अमर वर्मा

नई दिल्ली.    भारतीय जनता पार्टी के ‘पीएम इन वेटिंग’ अब हमेशा के लिए ‘एक्स पीएम ऑफ़  वेटिंग’ हो जाएंगे.  अपने 60 साल के सपने को चकनाचूर होने के बाद लालकृष्ण आडवाणी ने दुखी मन से ‘गुड बाय’ राजनीति जैसा कुछ कह दिया था. इसी के साथ भाजपा की गुटबंदी एक बार फिर खुलकर सामने आ गई.

जहां संघ परिवार ने आडवाणी को सक्रिय राजनीति से विदाई पर अपना पल्ला झाड़ते हुए उन्हें कह दिया है कि इसका फैसला आडवाणी खुद करें, वहीं दूसरी ओर मुरली मनोहर जोशी ने आडवाणी के इस कथन को ‘आदर्श प्रस्तुत करने’ जैसे शब्द जोड़कर उनकी वापसी के सभी रास्ते बंद कर दिए हैं.  अब आडवाणी के पास गुड बी राजनीति कहने के अलावा कोई चारा नहीं रह गया है.

गौरतलब है कि आडवाणी के कथन के बारे में जब मुरली मनोहर जोशी से पूछा गया तो उन्होंने संवाददाताओं को बताया कि अगर आडवाणी जी ऐसा कर रहे हैं तो वे एक आदर्श प्रस्तुत कर रहे हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here