downloadआई एन वी सी न्यूज़
देहरादून,
सल्ट को उनके महान त्याग और बलिदान के आधार पर कुमाऊॅ की बारदोली की संज्ञा दिलवाना समस्त सल्ट निवासियों की सुसंगठित एवं सुदृढ़ शक्ति का परिणाम है, भारत माता को स्वतन्त्र कराने के लिए देश में सर्वत्र बलिदान एवं आहुतियाॅ हुई पर इतिहास प्रसिद्व बारदोली इसी क्षेत्र को कहा गया यह बात मुख्यमंत्री हरीश रावत ने आज खुमाड़, सल्ट में शहीदों को श्रद्वांजली देते हुए कही।

मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि 1942 की जनक्रान्ति का व्यापक असर पूरे देश के साथ सल्ट में भी पड़ा। सल्ट के कार्यकर्ताओं ने सभाओं द्वारा सरकार की नीति की निन्दा करते हुए आजादी की घोषणा की तथा भारत छाड़ों नारे को बुलन्द किया। आन्दोलन के तहत कार्यकर्तागण 01 सितम्बर, 1942 को खुमाड़ पहुॅचे, 03 सितम्बर को इलाका हाकिमपाली पुलिस जत्थे सहित देघाट(चोकोट) में गोली चलाकर भिकियासैंण पहुॅचा और 05 सितम्बर को मय पुलिस फोर्स क्वैराला पहुॅच गया इस सूचना के खुमाड़ पहुॅचने पर सत्याग्रहों की भीड़ इकटठा होने लगी और रास्ते भर मारपीट करते आ रहे हाकिम ने खुमाड़ पहुॅचकर मोर्चा बाॅध लिया सामने निहत्थी भीड़ खड़ी थी आगे से गंगादत्त शास्त्री थे निहत्थी भीड़ पर अंग्रेज हाकिम द्वारा गोली चला दी गयी जिससे दो सगे भाई गंगा राम व खीमानन्द पुत्र टीका राम खुमाड़ा घटनास्थाल पर ही शहीद हो गये। 02 अन्य व्यक्ति चूणामढ़ी व बहादुर सिंह महर 04 दिन बाद स्वर्गवासी हो गये अन्य 05 व्यक्ति गंगा दत्त शास्त्री, मधुसूदन, गोपाल सिंह, बचे सिंह, नारायण सिंह गोली लगने से घायल हो गये थे। स्वतन्त्रता संग्राम में सल्ट का बलिदान सदा अविस्मरणीय रहेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में आज से महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए गंगा गाय महिला डेयरी योजना शुरू की गयी है जिसमें प्रदेश स्तर पर 558 महिलाओं को गायें बाॅटी गयी है। उन्होंने आज शिक्षक दिवस के अवसर पर शिक्षकों से आहवान किया कि वे छात्र-छात्राओं को गुणवत्ता पूर्वक शिक्षा दें ताकि प्रदेश में आने वाली पीढ़ी का भविष्य सुधर सके। उन्होंने उत्कृष्ट सेवा के 02 शिक्षकों गिरीश चन्द्र जोशी एवं प्रताप सिंह को शाल ओढ़ा कर सम्मानित किया।  मुख्यमंत्री ने अमर शहीद जसवन्त सिंह की स्मृति पर सल्ट में भर्ती प्रशिक्षण स्कूल की घोषणा इस अवसर पर की और सल्ट में स्टेडियम का निर्माण, क्वैराला आयुर्वेदिक चिकित्सालय का उच्चीकरण, उच्चतर माध्यमिक विद्यालय तौत्यों का उच्चीकरण, टोटाम में प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र की स्थापना, जी0आई0सी0 झड़गाॅव में भवन का पुर्ननिर्माण, इण्टर कालेज नेवलगाॅव में विज्ञान वर्ग की मान्यता सहित मा0 औद्योगिक सलाहकार की माॅग पर उन्होंने सभी माॅगों में से आधी माॅगों को स्वीकार किया। इस अवसर पर उन्होंने 35 स्वतन्त्रता संग्राम सेनानियों के नाम पर विभिन्न विद्यालयों, सड़क मार्गों एवं स्वास्थ्य केन्द्रों को रखने की घोषणा की।

