”मैंने गाँव के एक शिक्षक की भूमिका निभायी है, जो बहुत ही अंतर्मुखी है” – राहुल बोस

4
74

मीनाक्षी शर्मा,,

राहुल बोस ऐसे अभिनेता हैं कि जब भी किसी फ़िल्म में अभिनय करते हैं वो फ़िल्म चर्चा का विषय बन जाती है उनकी ऐसी ही एक आने वाली फ़िल्म है जैपनीज वाइफ, संगीत कंपनी सारेगामा द्वारा निर्मित इस फ़िल्म की निर्देशिका हैं अपर्णा सेन, लेखक कुनाल बसु के उपन्यास पर आधारित इस फ़िल्म में राहुल के साथ राईमा सेन व जापानी अभिनेत्री चिगुसा तकाकू मुख्य भूमिका में हैं. राहुल केवल एक अभिनेता ही नहीं बल्कि वो एक रग्बी खिलाड़ी, लेखक, सामाजिक कार्यकर्त्ता, निर्देशक व गायक भी हैं, पिछले दिनों बहुमुखी प्रतिभा के धनी अभिनेता राहुल से मुंबई के सिने मैक्स में बातचीत हुई, प्रस्तुत हैं कुछ मुख्य अंश –

· सबसे पहले अपनी इस फ़िल्म जैपनीज वाइफके बारें में बताइए, क्या कहानी है?

यह कहानी है एक स्कूल शिक्षक की, जिसका नाम स्नेहमोय है और मियागे नामक जापान की एक लड़की है, ये दोनों ही पत्रों के माध्यम से एक दूसरे से मिलतें हैं और आपस में उनमें प्यार हो जाता है इसके अलावा पत्र के माध्यम से ही वो शादी भी कर लेते हैं उनकी शादी को १७ साल हो चुके हैं जबकि वो आज तक एक दूसरे से कभी नहीं मिले हैं. यह फ़िल्म उनके प्यार, उनकी खुशी, उनके दुख की है, उनके इस प्यार को एक कविता की तरह पेश किया है निर्देशिका अपर्णा सेन ने, जो बहुत ही अदभुत है.इस फ़िल्म में मेरे साथ जापानी अभिनेत्री चिगुसा तकाकू, राईमा सेन व मौसमी चटर्जी हैं. फ़िल्म का निर्माण किया है संगीत कंपनी सारेगामा ने, यह फ़िल्म लेखक कुनाल बसु के उपन्यास पर आधारित है.

· आपको इस फ़िल्म में ऐसा क्या विशेष लगा कि आपने इस फ़िल्म में काम करना पसंद किया?

मुझे इसकी कहानी ने बहुत ही प्रभावित किया, एक अनोखी प्रेम कहानी है इसमें, आज ऐसी प्रेम कहानी कहाँ देखने व सुनने को मिलती है. इसके अलावा अपर्णा सेन इसे निर्देशित कर रही थी तो जैसे सोने पे सुहागा वाली बात हो गयी.

· क्या आपको लगता है कि यह फ़िल्म भी निर्देशिका अपर्णा सेन की पिछली फ़िल्म की तरह दर्शको को प्रभावित कर सकेगी?

अपर्णा ने इस फ़िल्म में भी अपनी पिछली फिल्मों की तरह बहुत ही मेहनत की है, कहानी भी बहुत अच्छी है, और इसे फिल्माया भी बहुत ही प्रभावी तरीके से है मुझे लगता है कि दर्शको को बहुत पसंद आएगी यह फ़िल्म.

· क्या इस फ़िल्म के लिए आपको फिर से अवार्ड मिलेगा?

देखिये मैं कोई भी फ़िल्म केवल इसलिए नहीं करता कि मुझे अवार्ड मिलें, मैं उन्हीं फिल्मों में काम करना पसंद करता हूँ जिनसे की मुझे संतुष्टि मिलती है, सभी ने इस फ़िल्म में अच्छा काम किया है चाहे वो चिगुसा हो या राईमा हो मौसमी जी हो या मैं हूँ.

· आप अभिनेता, लेखक, व निर्देशक तो हैं ही, क्या किसी बंगाली फ़िल्म में आपने गाया भी हैं?

हाँ मैंने बंगाली फ़िल्म अनुरारनमें एक गीत गाया था.

· अभी कौन – कौन सी फ़िल्में आपकी आने वाली हैं?

एक होरर फ़िल्म है नाम है फायरड”, इसके अलावा मुंबई चकाचकआई एम एंड कुछ लव जैसामेरी आने वाली फ़िल्में हैं.

rahul-bose-00

4 COMMENTS

  1. There are certainly a lot of details like that to take into consideration. That is a great point to bring up. I offer the thoughts above as general inspiration but clearly there are questions like the one you bring up where the most important thing will be working in honest good faith. I don?t know if best practices have emerged around things like that, but I am sure that your job is clearly identified as a fair game.

  2. I allow to enter, I possess not been on this webpage in a long time… at any rate it was another buoyancy to last It is such an important topic and ignored by so multitudinous, flush with professionals. I thank you to eschew making people more hip of credible issues.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here