Close X
Wednesday, October 21st, 2020

मात्र सरकार के प्रयासों से ही राज्य विकसित नहीं होगा : रघुवर दास

dआई एन वी सी न्यूज़ राँची, मुख्यमंत्री रघुवर दास ने राज्य के पारा शिक्षकों से कहा कि सूबे की भावी पीढ़ी की बुनियाद रखने की महत्ती जिम्मेवारी आप पर है। हम सबों को मिलकर राज्य को विकास के पथ पर आगे ले जाना है। शिक्षा ही विकास का मूल आधार है। अतएव, विद्या के मंदिरों में पठन-पाठन गुणवत्तापूर्ण हो एवं राज्य के शिक्षक अपनी सेवा का मिसाल देकर लोगों का दिल जीतें। उन्होंने कहा कि मात्र सरकार के प्रयासों से ही राज्य विकसित नहीं होगा बल्कि सभी लोगों की यह चिन्ता होनी चाहिए कि सीमित संसाधनों में किस प्रकार से सबकी भागीदारी सुनिश्चित करते हुए राज्य को विकसित प्रदेशों की श्रेणी में स्थापित करें। मुख्यमंत्री आज अपने आवास पर राज्य के पारा शिक्षकों के शिष्टमंडल से वार्त्ता कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सोमवार, दिनांक-24.08.2015 को राज्य के पारा शिक्षकों की समस्याओं पर सूबे के वरीय पदाधिकारियों के साथ बैठक बुलाई गई है, जिसमें उनकी सेवा से संबंधित वित्तीय मामलों पर चर्चा की जाएगी। अगले दिन पुनः अधिकारी उनकी समस्याओं के निराकरण हेतु बैठक करेंगे। इसके उपरांत बुधवार को सचिव, स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग पारा शिक्षकों के शिष्टमंडल से पुनः प्राप्त निष्कर्ष एवं संभावनाओं से अवगत कराते हुए उनके सुझावों पर चर्चा करेंगी। तत्पश्चात् पुनः शिष्टमंडल से बुधवार की संध्या में वार्त्ता कर अंतिम निष्कर्ष पर पहुँचा जाएगा। सरकार राज्य के पारा शिक्षकों की माँगों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार कर रही है। यह भी सरकार का प्रयास है कि राज्य के पारा शिक्षकों को सेवा की सुरक्षा एवं निश्चितता प्राप्त हो और वे किसी गलतफहमी का शिकार नहीं हों। राज्य के राजकोष की स्थिति एवं केन्द्र सरकार से पारा शिक्षकों के लिए प्राप्त सहायता राशि की समीक्षा के उपरांत उनके हित में निर्णय हेतु सरकार तत्पर है। राज्य हित को ध्यान में रखते हुए पारा शिक्षकों को भी गतिरोध समाप्त कर विद्यालयों में नियमित पठन-पाठन का कार्य सुनिश्चित करना चाहिए। इस अवसर पर मंत्री, कृषि, पशुपालन, मत्स्य एवं सहकारिता, श्री रणधीर सिंह, मुख्यमंत्री के सचिव, श्री सुनील वर्णवाल, सचिव, स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता, श्रीमती आराधना पटनायक सहित पारा शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष श्री संजय कुमार दूबे (हजारीबाग), महासचिव, श्री विक्रांत ज्योति (दुमका), संगठन मंत्री श्री सिंटू सिंह (पलामू), प्रदेश उपाध्यक्ष श्री बजरंग प्रसाद (राँची) एवं प्रदेश कमिटि सदस्य श्रीमती बिन्दु सिंह मुण्डा (राँची), उपस्थित थे। वार्त्ता के उपरांत पारा शिक्षक संघ के महासचिव श्री विक्रांत ज्योति ने बताया कि वे मुख्यमंत्री जी द्वारा दिए गए सकारात्मक आश्वासन से संतुष्ट हैं एवं संघ की 47 सदस्यीय कार्यकारिणी में प्रस्ताव रखेंगे कि ‘‘घेरा डालो-डेरा डालो’’ का कार्यक्रम तत्काल स्थगित किया जाय।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment