Friday, February 28th, 2020

मुठभेड़ के बाद अपराधी ने हस्पताल मे दम तोड़

asfआई एन वी सी,
हरियाणा, हरियाणा पुलिस ने जिला सोनीपत में उत्तर भारत के मोस्ट वाण्टेड अपराधी गांव चिटाना के रहने वाले सन्दीप पुत्र कुलदीप को एक मुठभेड़ के बाद जख्मी हालत में काबू कर लिया। जिसने बाद में हस्पताल मे दम तोड़ दिया। इस पर कई राज्यों की पुलिस द्वारा लाखों रूपये ईनाम भी घोषित किया हुआ था और यह अपराधी हत्या, लूट, डकैती, हत्या के प्रयास एवं हिरासत से भागने जैसे करीब डेढ़ दर्जन मामलों में संलिप्त रहा है।  इस सम्बन्ध में विस्तृत जानकारी देते हुए हरियाणा पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि पुलिस को विश्वस्त सूत्रों से पता चला कि इस समय सन्दीप पिछले कई दिनों से जिला जीन्द के कस्बा नरवाना में छुपा हुआ है और आज एक स्वीफट कार के माध्यम से किसी अन्य घटना को अन्जाम देने के लिए रोहतक पहुंचने वाला है। इस पर पुलिस पार्टियां गठित की। तीनों पार्टियों ने एक सुनियोजित तरीके नरवाना-जीन्द मार्ग पर बडौदा की सीमा में ट्रैप लगा दी।  इसके कुछ समय उपरान्त सन्दीप एक स्वीफट कार में सवार वहां से गुजरने लगा तो पुलिस पार्टी ने इसे रोकना चाहा तो इसने जान से मारने की नियत से पुलिस पार्टी पर गोलियां दागनी शुरू कर दी और अपनी कार की गति को और बढ़ा दिया और गांव घोगडि़या रोड के निकट पुलिस पार्टी इसके नजदीक पहुंच गई तो इसने फिर से पुलिस पर गोलियां दागनी आरम्भ कर दी। प्रतिउत्तर में पुलिस पार्टी ने अपनी आत्मरक्षा में फायर किया जिसके परिणामस्वरूप वह घायल हो गया और मौका से बच निकलने में यह कामयाब न हो सका। पुलिस ने इसे काबू करके तुरन्त ईलाज के लिए उचाना हस्पताल में दाखिल करवा दिया दौराने ईलाज सन्दीप की मृत्यु हो गई। उन्होंने बताया कि इस सम्बन्ध में एक अन्य अभियोग शस्त्र अधिनियम व भारतीय दण्ड संहिता की विभिन्न धाराओं के अन्तर्गत जिला जीन्द के थाना उचाना में दर्ज किया गया है। मौका से मिली स्वीफट कार व एक पिस्तौल 9 एम.एम. एवं एक रिवाल्वर 32 बोर को पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिया। ॒
इसके अतिरिक्त भी अनेको घटनाओं में संदीप संलिप्तता रही हैः-
  1. सर्व प्रथम वर्ष 2003 में थाना गन्नौर में  लूट व डकैती की योजना बनाते हुए गिरफ्तार किया गया था।
  2. वर्ष 2004 में नरेला दिल्ली में चोरी का माल लिये हुए गिरफ्तार हुआ था।
  3. वर्ष 2006 में बवाना होज खास दिल्ली, थाना शहर व थाना सिविल लाईन सोनीपत के क्षेत्र में हत्या तथा हत्या के प्रयास की वारदातों को अन्जाम दिया था।
  4. वर्ष  2008 में बाहरी दिल्ली के हत्या व हत्या के प्रयास की दो वारदातों को अन्जाम दिया था।
  5. वर्ष 2009 में थाना बाहरी दिल्ली, थाना बसन्तकुंज, थाना सदर हिसार तथा थाना मुरथल, जिला सोनीपत में हत्या, हत्या का प्रयास की वारदातों को अन्जाम दिया।
  6. वर्ष 2010 में पिलानी राजस्थान में हत्या का प्रयास तथा थाना सैक्टर-10ए , गुडगावां में हत्या के प्रयास की वारदातों को अन्जाम दिया।
  7. वर्ष 2012 में यह कुख्यात अपराधी गुडगांवा पुलिस की हिरासत से द्वारका कोर्ट दक्षिणी दिल्ली से अपने साथी सुरेन्द्र उर्फ नीटू के साथ पुलिस को चकमा देकर फरार हो गया। जिसके सम्बन्ध में थाना द्वारका दिल्ली में भा0द0स0 की विभिन्न धाराओं के अन्तर्गत अभियोग दर्ज है।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment