Close X
Wednesday, June 16th, 2021

ममता बोली भाजपाइयों के आने से कोरोना-हिंसा दोनों बड़ी 

कोलकाता पश्चिम बंगाल में चुनाव के बाद हिंसा का सिलसिला अभी भी जारी है। केंद्रीय मंत्री मुरलीधरन के काफिले पर गुरुवार सुबह हुए हमले के बाद राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार और भाजपा पर हमला बोला। ममता ने कहा कि चुनाव हो गए, रिजल्ट आ गया, लेकिन भाजपा के मंत्री हार मानने को तैयार नहीं हैं।

उन्होंने कहा कि राज्य में गृह मंत्रालय की टीम और केंद्र सरकार के मंत्री दौरे कर रहे हैं। केंद्र सरकार के मंत्री बंगाल में आकर हिंसा फैला रहे हैं। भाजपा के नेता इधर-उधर घूम रहे हैं। वे लोगों को भड़का रहे हैं। नई सरकार को आए अभी 24 घंटे भी नहीं हुए और वे चिट्ठियां भेज रहे हैं। भाजपा अभी भी जनता के फैसले को स्वीकार नहीं कर पा रही है।

भाजपा से हार नहीं पच रही
ममता ने कहा कि भाजपा चुनाव के बाद भी जनादेश को स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं हैं। मेरा उनसे आग्रह है कि वे जनता के फैसले को स्वीकार करें। ममता यहीं नहीं रुकी, उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि एक टीम आई थी। उन्होंने चाय पी और वापस चले गए। उनका इशारा केंद्रीय टीम पर था, जो राज्य में हिंसा के बाद की स्थिति देखने पहुंची थी।

CM ममता ने कहा कि अब अगर केंद्रीय मंत्री आते हैं तो उन्हें स्पेशल फ्लाइट्स के लिए RTPCR निगेटिव रिपोर्ट भी लानी पड़ेगी। नियम सभी के लिए समान होना चाहिए। भाजपा नेताओं के बार-बार यहां आने के कारण प्रदेश में कोरोना संक्रमण बढ़ रहा है।

ममता ने मृतकों के परिजन को दी नौकरी और सहायता राशि
मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कूच बिहार जिले में फायरिंग में मारे गए लोगों के परिजन को होम गार्ड की नौकरी देने की घोषणा की है। साथ ही चुनाव के बाद हुई हिंसा में मारे गए 16 लोगों को 2-2 लाख रुपए सहायता राशि देने का निर्णय लिया है।

ममता ने गुरुवार को ऐलान किया कि चुनाव बाद प्रदेश में हुई इस हिंसा में मृतकों के परिजन को बिना किसी भेदभाव के मुआवजा दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कानून और व्यवस्था जब चुनाव आयोग के हाथ में थी, उस दौरान हिंसा में 16 लोग मारे गए। इनमें से आधे TMC के थे और आधे भाजपा के। इसके अलावा एक कार्यकर्ता संयुक्त मोर्चा का था।

केंद्रीय टीम से मिले दिलीप घोष
इस बीच, बंगाल भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष के नेतृत्व में 10 सदस्यीय डेलिगेशन ने राज्य के दौरे पर आई गृह मंत्रालय की टीम से कोलकाता स्थित BSF ऑफिस में मुलाकात की। बता दें कि राज्य में चुनाव के बाद जारी राजनीतिक हिंसा में भाजपा ने अपने 11 वर्कर्स के मारे जाने का दावा किया है। गृह मंत्रालय की टीम इस मामले की जांच कर रही है।

बता दें कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बुधवार को पश्चिम बंगाल सरकार को पत्र लिखा था और राज्य में चुनाव के बाद हुई हिंसा की विस्तृत रिपोर्ट मांगी थी। केंद्र ने कहा था कि राज्य सरकार द्वारा रिपोर्ट नहीं भेजने की सूरत में इस मामले को गंभीरता से लिया जाएगा। PLC 

Comments

CAPTCHA code

Users Comment