्यों के लिए 23 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलेंगी. बैठक में डीजीपी भूपेंद्र सिंह ने बताया कि लॉकडाउन के उल्लंघन पर प्रदेशभर 12 हजार से ज्यादा चालान बनाए गए हैं.

श्रमिक स्पेशल रोडवेज बसें भी शुरू की गई है
उल्लेखनीय है कि लॉकडाउन में विभिन्न राज्यों में फंसे श्रमिकों को उनके गृहराज्य तक पहुंचाने के लिए 1 मई से श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाई जा रही है. इन ट्रेनों के साथ ही राजस्थान में मंगलवार से श्रमिक स्पेशल रोडवेज बसें भी संचालित की गई हैं. राजस्थान श्रमिक स्पेशल बसें चलाने वाला देश का पहला राज्य है. मंगलवार को पहले चरण में उत्तर प्रदेश के लिए 31, उत्तराखंड के लिए 17, मध्य प्रदेश के लिए 6 और हिमाचल प्रदेश के लिए 1 बस को रवाना किया गया था. PLC.

Comments

CAPTCHA code

Users Comment