Sunday, October 20th, 2019
Close X

भ्रश्टाचार जुर्म और जमीन को समर्पित बसपा सरकार : मुख्तार अब्बास नकवी

सुरेंदर अग्निहोत्री , आई.एन.वी.सी, लखनऊ, भारतीय जनता पार्टी के राश्ट्रीय उपाध्यक्ष मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा है कि जुर्म एवं जमीन को समर्पित बसपा सरकार भ्रश्टाचार के अहंकारी हाथी पर बैठकर प्रदेश को रौन्द रही है। नकवी ने कहा कहा कि प्रदेश का हर व्यक्ति प्रदेश की अहंकारी सरकार के जुर्म और लूट से घायल है। लूट पर छूट और जुर्म पर झूठ के बशर्मी भर सिद्धान्त पर काम कर रही सरकार ´चोरी और सीनाजोरी´ पर उतर आई है।  नकवी ने कहा कि सत्ता वसूली में व्यस्त मुख्यमन्त्री अहंकार में मस्त और जनता जुर्म से त्रस्त है फिर भी यह सरकार ऑंखे बन्द कर प्रदेश की बदहाली का नजारा बेशर्मी के साथ देख रही है। प्रदेश में चौतरफा हत्या, बलात्कार और लूट का ताण्डव चल रहा है। लोगों के जान की रक्षा करने वाले डा0 भी सुरक्षित नहीं रह गए हैं। प्रदेश में कई डाक्टरों की हत्याएं हो गई हैं। हालत यह है कि जेल में भी लोग सुरक्षित नहीं हैं। डाक्टर सचान की हत्या इसका सीधा प्रमाण है। यह सरकार अपने कुकर्मो पर पर्दा डालने और भ्रश्टाचारियों को बचाने में लगी है। डा0 सचान की हत्या को आत्महत्या साबित करने में जुटी है। इस हत्या में स्पश्ट रूप से सरकार की साजिश दिख रही है। लोग अपने मकान, दुकान, सड़कों, गांवों में अभी तक असुरक्षित थे ही अब थाने और जेल भी सरकारी हत्याग्रह बन गए हैं। श्री नकवी ने बताया कि उ0प्र0 में बसपा के ´बेल्ट की बेरहमी और बलात्कार के बेशर्मी´ से जनता काम्प उठी है। श्री नकवी ने कहा कि प्रदेश का संवैधानिक ढांचा पूरी तरह से ध्वस्त हो गया है। अध्यादेशेां से अपराध कम नहीं होने वाले। सर्वजन सुखाय और सर्वजन हिताय का नारा देने वाली यह सरकार जन-जन लुटाय सर्वजन पिटाय पर काम कर रही है।  श्री नकवी ने कहा कि बसपा सरकार के कई प्रमुख मन्त्री हत्या जैसे गम्भीर आरोपों के घेरे में हैं। सरकार ने कई मन्त्रियां को क्लीन चिट दे दिए। कई को न्यायालय से सजा और कई विधायक जेल में हैं और मुकदमें चल रहे हैं। श्री नकवी ने कहा कि चौतरफा जनआक्रोश से बौखलाई, घबराई बसपा सरकार बड़े पैमाने पर विरोधियों के खिलाफ खतरनाक साजिश रच रही है। ऐसे हालात में जिस प्रदेश में कानून का राज खत्म हो गया हो साजिशों और ‘ाडयन्त्रों का बोलबाला हो ऐसे सरकार को एक पल भी रहना देश के संवैधानिक और लोकतान्त्रिक व्यवस्था को सीधी चुनौती है।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment