Wednesday, January 29th, 2020

मशहूर शायर बशीर बद्र साहब की ग़ज़ल

ख़्वाब इस आँखों से अब कोई चुरा कर ले जाये क़ब्र के सूखे हुये फूल उठा कर ले जाये मुंतज़िर फूल में ख़ुश्बू की तरह हूँ कब से कोई झोंकें की तरह आये उड़ा कर ले जाये ये भी पानी है मगर आँखों का ऐसा पानी जो हथेली पे रची मेहंदी उड़ा कर ले जाये मैं मोहब्बत से महकता हुआ ख़त हूँ मुझ को ज़िन्दगी अपनी किताबों में दबा कर ले जाये ख़ाक इंसाफ़ है नाबीना बुतों के आगे रात थाली में चिराग़ों को सजा कर ले जाये ******* बशीर बद्र साहब बशीर बद्र साहब

Comments

CAPTCHA code

Users Comment