Thursday, July 2nd, 2020

मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सत्ता कायम करने की कोशिश में हैं - न्याय योजना होगी कांग्रेस का ट्रंप कार्ड

भोपाल । पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की पुण्यतिथि पर छत्तीसगढ़ की भूपेश बघेल सरकार ने राजीव गांधी किसान न्याय योजना लांच की है। कांग्रेस आलाकमान की मंशा है कि मप्र में 24 सीटों पर होने वाले उपचुनाव में न्याय को डेमो के रूप में प्रस्तुत कर किया जाए। पार्टी के रणनीतिकारों को उम्मीद है कि उपचुनाव में इसका फायदा कांग्रेस को मिल सकता है।
गौरतलब है कि कांग्रेस ने न्याय योजना को लोकसभा चुनाव के घोषणा पत्र में शामिल किया था, जिसके तहत बीपीएल कार्ड धारकों और छोटे किसानों के बैंक खाते में छह हजार रुपए हर महीने ट्रांसफर होने थे। यह कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की महत्वाकांक्षी योजना मानी जाती है। लोकसभा चुनाव में तो जनता ने न्याय पर भरोसा नहीं किया, लेकिन अब भूपेश बघेल सरकार ने इसमें कुछ बदलाव करके लागू किया है ताकि कांग्रेस डेमो के रूप में न्याय को देश के बाकी राज्यों के सामने प्रस्तुत कर सके।

उपचुनाव में होगा न्याय का परीक्षण
हाल के महीनों में कहीं कोई ऐसा चुनाव नहीं है जहां कांग्रेस अकेले दम पर सत्ता में आने का माद्दा रखती हो। ऐसे में छत्तीसगढ़ में लागू राजीव गांधी किसान न्याय योजना का परीक्षण मप्र के उपचुनाव में किया जा सकता है। यानी न्याय के प्रति जनता आकर्षित होती है या नहीं, यह उपचुनाव से तय हो जाएगा। इसके बाद बिहार में इसी साल अक्टूबर-नवंबर में संभावित चुनाव में इसे मुख्य मुद्दा बनाया जा सकता है।

न्याय को लेकर पार्टी की लंबी प्लांनिंग
कांग्रेस के सूत्रों के अनुसार, न्याय को लेकर पार्टी की लंबी प्लांनिंग है। दरअसल, 2019 के लोकसभा चुनाव से ठीक पहले मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकारें बनी थी। इन सरकारों ने आने के साथ ही किसान कर्जमाफी की प्रक्रिया शुरू कर दी थी। राहुल गांधी और कांग्रेस ने किसान कर्जमाफी की बात को जोरशोर से उठाया। कम समय में कर्जमाफी की प्रक्रिया पूरी नहीं हो पाई, जिसके चलते भाजपा ने चुनाव प्रचार के दौरान इसकी खामियों को जोरशोर से उठाया था। परिणाम हम सभी जानते हैं। ऐसे में हो सकता है कि कांग्रेस इस रणीनति पर चल रही हो कि वह समय लेकर न्याय योजना को छत्तीसगढ़ में सफल तरीके से लांच कर देगी ताकि आगामी चुनावों में उसे मॉडल के रूप में प्रस्तुत कर सके।

न्याय के सहारे सत्ता में वापसी की चाहत
राजनीतिक गलियारे में ये भी चर्चा है कि न्याय के सहारे राहुल गांधी एक बार फिर से मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सत्ता कायम करने की कोशिश में हैं। मध्य प्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया समर्थक 22 विधायकों के भाजपा में आ जाने से कमलनाथ की सरकार गिरी है। यहां अगले कुछ महीनों के भीतर ही 24 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने हैं। ऐसे में कांग्रेस की तैयारी हो सकती है कि वह छत्तीसगढ़ में लागू किए गए न्याय योजना के मॉडल को उपचुनाव में प्रस्तुत करे और ज्यादा से ज्यादा सीटें जीतकर दोबारा से सरकार बनाने का प्लान हो। PLC.

 

Comments

CAPTCHA code

Users Comment