Close X
Saturday, October 24th, 2020

मध्य प्रदेश मे शिक्षिकों की लिएँ शिक्षक आवास

आई.एन.वी.सी,,

भोपाल,,

मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा है कि गाँवों में जहाँ स्कूल बनेंगे वही पर शिक्षकों के लिये आवास भी बनाये जायेंगे। शिक्षकों की सेवा शर्तें और बेहतर बनायी जायेंगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ राज्य-स्तरीय शिक्षक सम्मान समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने समारोह में राज्य-स्तरीय पुरस्कार के लिये चयनित शिक्षकों, पिछले वर्ष राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित प्रदेश के शिक्षकों तथा शत प्रतिशत परिणाम देने वाले शासकीय स्कूलों के प्रभारियों को सम्मानित किया। समारोह में स्कूल शिक्षा मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनीस और आदिम-जाति तथा अनुसूचित जाति कल्याण मंत्री श्री विजय शाह भी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि केवल कानून बनाने से भ्रष्टाचार समाप्त नहीं होगा। भ्रष्टाचार मनुष्य को मनुष्य बनाने से समाप्त होगा और यह काम शिक्षा से ही होगा। कर्मठ, चरित्रवान, ईमानदार और देशभक्त मनुष्यों के निर्माण की जिम्मेदारी शिक्षकों की है। उन्होंने कहा कि भावी राष्ट्र के निर्माता शिक्षक हैं। शिक्षक बच्चों को संस्कार और शिक्षा देकर उनके जीवन को सार्थक बनाते हैं। सच्चा गुरू जीवन की दिशा बदल देता है। आज देश को सच्चे गुरूओं की आवश्यकता है। शिक्षा का उद्देश्य ज्ञान, कौशल और नागरिकता के संस्कार देना है। बच्चों को सम्पूर्ण ज्ञान देना चाहिये। इसीलिये प्रदेश में स्कूली पाठ्यक्रम में स्वतंत्रता संग्राम के वीर नायकों के जीवन परिचय के साथ कृषि, पर्यावरण, प्रकृति के बारे में भी जानकारी जोड़ी जायेगी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि शिक्षा पद्धति भारतीय जीवन-दर्शन, मूल्य, परम्पराओं और संस्कारों को बनाये रखने वाली होना चाहिये। इसके लिये शिक्षा में गुणात्मक परिवर्तन करना होगा। शिक्षा के साथ खेल भी जरूरी है इसके लिये खेल मैदानों को सुरक्षित रखना होगा। उन्होंने कहा कि देश में बेटियों की संख्या तेजी से कम हो रही है, इसे देखते हुए प्रदेश में बेटी बचाओ अभियान शुरू किया जा रहा है। इसमें शिक्षक भी सक्रिय सहयोग करें, बेटी रहेगी तो दुनिया रहेगी। राज्य सरकार ने तय किया है कि जिन दंपत्तियों के केवल बेटियाँ हैं, उन्हें पचपन वर्ष की उम्र के बाद पेंशन दी जायेगी।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में निजी शिक्षण संस्थाओं द्वारा ली जाने वाली फीस के निर्धारण के लिये नियामक आयोग बनाया जायेगा। सरकारी स्कूलों को गुणवत्ता की दृष्टि से निजी विद्यालयों से बेहतर बनाया जायेगा। शिक्षा में गुणवत्ता के सुधार के लिये अच्छा काम करने वाले शिक्षकों को पुरस्कृत किया जाये। उन्होंने कहा कि स्कूलों में ‘मध्यप्रदेश गान’ का गायन किया जाये।

स्कूल शिक्षा मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनीस ने कहा कि प्रदेश में अध्यापक संवर्ग में शत प्रतिशत पदोन्नति की गयी है। शिक्षक बच्चों को संवेदना और संस्कारों से पूर्ण शिक्षा दें। शिक्षक बेटी बचाओ अभियान के बारे में भी समाज में जागरूकता लायें। अनुसूचित जनजाति कल्याण मंत्री श्री शाह ने कहा कि अज्ञानता को दूर करने के लिये ज्ञान का दीपक जलाना शिक्षक का दायित्व है। उन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में सुधार के लिये शिक्षक से सहयोग की अपील की।

समारोह में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने शिक्षकों के लिये संदेश के फोल्डर का विमोचन और शिक्षक पोर्टल का शुभारंभ किया। इस मौके पर शैक्षिक संगोष्ठी में बेहतर प्रदर्शन करने वाले समूहों को भी पुरस्कृत किया गया। स्वागत भाषण आयुक्त लोक शिक्षण श्री अशोक वर्णवाल ने दिया। समारोह में माध्यमिक शिक्षा मंडल के अध्यक्ष श्री एम.के.राय भी मौजूद थे। आभार प्रदर्शन अपर आयुक्त शिक्षा श्रीमती सुनीता त्रिपाठी ने किया।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment

मध्य प्रदेश मे शिक्षिकों की लिएँ शिक्षक आवास | SportSquare, says on September 6, 2011, 12:46 PM

[...] मध्य प्रदेश मे शिक्षिकों की लिएँ शिक्... [...]