मुख्यमंत्री श्री रावत ने इस अवसर पर 8853.42 लाख रू0 की योजनाओं का शिलान्यास एवं लोकार्पण किया जिनमें से 8742.42 लाख रू0 की योजनाओं का शिलान्यास एवं 111.00 लाख रू0 की योजनाओं का लोकार्पण किया। जिनमें से राज्य योजना अन्तर्गत लोक निर्माण विभाग प्रान्तीय खण्ड रानीखेत द्वारा विधानसभा क्षेत्र सल्ट के अन्तर्गत उड़ी महादेव-सैलापानी-भिकियासैंण-मरचूला मोटर मार्ग का नव निर्माण लागत 556.00 लाख रू0, केन्द्र सहायतित योजना अन्तर्गत विकासखण्ड सल्ट के ग्राम देवायल, नैनवालपाली, कुणीधार, चमकाना अधौ, भैरंगखाल में आॅगनबाड़ी केन्द्र का निर्माण लागत 44.90 लाख रू0, केन्द्र सहायतित योजना अन्तर्गत विकासखण्ड सल्ट के ग्राम चमकाना, जन्तरा, तोल्यों, गुलार, पीनाकोट में आॅगनबाड़ी केन्द्र का निर्माण लागत 44.90 लाख रू0, केन्द्र सहायतित योजनान्तर्गत विकासखण्ड सल्ट के ग्राम बरकिन्डा, पनुवाद्योखन, कुन्हील, सैणामानुर में आॅगनबाड़ी केन्द्र का निर्माण लागत 35.92 लाख रू0, नाबार्ड योजनान्तर्गत ग्रामीण निर्माण विभाग द्वारा रथखाल से सीमा रिष्ठाणी तक सड़क निर्माण लागत 373.00 लाख रू0, नाबार्ड योजनान्तर्गत ग्रामीण निर्माण विभाग द्वारा सौली इण्टर कालेज से सल्ट मैठाणी सम्पर्क मार्ग का निर्माण लागत 339.93 लाख रू0, नाबार्ड योजनान्तर्गत ग्रामीण निर्माण विभाग द्वारा बाजखेत से तल्ला कुसियाचैन होते हुए ढय्या किचार तक मोटर मार्ग निर्माण लागत 465.58 लाख रू0, नाबार्ड योजनान्तर्गत ग्रामीण निर्माण विभाग द्वारा कालीगाॅव से आयुर्वेदिक चिकित्सालय होते हुए आमधार तक मोटर मार्ग निर्माण लागत 215.00 लाख रू0, नाबार्ड योजनान्र्तग ग्रामीण निर्माण विभाग द्वारा चमखला से सौणामानुर तक मोटर मार्ग निर्माण लागत 58.33 लाख रू0, नाबार्ड योजनान्तर्गत ग्रामीण निर्माण विभाग द्वारा श्रीनगर से मल्ला उजराड़ा होते हुए तल्ला उजराड़ा तक मोटर मार्ग निर्माण लागत 242.83 लाख रू0, नाबार्ड योजनान्तर्गत ग्रामीण निर्माण विभाग द्वारा इकूखेत से जुनियागाॅव तक ग्रामीण मोटर मार्ग का निर्माण लागत 227.03 लाख रू0, राज्य योजना अन्तर्गत तकनीकी शिक्षा विभाग द्वारा मा0 मुख्यमंत्री जी की घोषणा के क्रम में उत्तराखण्ड तकनीकी विश्वविद्यालय के संघट कालेज की स्थापना लागत 6000.00 लाख रू0, राज्य योजना अन्तर्गत प्रान्तीय खण्ड द्वारा घुघती से कैलानी सड़क निर्माण लागत 139.00 लाख रू0 है। इस अवसर पर उन्होंने राज्य योजना अन्तर्गत स्वास्थ्य विभाग के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र देवालय के भवन का लोकार्पण किया जिसकी लागत 111.00 लाख रू0 है। इसके साथ ही मुख्यमंत्री श्री रावत ने टुकुरा-सल्ट बनने वाले इंजीनियरिंग कालेज का भी शिलान्यास किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री के औद्योगिक सलाहकार रणजीत रावत, पूर्व सांसद प्रदीप टम्टा, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय आदि  ने शहीदों को श्रद्वाजंली देते हुए कहा कि सल्ट क्षेत्र वीरो की भूमि रही है इन शहीदों को हमारी सच्ची श्रद्वाजंली तभी सही साबित होगी जब हम क्षेत्र के विकास के लिए संगठित होकर कार्य करें और उनके आश्रितों को भी भरपूर सहयोग प्रदान करें।

इस कार्यक्रम में जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती पार्वती मेहरा, पूर्व अध्यक्ष मोहन सिंह मेहरा, ब्लाॅक प्रमुख शान्ति देवी, स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी ललित पंत, मोहन सिंह अधिकारी, लक्ष्मण सिंह, विक्रम रावत, शिवेन्द्र रावत, शम्भू रावत, अर्जुन सिंह, दीपक रावत, शान्ति देवी, पुलिस उप महानिरीक्षक पुष्कर सिंह सलाल, जिलाधिकारी डा0 आशीष कुमार श्रीवास्तव, पुलिस अधीक्षक के0एस0 नगन्याल, अपरजिलाधिकारी प्रकाश चन्द्र, उपजिलाधिकारी हेमन्त वर्मा, एन0एस0 नबियाल, श्रीमती इला गिरि, परियोजना निदेशक मोहम्मद असलम, सहित अनेक जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here