Monday, December 9th, 2019

महिलाआेंं को अन्याय और शोषण के विरुद्ध आवाज उठानी चाहिए : योगी

आई एन वी सी न्यूज़

लखनऊ, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि महिलाओं को अन्याय और शोषण बर्दाश्त नहीं करना चाहिए। उन्हें इसके विरुद्ध आवाज  उठानी चाहिए। राज्य सरकार महिलाओं की सुरक्षा एवं उनके कल्याण के लिए प्रतिबद्ध है। इस हेतु सभी आवश्यक कदम उठाए गये हैं। महिलाओं की सुरक्षा तथा उन्हें अन्याय एवं शोषण से बचाने के लिए हेल्पलाइन ‘181’ प्रारम्भ की गयी है। ‘1090’ पहले से ही संचालित है। प्रदेश सरकार पी0ए0सी0 की महिला बटालियन के गठन का कार्य कर रही है। साथ ही, महिलाओं में कुपोषण समाप्त करने के लिए ‘शबरी संकल्प योजना’, बालिकाओं की स्नातक तक निःशुल्क शिक्षा हेतु अहिल्याबाई योजना संचालित की जा रही है। मुख्यमंत्री जी आज यहां लोक भवन में उत्तर प्रदेश रानी लक्ष्मीबाई वीरता पुरस्कार एवं बेगम अख़्तर पुरस्कार वितरण समारोह में अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। इस मौके पर कुल 129 महिलाओं एवं बच्चों को अंगवस्त्र, प्रशस्ति पत्र एवं 01 लाख रुपए की धनराशि प्रदान कर उत्तर प्रदेश रानी लक्ष्मीबाई वीरता पुरस्कार से सम्मानित किया गया। मुख्यमंत्री जी ने श्रीमती सिंधु, कुंवर दिव्यांश, सुश्री पल्लवी फौजदार, श्रीमती पुष्पा, डॉ0 ज्युड एमएसजे, श्रीमती तारा, कु0 रीतिका, कु0 ज्योति श्रीवास्तव, श्रीमती रीमा सिंह, श्रीमती वर्षा सिंह, श्रीमती महजबीं, श्रीमती रंजना द्विवेदी, श्रीमती अवधेश कुमारी, श्रीमती शालिया बानो, श्रीमती शहनाज बानो को स्वयं सम्मानित किया।  इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी ने पं0 धर्मनाथ मिश्र एवं उस्ताद सखावत हुसैन खां को अंगवस्त्र, प्रशस्ति पत्र तथा 05 लाख रुपए की धनराशि प्रदान कर वर्ष 2017-18 के बेगम अख़्तर पुरस्कार से सम्मानित किया।
योगी जी ने कहा कि भारतीय समाज में मातृ शक्ति के प्रति सदैव एक विशिष्ट भाव रहा है। भौतिकता में वृद्धि के कारण भेद प्रारम्भ हुआ, जिसके दुष्परिणाम सामने हैं। विगत वर्ष के हाई स्कूल और इण्टरमीडिएट की परीक्षाओं में अग्रणी आये विद्यार्थियों में बालिकाओं की अधिक संख्या का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि भेदभाव के बावजूद बालिकाओं ने अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है। उन्होंने कहा कि बालक-बालिका के साथ समान व्यवहार होने पर समाज में सकारात्मक बदलाव आयेगा। इसके लिए व्यापक जागरूकता की आवश्यकता है। उन्होंने उत्तर प्रदेश रानी लक्ष्मीबाई वीरता पुरस्कार से सम्मानित महिलाओं से इस जागरूकता की प्रसार के लिए काम करने का आह्वान किया। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि भारत में आदिकाल से स्त्रियां विभिन्न क्षेत्रों में अग्रणी भूमिका में रही हैं। वर्तमान समय में भी महिलाएं सभी क्षेत्रों में अपने कार्यों से महत्वपूर्ण योगदान कर रही हैं। समाज में व्याप्त संकीर्ण मानसिकता समाप्त करने तथा बालिकाओं को समान अवसर मुहैया कराने के लिए आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ अभियान संचालित किया। इस अभियान का व्यापक प्रभाव हुआ है। लिंगानुपात में तेजी से सुधार के लिए सरकारी प्रयासों के साथ ही समाज में भी जागरूकता का प्रसार करना आवश्यक है। योगी जी ने कहा कि महिलाएं सामाजिक क्षेत्र में बड़ी भूमिका निभा सकती हैं। केन्द्र सरकार के वीरता पुरस्कार तथा विगत वर्ष उत्तर प्रदेश रानी लक्ष्मीबाई वीरता पुरस्कार से सम्मानित आगरा की सुश्री नाजिया के सामाजिक कार्यों की चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री जी ने कहा कि जागरूक महिलाओं विशेषकर महिला जनप्रतिनिधियों द्वारा सामाजिक कार्यों में आगे बढ़कर योगदान करना चाहिए। महिला जनप्रतिनिधि ग्राम विकास के कार्यों  में रूचि लेकर तथा सामुदायिकता के भाव से विकास कार्यों को आगे बढ़ाकर प्रधानमंत्री जी द्वारा गांधी जी की ग्राम स्वराज के सपने को साकार करने के संकल्प को पूरा करने में योगदान कर सकती हैं। मुख्यमंत्री जी ने इस मौके पर बेगम अख़्तर पुरस्कार से सम्मानित पं0 धर्मदास मिश्र जी एवं उस्ताद सखावत हुसैन खां जी के गायन के क्षेत्र में योगदान की चर्चा करते हुए उन्हें बधाई दी तथा उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना भी की। कार्यक्रम को महिला कल्याण मंत्री श्रीमती रीता बहुगुणा जोशी, संस्कृति मंत्री श्री लक्ष्मी नारायण चौधरी, महिला कल्याण राज्य मंत्री श्रीमती स्वाती सिंह ने भी सम्बोधित किया। इस अवसर पर बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्रीमती अनुपमा जायसवाल, अन्य जनप्रतिनिधिगण, प्रमुख सचिव महिला कल्याण एवं बाल विकास श्रीमती रेणुका कुमार सहित अधिकारीगण एवं अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment